जेल भेजा:राजस्थान हाईकोर्ट में फर्जी रिट लगाने के आरोप में एडवोकेट को भेजा जेल

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उच्च न्यायालय पीठ के फर्जी आदेश तैयार कर वायरल करने वाले एडवोकेट व काश्तकार को पुलिस ने मंगलवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। आदेश पर लगी सील पुलिस को नहीं मिली है। इसकी तलाश की जा रही है। फर्जी आदेश तैयार कर सोशल मीडिया पर वायरल करने के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। हाल ही में कोरोना गाइडलाइन को लेकर सोशल मीडिया पर गृह विभाग का एक आदेश वायरल हुआ था। उसमें आगामी आदेशों तक स्कूल बंद कराने को कहा गया था। उस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

थानाधिकारी विक्रम सिंह ने बताया कि एडवोकेट प्रतीक मिश्रा निवासी इटावा ने फर्जी रिट लगाने की साजिश रची थी। उन्होंने सबसे पहले यूपी के काश्तकारों को तैयार किया। उन्हें जयपुर के आसपास के इलाकों में उनकी दादालाई संपति होने का प्रलोभन दिया। प्रतीक ने 2018 में जयपुर आसपास में सरकारी जमीनों पर हक जताने वाले विनोद कुमार, वीना देवी, जब्बार सिंह, सुरेंद्र सिंह, विनोद कुमार, मुनेश कुमार, उमेश कुमार, महेंद्री, वीरेश सिंह, संजीव कुमार बनाम सरकार की अलग-अलग 10 रिट लगाई।

इसके बाद 14 जून को दलपत सिंह सोलंकी, निजी सचिव, राजस्थान उच्च न्यायालय के मोबाइल पर हाईकोर्ट के एडवोकेट द्वारा एक आदेश की कॉपी भेजी गई। आदेश में सभी लोगों को पारित किया जाना बताया गया। इस आदेश की जब जयपुर हाईकोर्ट द्वारा जांच की गई तो यह फर्जी निकला।

खबरें और भी हैं...