पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • After 21 Months In The State, Ban On Transfer Of Government Employees Removed, Apply Online Between July 14 And August 14

कर्मचारियों को राहत:प्रदेश में 21 महीने बाद सरकारी कर्मियों के ट्रांसफर से बैन हटा, 14 जुलाई से 14 अगस्त के बीच ऑनलाइन आवेदन दें

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षा विभाग ने पिछले साल भी तबादले के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे थे। तब 36,803 शिक्षक कर्मचारियों ने ऑनलाइन आवेदन किया था। मगर आज तक उनके तबादले नहीं हुए। - Dainik Bhaskar
शिक्षा विभाग ने पिछले साल भी तबादले के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे थे। तब 36,803 शिक्षक कर्मचारियों ने ऑनलाइन आवेदन किया था। मगर आज तक उनके तबादले नहीं हुए।

राजस्थान के 7 लाख सरकारी कर्मचारियों को राहत देने वाली खबर है। कांग्रेस में चल रही सियासी उठापटक के बीच राज्य सरकार ने 21 महीने 13 दिन बाद से सरकारी कर्मचारियाें और अधिकारियाें के तबादलाें पर लगी पाबंदी एक महीने के लिए हटा दी है। प्रशासनिक सुधार विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार 14 जुलाई से 14 अगस्त के बीच सभी विभागाें की वेबसाइट के जरिए स्थानांतरण के लिए ऑनलाइन आवेदन करने का प्रावधान किया गया है।

खास यह है कि आवेदन करने के लिए व्यक्तिगत रूप से किसी भी कार्मिक काे उपस्थित नहीं हाेना हाेगा। न ही संबंधित विभाग किसी भी कागजी आवेदन पत्र पर विचार करेगा। राज्य सरकार के सरकारी निगमाें, निकायाें, और मंडलाें में भी प्रशासनिक सुधार विभाग का यह आदेश लागू हाेगा। इनमें भी कर्मचारियाें की अच्छी खासी संख्या है। इस कदम से सात लाख से अधिक सरकारी मुलाजिम किसी न किसी रूप से प्रभावित हाेंगे।

सियासी दबाव में तो फैसला नहीं...

क्योंकि विधायक कह रहे थे कि ट्रांसफर तक नहीं करवा पा रहे

राज्य में सत्ता बदलने के बाद 10 सितंबर 2019 से 30 सितंबर 2019 के बीच तबादलाें पर राेक हटा ली गई थी। उस दाैरान बड़े पैमाने पर तबादले किए गए थे। कांग्रेस और निर्दलीय विधायकाें की सिफारिश पर सबसे अधिक कार्मिकों काे इधर से उधर किया गया था। हालांकि, फिर भी शिक्षा विभाग में कुछ तबादले नहीं हाे पाए। पिछले एक साल काेराेना के कारण राज्य सरकार ने तबादलाें से राेक नहीं हटाई, जबकि इसे लेकर सियासी ताैर पर सरकार काफी दबाव में है। विधायक कहते हैं कि वे अपने क्षेत्र के लाेगाें का तबादला तक नहीं करवा पा रहे।

शिक्षक संगठन भी मांग कर रहे थे

लेकिन तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादलों को लेकर असमंजस है

तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादलों को लेकर अभी भी असमंजस बना हुआ है। शिक्षक संगठन लगातार तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादले खोलने की मांग कर रहे हैं। शिक्षा विभाग ने अभी तक इस बारे में कुछ भी नहीं कहा है। इसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशों का इंतजार किया जा रहा है। ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू होने पर ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी कि तबादले होंगे या नहीं। अंतिम बार भाजपा शासन में 2018 में तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादले खोले गए थे। इसके बाद से इन शिक्षकों को तबादलों का इंतजार है।

आगे क्या? हर विभाग काे तबादले के लिए जारी करने होंगे शेड्यूल

सरकार के हर विभाग, निगम, बाेर्ड व निकायाें काे तबादले करने के लिए शेड्यूल जारी करने हाेंगे। कब से कब तक ऑनलाइन आवेदन करने हाेंगे। कब तक आवेदन पर विचार होगा और कब तक तबादला आदेश जारी होंगे। आवेदन के लिए एक फाॅर्मेट बनाना हाेगा, जिसके जरिए कार्मिक आवेदन कर सकें।

ऑनलाइन आवेदन के लिए शिक्षा विभाग टाइम टेबल जारी करेगा। पिछली बार की तरह इस बार भी शाला दर्पण पोर्टल से तबादले के आवेदन लिए जाएंगे। शिक्षा विभाग ने पिछले साल भी तबादले के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे थे। तब 36,803 शिक्षक कर्मचारियों ने ऑनलाइन आवेदन किया था। मगर आज तक उनके तबादले नहीं हुए।