• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • After Temples, Now For The First Time In Jama Masjid, Works Worth Rs 2.26 Crore Will Be Done, But The Focus Is Not On Heritage... On New Construction

स्मार्ट सिटी की धार्मिक यात्रा:मंदिरों के बाद अब पहली बार जामा मस्जिद में होंगे 2.26 करोड़ रुपए के काम, मगर फोकस हेरिटेज पर नहीं...नए निर्माण पर

जयपुर2 महीने पहलेलेखक: महेश शर्मा
  • कॉपी लिंक
मस्जिद: पुराना स्ट्रक्चर तोड़कर फिर नया बनाया जाएगा। - Dainik Bhaskar
मस्जिद: पुराना स्ट्रक्चर तोड़कर फिर नया बनाया जाएगा।

शहरी विकास के लिए बना ‘स्मार्ट सिटी मिशन’ सियासी गलियारों के बाद अब धार्मिक यात्रा पर है। मिशन के काम विधानसभा, राजभवन के बाद अब मंदिर-मस्जिद में सामंजस्य बैठाने पहुंच गए हैं। 6 ऐतिहासिक मंदिरों में 11 करोड़ के काम शुरू कराने के बाद स्मार्ट सिटी बजट से जौहरी बाजार जामा-मस्जिद में काम होंगे। यहां 2.26 करोड़ से ‘रिनोवेशन’ फाइनल हैं। विधायक अमीन कागजी की सिफारिश पर प्रोजेक्ट बना, जिसके लिए उन्होंने पिछले दिनों अधिकारियों के साथ विजिट किया था। मंदिरों में काम के दौरान हेरिटेज वैल्यू पर खास फोकस है। हालांकि मस्जिद में काम के लिए यह शर्त खारिज की गई है। मस्जिद के काम की सूची में छत व बेसमेंट की फ्लोरिंग बदलेगी।

मस्जिद: पुराना स्ट्रक्चर तोड़कर फिर नया बनाया जाएगा

सभी फ्लोर पर शू रैक्स में ब्लैक ग्रेनाइट लगेगा। पेंट-पुट्‌टी, स्प्लिट एसी, इलेक्ट्रिक वर्क, ऑयल पेंटिंग, सोलर पैनल, फॉल्स सीलिंग, फर्नीचर के काम होंगे। निर्देशों में पहले नंबर पर ही पुराना स्ट्रक्चर तोड़ने की बात लिखी है।

मंदिर: हेरिटेज वैल्यू बचाकर चूना-सुर्खी के काम

फरवरी 2020 में त्रिपोलिया स्थित बृजनिधि, चौड़ा रास्ता के ताड़केश्वर और सिरहड्योडी के कल्किजी मंदिर, मार्च 2020 में बड़ी चौपड़ लक्ष्मीनारायण जी, पुरानी बस्ती गोपीनाथजी और गणगौरी बाजार के राधाकिशनजी मंदिर में काम शुरू किए गए हैं। कालान्तर में जहां कहीं सीमेंट लगा भी दी गई, उसे हटाकर चूना-सुर्खी के काम हो रहे हैं। बाजारों आदि में भी हेरिटेज वेल्यू का ध्यान रखा जा रहा है।

सदन-राजभवन: 21 करोड़ रुपए के काम हुए पास

स्मार्ट सिटी मिशन के तहत विधानसभा में 13 करोड़ रुपए से डिजिटल म्यूजियम बनाने के साथ 8.16 करोड़ से राजभवन में सौंदर्यीकरण और विकास के काम पास किए हैं। काम के पीछे टूरिज्म विकसित करने की बात है जबकि मूल पर्यटन स्थलों की बदहाली पर मिशन चुप है।

स्मार्ट सिटी के असल उद्देश्य तो ये थे...

  • ठोस कचरा प्रबंधन
  • साफ पानी के साथ बिजली की आपूर्ति
  • सुचारू ट्रैफिक सिस्टम
  • पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बेहतर बनाना
  • किफायती आवास, खासकर गरीबों को छत
  • आईटी कनेक्टिविटी व ई-गर्वनेंस
  • सभी बिलों का एक जगह भुगतान
  • स्वास्थ्य और शिक्षा सेवाओं की बेहतरी
  • क्राइम कंट्रोल के लिए अपराधियों का डाटा

मंदिर-मस्जिद के अलावा अन्य धार्मिक स्थल में भी कुछ करेंगे?
मस्जिद में रिनोवेशन होना हैं। टेंडर जल्द होंगे। और किसी धार्मिक स्थल में फिलहाल प्लान नहीं है।-अवधेश मीना, सीईओ, स्मार्ट सिटी

मस्जिद में काम करा रहे हैं। प्रपोजल बना है। रिनोवेशन के काम हैं, जो सब जगह ही करा रहे हैं। मंदिरों में भी कराया है। सभी जगह होने चाहिए। मंदिरों में भी मैंने ही कराए हैं। -अमीन कागजी, संबंधित विधायक, किशनपोल

खबरें और भी हैं...