• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • After The Election Campaign, Two MLAs And Three Former Ministers Lost Their Lives To Corona, Half The Cabinet Was Infected

हे सरकार!:चुनाव और प्रचार में 9 नेताओं को खो चुके, तीसरी लहर का अलर्ट, इसके बाद भी कांग्रेस-बीजेपी की दो रैलियां

जयपुर8 महीने पहलेलेखक: रणवीर चौधरी
  • कॉपी लिंक

भारत में ओमिक्रॉन की एंट्री हो चुकी है। तीसरी लहर की आशंका है। सीएम अशोक गहलोत खुद तीसरी लहर को लेकर चिंता जता चुके हैं। इन सबके बीच राजस्थान में भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां दो बड़े राजनीतक कार्यक्रमों में हजारों की भीड़ जुटाने की तैयारी कर रही हैं। 5 दिसंबर को भाजपा जनप्रतिनिधि सम्मेलन के नाम पर हजारों नेताओं-कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटा रही है। उसके 7 दिन बाद कांग्रेस एक बड़ी रैली करेगी। इन दोनों में हजारों लोग मौजूद रहेंगे। लेकिन, सरकार राजस्थान में कोरोना का ट्रेंड भूल गई है। प्रदेश में जब भी चुनाव की रैलियों में भीड़ जुटी कोरोना का बड़ा अटैक हुआ है। पिछले साल पंचायत व निगम चुनाव प्रचार में कोरोना भी खूब फैला था। इसमें प्रदेश के चार विधायक, एक पूर्व सांसद व तीन पूर्व मंत्रियों कीकोरोना से मौत हुई।

प्रदेश में हालत अब भी नहीं सुधरे हैं। नवंबर महीने में 365 मरीज सामने आ चुके हैं। पिछले महीने ही सरकार ने 100 प्रतिशत क्षमता के साथ सभी स्कूल खोलने के आदेश दिए। इसके दो सप्ताह के बाद ही 24 से ज्यादा बच्चे संक्रमित मिले। ऐसे हालात में राजस्थान में सियासी ताकत दिखाने के लिए दोनों ही पार्टियां पूरा जोर लगा रही हैं। इनमें पड़ोसी राज्यों यूपी, एमपी, हरियाणा, पंजाब, गुजरात से बड़ी संख्या में लोग जयपुर आएंगे। यह तय है कि प्रदेश में एक बार फिर से कोरोना के केस बढ़ेंगे।

सरकार बस ये ट्रेंड देख लें, प्रदेश में कैसे और कब कोरोना फैला...

कोटा व चित्तौड़गढ़ चुनाव प्रचार में सांसद व पूर्व मंत्री हुए संक्रमित
पिछले साल नवंबर महीने में कोटा व चित्तौड़गढ़ में नगर निगम चुनाव प्रचार के दौरान चित्तौड़गढ़ सांसद सीपी जोशी व पूर्व मंत्री किरण माहेश्वरी कोरोना संक्रमित हुए थे, जोशी ने कोटा संभाग प्रभारी होने के कारण 7 दिन कोटा नगर निगम चुनाव प्रचार में जुटे थे। इस दौरान वे चित्तौड़गढ़ में पंचायत चुनाव को लेकर जिला भाजपा की बैठक में भी शामिल हुए थे। किरण माहेश्वरी की बाद में कोरोना से मौत हो गई थी।

हल्ला बोल कार्यक्रम के बाद राठौड़ पॉजिटिव हुए
भाजपा के हल्ला बोल कार्यक्रम के दौरान भाजपा के उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ फील्ड में रहे थे।31 अगस्त से 1 सिंतबर तक हनुमानगढ़ जिले के दौरे पर थे। 2 सितंबर को ट्विट कर पॉजिटिव की जानकारी दी। निगम व पंचायत चुनाव में पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला संक्रमित हुए। भाजपा देहात महामंत्री जितेन्द्र शर्मा कोरोना की चपेट में आए।

मुख्यमंत्री व आधी कैबिनेट कोरोना संक्रमित हुई
सीएम से लेकर कैबिनेट के अधिकांश मंत्री कोरोना संक्रमित हुए। सीएम अशोक गहलोत, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा, मंत्री हेमाराम चौधरी, राज्य मंत्री सुभाष गर्ग, विधायक अमीन कागजी, कृष्णा पूनियां, दीपेंद्र सिंह शेखावत, पीआर मीणा, रमेश मीणा, रामनिवास गावड़िया, रफीक खान, राजेंद्र पारीक, दानिश अबरार, पानाचंद मेघवाल, नरेंद्र बुढ़ानिया, मदन दिलावर, राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा, मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, मंत्री विश्वेंद्र सिंह, विधायक अशोक लाहोटी, पूर्व मंत्री कालीचरण सर्राफ, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी, पूर्व मंत्री गोपाल बाहेती और बाल आयोग की चेयरमैन संगीता बेनीवाल कोरोना संक्रमित हुए।

केंद्रीय मंत्री व सांसद संक्रमित
केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, कैलाश चौधरी, अर्जुनराम मेघवाल, किरोड़ी लाल मीणा, राजेंद्र गहलोत, हनुमान बैनीवाल, सांसद सुभाष बहेड़िया भी कोरोना की चपेट में आए।

चार विधायक, एक पूर्व सांसद व तीन पूर्व मंत्रियों की जान गई
कोरोना से राजसमंद से भाजपा की विधायक किरण माहेश्वरी, विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत, गौतम लाल मीणा, विधायक कैलाश त्रिवेदी,पूर्व सांसद महावीर भगोरा, पूर्व मंत्री मानिकचंद्र सुराणा, हरिसिंह, ललित भाटी की मौत हो गई।

अब दोबारा यहीं ट्रेंड राजस्थान में, मैच के बाद बढ़े केस
राजस्थान में कोरोना फैलने का दोबार यहीं ट्रेंड पकड़ रहा है। जयपुर में 17 नवंबर को भारत व न्यूजीलैंड के बीच हुए क्रिकेट मैच में 35 हजार दर्शक आए थे। इसके कुछ ही दिन बाद जयपुर में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई थी। प्रदेश में अक्टूबर में 102 कोरोना संक्रमित मरीज थे। नवंबर में मैच के बाद संक्रमित मरीज तीन गुणा बढ़कर 365 और एक की मौत हो गई।

स्कूल खुलते ही बच्चों भी संक्रमित हुए
प्रदेश में 15 नवंबर से शत प्रतिशत क्षमता से स्कूल खुलने के बाद बच्चों में भी कोरोना संक्रमण के केस आने लगे। जयपुर में दो सप्ताह में ही 35 बच्चे पॉजिटिव आए। इसके बाद अजमेर और भीलवाड़ा में भी बच्चे पॉजिटिव मिले।

पंचायत चुनाव के बाद मरीजों की संख्या 9 लाख तक पहुंची
प्रदेश में 26 अगस्त से 4 सितंबर तक 6 जिलों में जिला परिषद व पंचायत समिति के चुनाव हुए। चुनाव के बाद 15 सितंबर तक प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या 9 लाख 54 हजार 226 पहुंच गई है। इनमें जयपुर में संक्रमित मरीजों संख्या 1 लाख 87 हजार 726 पहुंच गई।

निगम चुनाव के बाद नाइट कर्फ्यू लगाना पड़ा
राजस्थान के तीन शहरों जयपुर, कोटा और जोधपुर में छह नगर निगमों के चुनाव 29 अक्टूबर और 1 नवंबर को दो चरणों में हुए थे। प्रदेश में 23 नवंबर तक 3232 संक्रमित केस सामने आए। इनमें जयपुर से 599 पॉजिटिव केस सामने आए। महज 10 दिनों में जयपुर में 5180 पॉजिटिव केस आए। प्रशासन को यहां 22 नवंबर से रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू करना पड़ा था।