जयपुर की लहरिया पार्टी के बोल्ड फोटो में फंसे मंत्रीजी:घर तक फोटो पहुंचने के बाद मंत्रीजी सन्नाटे में, महिला IAS के चैंबर में संदिग्ध कौन था?

जयपुरएक वर्ष पहलेलेखक: गोवर्धन चौधरी

सरकार के चर्चित मंत्री जयपुर की एक लहरिया पार्टी में बोल्ड फोटो शूट में फंस गए। सत्ताधारी पार्टी की महिला कार्यकर्ता का आयोजन था। बतौर मुख्य अतिथि मंत्री मौजूद थे। गेस्ट के साथ कौन फोटो नहीं खिंचवाए? ‘बोल्ड लुक’ मॉडल के साथ भी कुछ फोटो खिंचवा लिए। अब क्या है। फोटो ग्रुप्स में शेयर होते ही हलचल मच गई। यह फोटो कुछ महिला कार्यकर्ताओं को रास नहीं आए तो कुछ बुरा क्या है, इस विवाद में उतर आईं। ग्रुप्स में बहस-झगड़े तक तो ठीक था। मंत्रीजी सन्नाटे में थे तभी किसी ने बात घर तक पहुंचा दी। कड़क-बेघड़क मंत्रीजी इसके बाद से पछता रहे हैं। कई लोगों को कह चुके इससे अच्छा तो नहीं जाता, लेकिन बीत गई सो तो बात गई।

किस मकसद से बिना एंट्री घुस आया

सचिवालय में पिछले दिनों एक चर्चित महिला आईएएस के चैंबर में एक अनजान व्यक्ति के घुसने के मामले को रफा-दफा किया जा चुका है। सुबह दफ्तर खुलने के कुछ देर बाद महिला आईएएस जैसे ही चैंबर में घुसी, चैंबर के रेस्ट रूम में एक व्यक्ति को पहले से बैठे देख पूछताछ शुरू की। सिक्योरिटी और पुलिस पहुंची, संदिग्ध को पूछताछ के बाद पुलिस ने छोड़ दिया। एक महिला आईएएस के चैंबर में कोई व्यक्ति उनके आने से पहले बिना पास कैसे घुस गया, उसका मकसद क्या था, वह क्यों आया था और बिना पास सचिवालय में एंट्री कैसे कर गया? इन तमाम सवालों के अब जवाब तलाशे जा रहे हैं। पुलिस और सिक्योरिटी ने मामले को रफा दफा कर दिया है। आज तक इस बात का जवाब नहीं मिला कि वह व्यक्ति कौन था और उसका मकसद क्या था?

पॉवर कॉरिडोर्स का स्वयंभू मैसेंजर

ब्यूरोक्रेसी का बड़ा ऑफिस मेल मुलाकात से लेकर शिकायतें सुनने तक खूब उदार है, यहां पीड़ित से लेकर पावर सीकर्स तक बेधड़क आते हैं, सबकी सुनी भी जाती है। इसके पीछे ब्यूरोक्रेसी के मुखिया की उदारता बड़ी वजह है, लेकिन उदारता का गलत इस्तेमाल करने वालों की भी कमी नहीं है। सचिवालय के पावर कॉरिडोर्स में एक स्वयंभू मैसेंजर कम मैनेजर का मूवमेंट सबकी जुबां पर है। स्वयंभू मैसेंजर ने सरेआम बड़े ऑफिस से कोई भी काम करवाने की डींग हांककर कई को प्रभावित कर लिया है। इन महाशय के चक्कर में अब बड़े ऑफिस को लेकर चर्चा होने लगी है, लेकिन असलियत अभी सही जगह पहुंची नहीं है। पावर कॉरिडोर्स में मुलाकातों और बैठकों से बहुत कुछ तय हो जाता है।

खानदानी लोकतंत्र खतरे में आया तो नेताजी भन्नाए

सरकार के मुखिया के खासमखास नेताजी इन दिनों अपनों पर ही भन्नाए हुए हैं। नेताजी ने वीडियो जारी करके मुखिया के ही दूसरे नजदीकी नेता पर टिकटों में गड़बड़ी करने के आरोप लगाकर जमकर भड़ास निकाली। सियासी घर का झगड़ा इस तरह बाहर आया देख हर कोई चकित था। इस पूरी घटना की पड़ताल में दूसरी बात निकल कर आई। मुखिया के खास नेताजी की बेटी और पोती को तो टिकट मिल गया, लेकिन उनकी सिफारिश पर समधी और पुत्रवधू को टिकट नहीं मिला। प्रभारी की इस जुर्रत पर मुखिया के खास नेताजी भन्ना गए, खानदानी लोकतंत्र खतरे में जो आ गया था। एक जानकार ने इस पर रोचक कमेंट किया-ऐसे ही सगा कांग्रेस थोड़े ही कहते हैं।

टिकट देकर छीनने की नई कला

राजनीति में सियासी चालें कभी खत्म नहीं होतीं, मामला चुनाव में टिकट का हो तो चालें और कुटिल हो जाती हैं। मामला गोविंदगढ़ पंचायत समिति में सामने आया। प्रभारी ने जिस उम्मीदवार के लिए सिफारिश की उस पर सरकार के मुखिया के नजदीकी चौमूं के हारे हुए पूर्व विधायक सहमत नहीं थे। हारे हुए विधायक उम्मीदवार ने पूर्व मंत्री के रिश्तेदार को टिकट दे दिया, लेकिन सिंबल में जाति के कॉलम में यादव की जगह जाट लिख दिया। स्क्रूटनी में सिंबल रिजेक्ट हो गया। उम्मीदवार भी हार मानने वाला नहीं था, उसने बागी ताल ठोंक दी।

भगीरथ की उपमा देने वाले आईएएस की मल्टी ड्रिंक मशीन

सरकार के मुखिया को भगीरथ की उपमा देने वाले आईएएस इन दिनों उनके ऑफिस में आने वालों को टाइम टेबल के हिसाब से ड्रिंक सर्व करते हैं। सचिवालय के दफ्तर में इन साहब ने मल्टी ड्रिक मेकर मशीन लगाई है। मशीन से कब कौन ड्रिंक पिलाना है उसके हिसाब से टाइम तय है। अब यह आपके जाने के टाइम पर निर्भर करेगा कि आपको गर्म पानी, फ्लेवर्ड टी, लेमन टी, टामेटो सूप में से क्या मिलेगा? ये आईएएस यूडीएच मंत्री की फाइल को लाइफ के रूप में देखने के विजन को भी रख चुके हैं।

बिग बॉस देख रहे हैं उर्फ जागता राजा

पूर्व डिप्टी सीएम के बंगले पर हर हलचल पर निगरानी है। पिछले दिनों कुछ एमएलए उनसे मिलने गए। मुखियाजी ने उनकी पूर्व डिप्टी सीएम से हुई मुलाकात का जिक्र कर दिया। अब दोहरी निष्ठाओं वाले नेताओं के सामने संकट है। मिलने जाए तो बडे घर तक सूचना चली जाती है। चुटकियां ली जा रही है कि ‘जागता राजा’ है। बिग बॉस सब देख रहे है।

(राजनीति औऱ ब्यूरोक्रेसी जुड़े रोचक किस्से/कानाफूसी पढ़ें हर शनिवार को)

इलेस्ट्रेशन : संजय डिमरी, जयपुर

मंत्रिमंडल विस्तार सियासी पनौती तो नहीं:संकट मोचक ‘बड़े मंत्री’ को जूनियर ने दिखाई बिजली कटौती की रियलिटी; सरकार बचाने वाले MLA का नाम घोटाले में आया तो ACS कुछ नहीं कर पाए

राजनीति और अफसरशाही की अंदर की बातें:राजस्थान के सियासी आसमान में आशंका के बादल, फैसले की गर्जना, बदलाव की बाढ़ में कद और पद बहने का डर

खबरें और भी हैं...