• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Allegations Of Imposition Of Three Agricultural Laws On The Center And Tampering With Labor Laws, Kisan Mazdoor Jan Morcha Will Take To The Streets In Protest

भारत बंद को लेकर किसानों ने जयपुर में निकाली रैली:परकोटे में ट्रैक्टर रैली के साथ निकला मार्च, कांग्रेस ने भी दिया भारत बन्द को समर्थन, राजस्थान में बन्द का मिला जुला असर

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसान-मजदूर संगठनों का भारत बन्द । - Dainik Bhaskar
किसान-मजदूर संगठनों का भारत बन्द ।

किसान-मजदूर संगठनों ने भारत बन्द के तहत सड़क पर उतरकर रैली निकाली। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राजाराम मील समेत मोर्चा के पदाधिकारियों ने जयपुर में ट्रैक्टर की रैली निकाली। साथ ही परकोटे में मार्च निकालकर बाजार बन्द करवाए। बन्द का मिला जुला असर देखने को मिला। जब रैली निकली उस वक्त बाजार बन्द रहे। हालांकि कॉलोनियों और भीतरी इलाकों में दुकानें खुली रहीं।

गवर्नमेंट होस्टल से परकोटा होकर कलक्ट्रेट तक रैली
गवर्नमेंट होस्टल से परकोटा होकर कलक्ट्रेट तक रैली

गवर्नमेंट होस्टल पर शहीद स्मारक से सभी किसान,मजदूर, छात्र, युवा, महिला सामाजिक संगठन रैली निकालते हुए एमआई रोड, सांगानेरी गेट, बड़ी चौपड़, छोटी चौपड़, चांदपोल बाजार, संजय सर्किल,सिंधी कैंप बस स्टैंड,खासा कोठी सर्किल से होते हुए जिला कलेक्ट्रेट पर पहुंचे। स्टूडेंट्स और युवाओं की टोलियां बाजारों में व्यापारियों से बाजार बन्द करवाने की अपील करती देखी गई।

एमआई रोड से निकली रैली
एमआई रोड से निकली रैली

रैली आते देखकर व्यापारियों ने बन्द किए बाजार

जब किसान और मजदूर संगठनों की रैली एमआई रोड पर पांचबत्ती चौराहे पर पहुंची, तो कई व्यापारी अपनी दुकानें बन्द करने लगे। भारत बन्द के लिए निकाली जा रही रैली की भीड़ और नारेबाजी का माहौल देखकर देखते ही देखते शहर के बाजारा बन्द हो गए।

बन्द हुए जयपुर के बाजार
बन्द हुए जयपुर के बाजार

हमारी फसलों और नस्लों को बचाने की लड़ाई है- राजाराम मील

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राजाराम मील ने कहा है कि यह आन्दोलन सिर्फ किसानों की मांगों के लिए ही नहीं है, बल्कि यह आंदोलन देशहित और आम जनता के हितों से जुड़ा हुआ जन आंदोलन बन चुका है। यह हमारी फसलों और आने वाली नस्लों को बचाने की लड़ाई है। देश के संविधान, लोकतन्त्र और लोकतांत्रिक अधिकारों को बचाने का यह आंदोलन है।

शंखनाद करता कांग्रेस सेवादल कार्यकर्ता
शंखनाद करता कांग्रेस सेवादल कार्यकर्ता

कांग्रेस ने भी बन्द को दिया समर्थन

कांग्रेस पार्टी ने भी आज के भारत बन्द को अपना समर्थन दिया है। बन्द के दौरान कांग्रेस सेवादल और यूथ कांग्रेस के भी कई कार्यकर्ता रैली और आंदोलन में शामिल हुए। सेवादल की ओर से रैली का शंखनाद किया गया। राजस्थान पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि आज भारत बन्द को कांग्रेस पूरा समर्थन करती है। केन्द्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आज भारत बन्द रखा गया है। डोटससरा ने कहा है कि लोकतंत्र में तानाशाह सोच से फैसले नहीं किए जाते हैं। केन्द्र की भाजपा की नीतियां और फैसलें किसी तानाशाह शासक से प्रभावित लगते हैं। किसान कोरोना जैसी भयानक बीमारी की पीड़ा में भी आंदोलन कर रहा है,फिर भी केन्द्र सरकार उसे सुनने को तैयार नहीं है।देश में मन की बात हो सकती है। विदेशी मित्रों और हम दो-हमारे दो के हितों की बात हो सकती है। लेकिन केन्द्र के पास किसानों की पीड़ा सुनने का समय नहीं है। कांग्रेस किसान के हर फैसले में उसके साथ खड़ी है। आज बन्द को समर्थन करना किसान के हक की मांग का समर्थन करना है।

एटक ट्रेड यूनियन भी आंदोलन में साथ
एटक ट्रेड यूनियन भी आंदोलन में साथ

संयुक्त किसान-मजदूर जन मोर्चा का आरोप

संयुक्त किसान-मजदूर जन मोर्चा ने आरोप लगाया है कि देश के अन्नदाता किसान पिछले 10 महीने से दिल्ली के चारों ओर सभी तरह की मुसीबतों को झेलते हुए मोर्चा लगा कर बैठे हुए हैं। तेज सर्दी, गर्मी, आंधी, तूफान, बारिश के मौसम के बीच भी किसान सड़कों पर डटे रहे। केवल अपनी जायज मांगों के लिए आंदोलन करते हुए अब तक 625 से ज्यादा किसान अपनी शहादत दे चुके हैं। इसलिए अब सरकार को जगाने और अपनी एकता की ताकत दिखाने के लिए भारत बन्द किया है।

केन्द्र सरकार पर कॉर्पोरेट घरानों के इशारे पर कानून बदलने के आरोप

मोर्चा ने आरोप लगाया है कि केन्द्र सरकार देशी-विदेशी कॉर्पोरेट घरानों के इशारे पर सिर्फ उनका मुनाफा बढ़ाने के लिए सारे कानून बदलने में लगी हुई है। तीनों कृषि-कानून ,मजदूरों के श्रम कानूनों को बदल कर चार लेबर-कोड में बदलने समेत सारी नीतियों का मकसद बड़े पूंजीपति आकाओं के अकूत मुनाफे बढ़ाने के लिए हैं। केन्द्र सरकार जनता कोरोना महामारी के समय में भी इस तरह के जनविरोधी कानूनों को अध्यादेशों और संसदीय मर्यादाओं की धज्जियां उड़ाते हुए लेकर आई है।

कई संगठन भारत बन्द में शामिल हुए
कई संगठन भारत बन्द में शामिल हुए

कई संगठनों ने दिया है भारत बन्द को समर्थन

अखिल भारतीय किसान सभा के संयुक्त सचिव डॉ.संजय माधव, डॉ. सी.बी.यादव, किसान आर्मी किसान एकता मिशन के अध्यक्ष डॉ.सौरभ राठौड़, समग्र सेवा संघ के सवाई सिंह, भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महासचिव के.सी.घुमरिया, एटक के प्रदेश महासचिव कुणाल रावत,समाजवादी किसान मोर्चा के शैलेन्द्र अवस्थी, एनएफआईडब्ल्यू से सुनीता चतुर्वेदी, राजस्थान किसान सभा के रमेश शर्मा, किसान यूनियन के चैनाराम चौधरी समेत किसान मजदूर जन आंदोलन की अगुवाई करने वाले नेताओं का इस बन्द को समर्थन है।

खबरें और भी हैं...