30 बच्चों के शव तांत्रिक ने जब श्मशान से निकाले:मालामाल होने के लिए दी 11 साल के मासूम की बलि, युवती से रेप, विधानसभा में गूंजा था मसला

जयपुर8 महीने पहलेलेखक: विक्रम सिंह सोलंकी

पूरे राजस्थान में तांत्रिकों का जाल फैला है। विज्ञान के युग में भी कई लोग इन पर भरोसा करते हैं। इसी भरोसे में बहुतों की जान जा चुकी है। खासतौर पर महिलाएं और बच्चे इन ढोंगी तांत्रिकों के निशाने पर रहते हैं। ये सिद्धि पाने के लिए बच्चों की नरबलि देने से भी नहीं कतराते हैं। रेप से लेकर, श्मशान से मासूमों के शव निकालने तक की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

कहीं हुई हत्या तो कहीं बच्चे की जान पर बन आई

टोना-टोटका कराने से परेशान बेटे ने 4-5 दिन पहले पिता की हत्या कर दी थी। मामला दौसा के मेहंदीपुर बालाजी के पास का है। राजसमंद में 13 महीने के बीमार बच्चे को परिजन भोपे (तांत्रिक) के पास ले गए। उसके शरीर में 2 ग्राम ही ब्लड बचा था। उसकी हालत बिगड़ी तो सरकारी अस्पताल के एक डॉक्टर ने अपना खून देकर जान बचाई। ये सब तो उदाहरण भर है।

अंधविश्वास की आंधी में उजड़ गए कई परिवार

विज्ञान के इस युग में भी राजस्थान के कुछ इलाकों से अंधविश्वास की पट्‌टी हटाए नहीं हट रही। रातों-रात अमीर बनने का लालच, बेटे की चाहत और बदला लेने का गुस्सा। ये सब चुटकियों में हासिल करने के लिए आज भी लोग तांत्रिकों के पास जाते हैं। इसका अंजाम इतना भयानक होता है कि पूरा परिवार उजड़ जाता है। अंधविश्वास का जिन्न तो विधानसभा तक पहुंच चुका है।

कहीं चढ़ा दी मासूमों की बलि तो कहीं गर्म सरिये से दागा

तांत्रिकों ने तो अपनी कथित क्रियाओं से कई मासूमों की बलि चढ़ा दी। गंभीर बीमारी से छुटकारा दिलाने के नाम पर गर्म सरिया से बच्चों को दागा जाता है। अधमरा कर दिया जाता है। एक तांत्रिक ने तो अमीर बनने के लिए श्मशान में दबे 30 बच्चों के शव कब्र से बाहर निकाल डाले। करोड़पति बनने की चाह में 11 साल के बच्चे की बलि दे दी गई।

हर साल 200 से ज्यादा मामले, 50 लोग गंवाते हैं जान

पड़ताल में सामने आया कि राजस्थान में हर साल 200 से ज्यादा ऐसे मामले आते हैं। टोने-टोटकों की आड़ में 50 से ज्यादा लोगों को जान देनी पड़ती है। भीलवाड़ा, अलवर, चितौड़गढ़, करौली, बांसवाड़ा, डूंगरपुर तो तांत्रिकों के गढ़ माने जाते हैं। इस बार संडे बिग स्टोरी में पढ़ें, राजस्थान के तांत्रिकों ने किस तरह किसी का बेटा छीना, तो किसी का घर उजाड़ा।

ग्राफिक्स : तरुण शर्मा