पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ये राजधानी है:ओवरस्पीड कार रोकने पर कांस्टेबल को रौंदने की कोशिश, बोनट पर गिरने के बाद भी 1 किमी घुमाता रहा

जयपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तेज रफ्तार कार दिनदहाड़े शहर की भीड़भाड़ वाली सड़कों पर करीब एक किलोमीटर तक कांस्टेबल को कार के बोनट पर लटकाकर बेतहाशा दौड़ती रहती है - Dainik Bhaskar
तेज रफ्तार कार दिनदहाड़े शहर की भीड़भाड़ वाली सड़कों पर करीब एक किलोमीटर तक कांस्टेबल को कार के बोनट पर लटकाकर बेतहाशा दौड़ती रहती है
  • 15 घंटे बाद भी न कार मिली, न ड्राइवर

राजस्थान की राजधानी। सचिवालय से लेकर सीएम आवास तक, सब यहीं है। बावजूद इसके सोडाला थाना इलाके में सुबह 11 बजे एक ट्रैफिक कांस्टेबल को ओवरस्पीड कार रोकने पर कुचलने की कोशिश की जाती है। तेज रफ्तार कार दिनदहाड़े शहर की भीड़भाड़ वाली सड़कों पर करीब एक किलोमीटर तक कांस्टेबल को कार के बोनट पर लटकाकर बेतहाशा दौड़ती रहती है। कार नंबर (4841) पता होने के बाद भी पुलिस रात 2 बजे तक न तो कार का पता लगा पाती है और न ही ड्राइवर का।

सीन-1; श्याम नगर सब्जी मंडी: 50 की जगह 82 किमी से दौड़ती कार को कांस्टेबल ने रोका

श्यामनगर इलाके में सब्जी मंडी चौराहे पर कांस्टेबल कृष्ण कुमार तैनात थे। वे एलिवेटेड रोड से उतरने वाले वाहनों की कैमरे से स्पीड लिमिट जांच रहे थे। 4841 नंबर की कार 82 की स्पीड में आ रही थी। जबकि लिमिट 50 है। उन्होंने कार सब्जी मंडी के पास रुकवाई।

सीन-2; श्याम नगर, अजमेर रोड: भीड़भाड़ वाली सड़क पर कई लोगों ने रोकने की कोशिश भी की

कांस्टेबल ने कार का गेट खोलने को कहा तो ड्राइवर ने नहीं खोला। जैसे ही वे कार के आगे गए तो उसने कार आगे बढ़ा दी। कांस्टेबल बोनट पर गिर गए, पर चालक ने कार रोकने की बजाय गति बढ़ा दी। रास्ते में भी उसे रोकने की कोशिश हुई, लेकिन वो नहीं रुका।

सीन-3; पुरानी चुंगी का तिराहा: कार कुछ धीमी हुई तो कांस्टेबल ने कूदकर जान बचाई

एक किमी के बाद पुरानी चुंगी के तिराहे पर जैसे ही कार कुछ धीमी हुई तो कांस्टेबल नीचे कूद गए। उन्हें कई चोटें आई हैं। कांस्टेबल को मारने की कोशिश, राजकार्य में बाधा व अन्य धाराओं में केस दर्ज कराया गया है। कार नंबर से जो एड्रेस मिला, वहां कोई नहीं था।

खबरें और भी हैं...