• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • An Eye On 59 Seats, The Core Vote Of The Dalit Adivasi Congress, Currently 32 Reserved Seats Are In The Account Of Congress.

सरकार ने झौंकी ताकत:59 सीटों पर नजर, दलित-आदिवासी कांग्रेस का कोर वोट रहा, वर्तमान में आरक्षित 32 सीटे कांग्रेस के खाते में हैं

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालोर में स्कूली छात्र की मौत के मामले में राज्य सरकार बैकफुट पर आ गई है। - Dainik Bhaskar
जालोर में स्कूली छात्र की मौत के मामले में राज्य सरकार बैकफुट पर आ गई है।

जालोर में स्कूली छात्र की मौत के मामले में राज्य सरकार बैकफुट पर आ गई है। सरकार को न केवल विपक्ष बल्कि, अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं तक की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है। कांग्रेस की एक तरह से अंदरुनी कलह भी सामने आ गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थक जहां इस मामले में सरकार की तरफ से की गई कार्रवाई के जरिए डैमेज कंट्रोल में लगे हैं। वहीं पार्टी में विरोधी खेमा सरकार पर ही सवाल खड़े कर रहा है। सीएम खुद भले ही नहीं गए, लेकिन प्रदेश अध्यक्ष सहित पार्टी के दलित मंत्रियों, विधायकों एवं नेताओं को मैदान में उतार दिया।

आरक्षित 59 सीटों में से 32 पर कांग्रेस का कब्जा है। जो फिर से सत्ता के द्वार तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण आंकड़ा है। उधर, नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने तो यहां तक कह दिया है कि जंगलराज से भी घटिया राज है प्रदेश की कांग्रेस सरकार का। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने राजस्थान सरकार को देश में सबसे अच्छी सरकार बताया है।

कांग्रेस और बढ़त चाहती है
प्रदेश में एससी के लिए 34 और एसटी के लिए 25 सीटें आरक्षित हैं। पिछले चुनाव में इन 34 दलित सीटों पर 19 कांग्रेस, 12 भाजपा, 2 आरएलपी और एक सीट निर्दलीय के खाते में गई थी। इसी तरह आदिवासियों के लिए आरक्षित 25 सीटों में से कांग्रेस ने 13, भाजपा ने 8, बीटीपी ने दो और दो निर्दलीयों ने जीती है।

7 कैबिनेट, 2 राज्य मंत्री, राजनीतिक नियुक्तियां भी
कांग्रेस ने कहा कि कांग्रेस ने दलित समुदाय से पहली बार ममता भूपेश, टीकाराम जूली, गोविंदराम मेघवाल एवं भजन लाल जाटव को कैबिनेट मंत्री बनाया। आदिवासी समाज से 3 कैबिनेट मंत्री परसादी मीणा, महेंद्रजीत मालवीय व रमेश मीणा और दो राज्य मंत्री मुरारी मीणा व अर्जुन बामनिया सरकार में हैं। राजनीतिक नियुक्तियों में भी तवज्जो दी है।

31% आबादी
प्रदेश में दोनों वर्गों की करीब 31% आबादी है। अभी अजा की जनसंख्या 17.83% के मुकाबले 17.87% और अजजा की 13.48% की तुलना में 14.82% बजट आवंटित किया गया है।

खबरें और भी हैं...