पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पायलट समर्थक विश्वेंद्र सिंह चुप, बेटा सीएम पर हमलावर:अनिरुद्ध सिंह ने सोशल मीडिया पर लिखा- राजस्थान की जनता ने सचिन पायलट के लिए वोट दिया, लेकिन गहलोत ने सीएम की कुर्सी हड़प ली

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विश्वेंद्र सिंह के साथ अनिरुद� - Dainik Bhaskar
विश्वेंद्र सिंह के साथ अनिरुद�
  • विश्वेंद्र सिंह की रणनीतिक चुप्पी, बेटा कांग्रेस और गहलोत पर लगातार हमलावर

सचिन पायलट समर्थक कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री विश्वेंद्र सिंह के पुत्र अनिरुद्ध सिंह ने फिर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर हमला बोला है। अनिरुद्ध सिंह ने सोशल मीडिया पोस्ट के ज​रिए गहलोत पर गलत तरीके से सीएम की कुर्सी हड़पने का आरोप लगाते हुए दावा किया है कि जनता ने वोट सचिन पायलट के लिए किया था। अनिरुद्ध ने राजस्थान में कोरोना के भयावह होते हाजात पर एक यूजर्स के पोस्ट का जवाब देते हुए लिखा- वास्तव में राजस्थान के लोगों ने सचिन पायलट के लिए वोट दिया था, लेकिन गहलोत ने कुर्सी हड़प ली, राजस्थान में कोविड से जुड़े सभी मुद्दों के लिए वहीं जिम्मेदार है।

अनिरुद्ध सिंह ने ​दो दिन पहले भी सोश्सल मीडिया पोस्ट के जरिए कांग्रेस में सचिन पायलट के टैलेंट को नहीं पहचानने की बात कहकर सरकार और संगठन को घेरा था। वे सचिन पायलट के पक्ष में और गहलोत के विरोध में लगतार सोशल मीडिया पर मुखर हैं। पायलट की बेकद्री का सवाल उठा वे भाजपा में जाने का संकेत भी दे चुके हैं।

बेटे का कांग्रेस-गहलोत पर लगातार प्रहार, विश्वेंद्र सिंह ने साधी चुप्पी

पिछले दिनों से जब से अनिरुद्ध सिंह लगातार कांग्रेस, राजस्थान सरकार और सीएम अशोक गहलोत पर निशाना साध रहे हैं, तब से उनके पिता और कांग्रेस विधायक विश्वेंद्र सिंह चुप हैं। अनिरुद्ध के सोशल मीडियाा पोस्ट पर विश्वेंद्र सिंह ने कोई टिप्पणी नहीं की है। सप्ताह भर पहले विश्वेंद्र सिंह अपने ट्वीटर और फेसबुक अकाउंट बंद कर चुके हैं, उसके बाद उनका बयान भी नहीं आया।

विश्वेंद्र सिंह की रणनीतिक चुप्पी और बेटा हमलावर
पिछले साल जुलाई में सचिन पायलट खेमे की बगावत के बाद पायलट को डिप्टी सीएम पद से, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्री पद से बर्खासत किया गया था। सचिन पायलट अब अपने खेमे के लोगों को फिर से मंत्री बनाने पर जोर दे रहे हैं। बताया जाता है कि विश्वेंद्र सिंह भी मंत्रिमंडल में फिर से आना चाहते हैं, उनकी रणनीतिक चुप्पी की वजह भी यही बताई जा रही है। इस बीच अनिरुद्ध की गहलोत और कांग्रेस के खिलाफ बयानबजी पर राजनीतिक हलकों में चर्चाएं हैं। पिता की रणनीतिक चुप्पी के बीच बेटे के कांग्रेस- गहलोत पर हमलावर होने पर भी कई प्रेक्षक नए समीकरणों की तरफ इशारा कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...