• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Announcement Of Medal Of Union Home Minister, Nine Police Officers Of Rajasthan Will Be Honored For Excellence In Crime Investigation

केंद्रीय गृह मंत्री के पदक की घोषणा:राजस्थान के नौ पुलिस अफसर क्राइम इंवेस्टिगेशन में उत्कृष्टता के लिए होंगे सम्मानित, IPS धर्मेंद्र सिंह और पुलिस इंस्पेक्टर अनिल डोरिया को भी मिलेगा पदक

जयपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थान के पुलिस इंस्पेक्टर अनिल डोरिया और IPS धर्मेंद्र सिंह भी होंगे केंद्रीय गृह मंत्री के पदक से सम्मानित - Dainik Bhaskar
राजस्थान के पुलिस इंस्पेक्टर अनिल डोरिया और IPS धर्मेंद्र सिंह भी होंगे केंद्रीय गृह मंत्री के पदक से सम्मानित

राजस्थान के नौ पुलिस अफसरों को केंद्रीय गृह मंत्री के पदक के लिए चुना गया है। गंभीर अपराधों का खुलासा करने में जांच में उत्कृष्टत कार्य के लिए यह पदक प्रदान किया जाता है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस साल 'केंद्रीय गृह मंत्री के पदक' के लिये आज देशभर के 152 पुलिस अधिकारियों के नामों के चयन की घोषणा की। इन 152 में से 9 पुलिस अफसर राजस्थान के शामिल है।

इनके अतिरिक्त सीबीआई के 15, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र पुलिस के 11-11, उत्तर प्रदेश पुलिस के 10, केरल और राजस्थान के 9-9, तमिलनाडु पुलिस के 8, बिहार से 07, गुजरात, कर्नाटक और दिल्ली पुलिस से 6-6 और शेष अन्य राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से हैं। गृह मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि इनमें 28 महिला पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं। यह पदक स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रदान किया जाएगा।

राजस्थान के ये है 9 पुलिस अफसर

राजस्थान से इस बार पुलिस अधीक्षक IPS धर्मेंद्र सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनन्त कुमार, पुलिस उप अधीक्षक सुरेश शर्मा, पुलिस निरीक्षक अनिल कुमार डोरिया, दिनेश लखावत, दरजा राम,अशोक आंजना, अरुण कुमार व हैड कांस्टेबल भवानी सिंह को चुना गया है। गौरतलब है कि पदक देने की शुरुआत साल 2018 में आपराधिक मामलों की जांच में बेहतर काम करने वाले पुलिस- कर्मियों को प्रोत्साहित करने के लिए शुरू की गई थी।

इनमें पुलिस इंस्पेक्टर अनिल डोरिया जयपुर कमिश्नरेट, भरतपुर, सवाईमाधोपुर, अलवर व सीकर जिले में इंस्पेक्टर रह चुके है। वर्ष 2020 में सवाईमाधोपुर जिले में SHO रहते हुए एक लड़की के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा किया था। जिसमें फरार अपराधियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाया गया था। अभी वह अलवर पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में डीएसपी है।

खबरें और भी हैं...