निगम का संयुक्त वाल्मीकि संघ चुनाव मामला:डीएलबी निदेशक और नगर निगम कमिश्नरों से मांगा जवाब, मामले की सुनवाई आज

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जयपुर मेट्रो-प्रथम की अपर सिविल न्यायाधीश काेर्ट ने जयपुर नगर निगम के संयुक्त वाल्मीकि संघ के चुनाव मामले में डीएलबी निदेशक सहित नगर निगम ग्रेटर व हेरिटेज के कमिश्नरों से जवाब देने के लिए कहा है। वहीं मामले की सुनवाई गुरुवार को तय की है। कोर्ट ने यह निर्देश सफाई कर्मचारी नेता राकेश मीणा व अन्य के दावे पर सुनवाई करते हुए दिया।

दावे में डीएलबी के उस निर्णय को चुनौती दी है जिसमें नगर निगम जयपुर वाल्मीकि संघ के संयुक्त चुनाव करवाए जाने का निर्णय लिया था। मामले में अधिवक्ता डॉ अभिनव शर्मा ने बताया कि राज्य सरकार ने एक अधिसूचना जारी करते हुए नगर निगम जयपुर को दो भागो में विभाजित किया और दो निगमों का गठन किया। साथ ही नवगठित निगमो की सीमाओं और वार्डो का भी नए सिरे से परिसीमन किया था और कर्मचारियों को भी दोनो निगमो में बांटा गया था।

जो सफाईकर्मी जिस वार्ड में कार्यरत था उसी हिसाब से उसे सम्बंधित निगम का हिस्सा बना दिया गया। दावे में कहा कि जब नगर निगम दो हैं और उनके मेयर, सीईओ सहित अन्य अफसर व कर्मचारी अलग हैं। दोनों निगमों का बजट व क्रियाकलाप नियंत्रण बोर्ड भी अलग है तो ऐसे में निकायों में कार्यरत कर्मचारियों के चुनाव भी अलग ही होने चाहिएं। इसलिए संघ के चुनाव भी अलग-अलग करवाए जाने चाहिएं।

खबरें और भी हैं...