• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Asked To Give Birth Certificate After Three Days, Took Two Hundred Rupees And Made It In An Hour, Surprised ACB Is Doing Traps Daily, Yet Work Is Not Being Done Without Money

भास्कर स्टिंग में पकड़े गए भ्रष्टाचारी:VIDEO देखें, जयपुर निगम में चल रहा था रिश्वत का खेल; कहा- पैसे देंगे तो फास्ट काम होगा, इतनी सैलरी से खर्च थोड़े चलता है

जयपुरएक वर्ष पहलेलेखक: विक्रम सिंह सोलंकी
प्रमाण पत्र बनवाने के लिए रुपए लेते।

राजस्थान में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) की टीम रोजाना रिश्वत लेते हुए भ्रष्टाचारियों को दबोच रही है। हाल ही में बड़े स्तर पर कई अफसरों पर कार्रवाई हुई है। कलेक्टर एसपी, एसडीएम सहित कई अफसर पकड़े गए हैं। उधर, एक्सईएन, पुलिस इंस्पेक्टर व डीटीओ की आय से अधिक संपत्ति मामले में पकड़े हैं। हर दिन हो रही बड़े पैमाने में कार्रवाई के बावजूद भी भ्रष्टारियों के हौसले बुलंद हैं। जयपुर के मानसरोवर नगर निगम के कार्यालय में लोग इधर-उधर घूमते रहते हैं, लेकिन बिना रुपए दिए काम नहीं होता। कई एजेंट सक्रिय हो चुके हैं, ये साफ कहते हैं कि फास्ट काम कराना है तो पैसे देने होंगे आखिर उन्हें सैलरी मिलती ही कितनी है।

दैनिक भास्कर की टीम ने एक वीडियो स्टिंग किया, इसमें यह खुलासा हुआ। नगर निगम पहुंची तो सामने आया कि कर्मचारियों ने रिश्वत के लिए दलालों को बैठा रखा है। 7 दिन तक टीम ने मानसरोवर नगर निगम का रियलिटी चेक किया तो चौंकाने वाला मामला सामने आया।

कोई भी काम बिना पैसे संभव नहीं
यहां भी दलालों के माध्यम से रिश्वत लेने का बड़ा खेल चल रहा है। इसके लिए इन्होंने पूरा जाल बिछा रखा है। यहां ऐसा कोई काम नहीं जो बिना रुपए नहीं होता है। इन दलालों से जब बात की तो बताया कि 8 हजार जैसी सैलरी में पेट्रोल का खर्चा तक नहीं निकलता। कैमरे पर एक दलाल ने कबूल भी किया कि यहां एक कर्मचारी रोज 500 से 700 रुपए लेकर जाता है। इस पर टीम ने नगर निगम मानसरोवर में एक स्टिंग ऑपरेशन किया।

भास्कर टीम एक बर्थ सर्टिफिकेट को बनवाने के लिए पहुंची। काउंटर पर सारे दस्तावेज दिए तो तीन दिन बाद प्रमाणपत्र ले जाने की बात कहीं। टीम ने मजबूरी बताते हुए उनसे जल्दी देने को कहा। काउंटर कर्मचारी ने तीन दिन के बाद ही आने की बात कहीं। पास में ही एक युवक ने पीछे बने काउंटर पर संपर्क करने की बात कही। वहां ई-मित्र से जल्दी प्रमाण पत्र बनवाने की बात हुई। हैरानी की बात है कि दलाल देने कहा पैसे दो, दौ सौ रुपए लेने के बाद काउंटर से एक घंटे के बाद प्रमाणपत्र दे दिया गया।

प्रमाण पत्र की रसीद बनाते हुए कर्मचारी।
प्रमाण पत्र की रसीद बनाते हुए कर्मचारी।

रिश्वत का ऐसा जाल बिछाया कि रुपए देने पर तीन दिन का काम एक घंटे में हो जाता है
सीन 1 : काउंटर पर 25 रुपए की रसीद देकर बोला : तीन दिन बाद आना
भास्कर टीम नगर निगम मानसरोवर में एक जन्म प्रमाण पत्र बनवाने के लिए पहुंची। पहले काउंटर से फॉर्म लिया। कुछ देर के बाद फाॅर्म भरकर दस्तावेज फोटो कॉपी करवाकर जमा करवाए। काउंटर पर बैठे युवक ने पूरा रिकाॅर्ड चैक किया। अस्पताल का रिकॉर्ड मिलाकर वापस दूसरे काउंटर पर जाने को बोला। दूसरे काउंटर पर टीम ने जाकर फाॅर्म दे दिया। वहां पर युवक ने रजिस्टर में एंट्री की। फिर उसने 25 रुपए मांगे। रसीद काटने के बाद उसने तीन दिन बाद प्रमाण पत्र लेकर जाने की बात कहीं। उसे जरूरी काम से दिल्ली जाने की बात बोलकर जल्दी बनाने को बोला। उसने कहा कि कोई भी आकर ले जा सकता है। वहां पर कुछ देर रुके तो एक युवक ने पीछे संपर्क करने की बात कहीं।

रसीद देखकर बोला कुछ देर में बन जाएगा।
रसीद देखकर बोला कुछ देर में बन जाएगा।

सीन 2 : लंच चल रहा है, कुछ देर में हो जाएगा
नगर निगम के ऑफिस में ही एक ई-मित्र केंद्र बना हुआ है। भास्कर टीम वहां पर पहुंची तो एक युवक बैठा मिला। उससे मजबूरी बताकर प्रमाणपत्र जल्दी बनवाने की बात कही। उसने पूछा कि अभी लेना है, उसे टीम ने हां बोला। वह उठकर तुरंत अंदर ऑफिस में चला गया। वहां से कुछ देर के बाद वापस आया और बोला कि काम हो जाएगा। अभी लंच चल रहा है, इसके बाद बनवा दूंगा। आप कुछ देर बैठकर इंतजार कर लो। थोड़ी देर के बाद वह दोबारा से अंदर गया। बात करके वापस आया और कहा कि दौ सौ रुपए लगेंगे। बन जाएगा। काफी देर के बाद उसने बाहर की खिड़की पर जाकर पूछताछ की। तब उसे अंदर से युवक ने कहा कि प्रमाणपत्र बन गया है। अभी थोड़ी देर रुको मैं आ रहा हूं।

नगर निगम में पीछे की खिड़की से सेटिंग कर बात करते हुए
नगर निगम में पीछे की खिड़की से सेटिंग कर बात करते हुए

सीन 3: अंदर से आकर इशारा किया, रुपए लेकर बोला जल्दी जाओ
कुछ देर के बाद अंदर से एक कर्मचारी पीछे की ओर बाहर निकल आया। भास्कर टीम अंदर ही बैठी हुई थी। उसने आवाज लगाई तो युवक तुरंत भाग कर पहुंचा। उसने कहा प्रमाण पत्र बन गया है, जल्दी ले जाओ। उसके जाने के बाद युवक ने बोला कि प्रमाणपत्र बन गया है। उसने रुपए मांगे तो टीम ने पूछा कि किसे रुपए देने है। तब वह बोला कि मुझे ही रुपए देने होंगे। तब उसने दौ सौ रुपए लेकर जेब में रख लिए। वह बोला कि पांच नंबर खिड़की पर चले जाओ, जो अभी लड़का आया था उसे देख लिया है ना। वहां पर ये रसीद दे देना। भास्कर टीम जैसे ही 5 नंबर खिड़की पर पहुंची तो निगम कर्मचारी ने आसपास बैठे कर्मचारियों को इशारा किया। पहले से ही प्रमाणपत्र बना रखा था। उसने रसीद लेकर तुरंत प्रमाणपत्र दे दिया।

प्रमाणपत्र के लिए रुपए लेते हुए ।
प्रमाणपत्र के लिए रुपए लेते हुए ।

कैमरे पर कबूलनामा : ठेकेदार 8 हजार रुपए देता है, लेकिन हर आदमी 12 से 15 हजार कमा रहा
नगर निगम में स्टिंग ऑपरेशन के दौरान एक बड़ा खुलासा हुआ। ई-मित्र में पीछे बैठे युवक ने बताया कि यहां काम करने वाले कर्मचारियों की सैलरी ज्यादा नहीं है। किसी की 8 हजार रुपए है तो कोई 5 हजार रुपए में ही काम कर रहा है। ठेकेदार इतने ही रुपए देता है। जब उससे पूछा इतने रुपए में ये घर कैसे चलाते हैं। तो बोला कि ऊपर से कमा लेते हैं। उससे खुलकर बात की तो बोला कि हर एक कर्मचारी 12 से 15 हजार रुपए कमा लेता है। वह बोला कि ऐसे तो पेट्रोल का खर्चा ही नहीं निकलता है। हर कर्मचारी रोजाना पांच सौ से ज्यादा रुपए ले जाते हैं। इसको जल्दी काम करवाना है तो वह रुपए देकर जाता है।

नगर निगम में काउंटर पर बैठे कर्मचारी से बात कर दलाल निकल गया, तब सर्टिफिकेट दिया।
नगर निगम में काउंटर पर बैठे कर्मचारी से बात कर दलाल निकल गया, तब सर्टिफिकेट दिया।

मेयर बोली : ये गलत है, दोषियों को सजा मिलेगी
जयपुर नगर निगम ग्रेटर की कार्यवाहक मेयर शीला धाबाई ने कहा कि ये गलत है। वैरी बैड-वैरी बैड। आम जनता से छोटे-छोटे कामों के रुपए लिए जाते हैं। अधिकारियों के साथ मीटिंग कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सख्त निर्देश दिए जाएगें।

डीसी बोले : मैंने आज जॉइन किया है, जांच करेंगे
डीसी मानसरोवर हेमाराम चौधरी ने कहा कि मैंने आज ही जॉइन किया है। ऐसा चल रहा है तो जांच करेंगे। ये गलत है। ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

डिस्क्लेमर : दैनिक भास्कर के पास मान सरोवर नगरनिगम में स्टिंग ऑपरेशन के पूरे वीडियो मौजूद है। यह स्टिंग भ्रष्टाचार को एक्सपोज करने के लिए किया गया है।

खबरें और भी हैं...