पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जयपुर में कोरोना से जंग:वैक्सीनेशन सेंटर पर कॉलोनीवासी टोकन देकर तय करते है पहले किसे लगेगी वैक्सीन; ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन भी नहीं मानते, डॉक्टर, पार्षद और पुलिस भी मजबूर

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झोटवाड़ा में निवारू रोड स्थित श्रीरामपुरी राजकीय शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर वैक्सीन लगाने के लिए खड़े स्थानीय निवासी - Dainik Bhaskar
झोटवाड़ा में निवारू रोड स्थित श्रीरामपुरी राजकीय शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर वैक्सीन लगाने के लिए खड़े स्थानीय निवासी
  • झोटवाड़ा में निवारू रोड स्थित श्रीरामपुरी राजकीय शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का मामला

कोविड 19 से बचाव के लिए वैक्सीनेशन की सबसे ज्यादा जरूरत है। पहले लोग वैक्सीनेशन करवाने पहुंच नहीं रहे थे। अब कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है तो खुद वैक्सीन लगवाने जा रहे है। ऐसे में डिमांड ज्यादा होने से वैक्सीन की कमी आने लगी है। हालत यह है कि सरकार ने 18 की उम्र से ज्यादा वालों को वैक्सीनेशन को हरी झंडी मिलने के बाद ऑनलाइन प्रक्रिया शुरु कर दी है।

इसी बीच राजधानी जयपुर में निवारू रोड पर एक ऐसा वैक्सीनेशन सेंटर है। जहां आपको अपाइंटमेंट लेने की जरूरत नहीं है, यहां वैक्सीन लगवाने के लिए आपको कॉलोनी के अध्यक्ष और स्थानीय पदाधिकारियों के टोकन पर निर्भर रहना पड़ता है। यहां टोकन देकर तय किया जाता है कि किसको वैक्सीन लगेगी। भले ही आपने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाया होगा। यह मामला है निवारू रोड स्थित श्रीरामपुरी राजकीय शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की। यहां कॉलोनीवासियों के नियमों के आगे स्थानीय पार्षद, पुलिस और डॉक्टर भी मजबूर है।

केस-1
बसंती देवी उम्र 83 साल
वेक्सीन की सैकण्ड डोज़ लगवाने के लिए इनके पोते ने COVIN.GOV.IN से इस सेंटर पर सुबह 11 से 1 बजे के स्लॉट में ऑनलाइन अपॉइंटमेंट बुक करवाया था। बसंती देवी सेंटर पर आधे घण्टे पहले 10:30 बजे पहुंचती है। लेकिन सेंटर के बाहर टोकन दे रहे कॉलोनी के ठेकेदार इन्हें कहते है कि आज के 300 टोकन खत्म हो गए है, कल आना। ऑनलाइन अपॉइंटमेंट की बात बताने पर कहा जाता है कि यहां टोकन सिस्टम है। ऑनलाइन अपॉइंटमेंट नहीं चलेगा।

केस-2 कला पारीक उम्र 55 साल इन्होंने भी यहां वेक्सीन के लिए अपॉइंटमेंट बुक करवाया था। लेकिन सेंटर पर पहुंची तो इन्हें भी वेक्सीन नहीं लग सकी।

सेंटर पर इस तरह से होता है वैक्सीनेशन
इस सेंटर पर सुबह 6 बजे से कॉलोनी के ठेकेदार टोकन जारी करते है। पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर टोकन दिया जाता है। अब यह जरूरी नहीं है कि आपने रजिस्ट्रेशन करवाया है या नहीं। अगर आपको टोकन मिल गया तो सेंटर पर तुरंत आपका रजिस्ट्रेशन भी हो जाएगा और वेक्सीन भी लग जाएगी। एक दिन में करीब 300 टोकन बांटे जाते है। अगर उस दौरान कोई ऑन लाइन अपाइंटमेंट वाला आ जाता है तो उसे टोकन मिल जाता है। लेकिन अपने अपाइंटमेंट के हिसाब से आने वालों को निराश ही लौटना पड़ता है।

जिम्मेदारों का कहना है
-मुझे यहीं काम करना है, मैं कॉलोनी वालों के खिलाफ नहीं जा सकता। यहां तो यही सिस्टम चलेगा।

डॉ. आशीष, प्रभारी चिकित्सा, UPHC श्रीरामपुरी, निवारू रोड

- पुलिस का काम लाइन लगवाना है, वैक्सीन किसे लगेगी और किसे नहीं, यह चिकित्सा विभाग तय करता है।

विक्रम सिंह, झोटवाड़ा थानाप्रभारी

- इस तरह की शिकायतें मिली है, कुछ लोग है जो ऐसा कर रहे है। इसे दिखवाते है।

दुर्गेश नंदनी, पार्षद, वार्ड-28

हमने तीन दिन पहले तक टोकन व्यवस्था शुरू की थी। लेकिन आज हमने किसी तरह के टोकन नहीं दिए।

रणवीर तंवर, अध्यक्ष, श्रीरामपुरी कॉलोनी

खबरें और भी हैं...