पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • AYUSH Will Conduct Research On Deadly Infectious Diseases Through Drugs, Doctors Of 15 Major Institutions Of The Country And Three MPs Involved

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एडवायजरी कमेटी का गठन:आयुष औषधियों के जरिए जानलेवा संक्रामक बीमारियों पर होगा शोध, देश के 15 बड़े संस्थानों के डॉक्टर और तीन सांसद शामिल

जयपुरएक महीने पहलेलेखक: सुरेन्द्र स्वामी
  • कॉपी लिंक
  • झांंसी के सांसद अनुराग शर्मा, धौलपुर के डॉ. मनोज राजोरिया और भावनगर के भारतीबेन धीरुभाई शियाल कमेटी में शामिल
  • जयपुर के राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान और जोधपुर के राधाकृष्णन आयुर्वेद विवि के डॉक्टर्स का सहयोग लेगा आयुष मंत्रालय

जानलेवा महामारी कोरोना जैसी अनेक संक्रामक बीमारियों से पहले से निपटने के लिए आयुष मंत्रालय दिल्ली भी सतर्क हो गया है। स्वाइन फ्लू, मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, कोरोना, कांगो फीवर जैसी संक्रामक बीमारियों से लड़ने के लिए जयपुर, जोधपुर, भोपाल, दिल्ली, लखनऊ, रायपुर, पटना, अहमदाबाद, भुवनेश्वर, हरिद्वार बड़े संस्थानों के डॉक्टरों के सहयोग से शोध करेगा। इतना ही नहीं आवश्यकता पड़ने पर आयुष के साथ-साथ एलोपैथी डॉक्टरों को भी शामिल करेगा।

आयुष मंत्रालय के वैद्य राजेश कोटेचा की अध्यक्षता में ‘एडवायजरी कमेटी’ का गठन किया है। इसमें देश के 15 बड़े संस्थानों के डॉक्टर और तीन सांसदों को शामिल किया है। सांसदों में झांंसी के अनुराग शर्मा, धोलपुर के डॉ.मनोज राजोरिया और भावनगर के भारतीबेन धीरुभाई शियाल है। इसके अलावा जयपुर के राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान और जोधपुर की आयुर्वेद विश्वविद्यालय के जाने-माने डॉक्टरों का भी सहयोग लिया जाएगा।

ये है खास: एडवायजरी कमेटी के सदस्यों की माह में एक बार मीटिंग आयोजित मौजूदा स्थिति में फैल रही बीमारियों पर गहन मंथन होगा। जिसमें दवा, जांच और उपचार पर विशेषज्ञों से चर्चा होगी। राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, केरल, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश जैसे राज्यों में वातावरण और तापमान के अनुसार उपलब्ध के आधार पर और इस्तेमाल की जाने वाली औषधियों के आधार पर बीमारी के इलाज पर फोकस रहेगा। डॉ.राकेश पाण्डेय के अनुसार एडवायजरी कमेटी को मंजूरी मिल चुकी है। जिसका काम आयुष चिकित्सा और रिसर्च पर मॉनिटरिंग, संरक्षण व शोध कार्यों की समीक्षा के साथ मार्गदर्शन देगा।

इसलिए फोकस: राजस्थान में कभी स्वाइन फ्लू, डेंगू, कांगो फीवर तो कभी मलेरिया, स्क्रब टाइफस, चिकनगुनिया जैसी बीमारी की गिरफ्त में रहता है। ऐसे में बीमारियों पर किस तरह से नियंत्रण किया जा सकता है।

ये है एडवायजरी कमेटी : डॉ.वी.एम.कटोच( पूर्व डीजी, आईसीएमआर), भूषण पटवर्धन (उपाध्यक्ष, यूजीसी), वैद्य जयंत डीओपुजारी ( अध्यक्ष बीओजी, सीसीआईएम), वैद्य देवेन्द्र त्रिगुणा, आचार्य बालकृष्ण (पतंजलि), एच.आर.नागेन्द्रा (बैंगलुरू की सव्यासा यूनिवर्सिटी के चांसलर), विजय भाकर (नालंदा विश्वविद्यालय), डॉ.एन.एन.मेहरोत्रा (रिटायर्ड साइंटिस्ट लखनऊ), प्रो.सगुफा अलीम (ऐके.टीबिया कॉलेज अलीगढ़), डॉ.नगवंग (अध्यक्ष, सोवा, रिगपा सेन्टरबोमडिला), डॉ.राजीव वासुदेवन (सीआईआई), डॉ.सिचन चतुर्वेदी (एपआईटीएम, आरआईएस), डॉ.वाष्णेय (आरोग्य भारती), जयंत (विज्ञान भारती), अरविन्द, रणजीत पौराणिक (धूतपेपेश्वर), डॉ.बी.एस.कालवी (रिटायर्ड असिस्टेंट सेकेट्री, आईएमपीसीओपीएस) आदि को शामिल किया गया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

    और पढ़ें