2023 में मेवाड़ की सभी सीटों पर लड़ेगी RLP:बेनीवाल बोले- मेवाड़ में कांग्रेस-बीजेपी नेता कंपनियों के मुनीम, जनता कांग्रेस की भी दरियां उठा देगी

जयपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

धरियावद और वल्लभनगर उपचुनाव में कांग्रेस की जीत और बीजेपी की करारी हार के बाद सियासी वार पलटवार का सिलसिला तेज हो गया है। वल्लभनगर सीट पर दूसरे स्थान पर रहकर हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) को मेवाड़ में एक बड़ा स्पेस मिला है। सांसद और आरएलपी प्रमुख हनुमान बेनीवाल ने अब बीजेपी और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला है।

हनुमान बेनीवाल ने भास्कर से फोन पर बातचीत में कहा- दो सीटों की जीत पर कांग्रेस को भी ज्यादा खुश होने की आवश्यकता नहीं है। 2023 में जनता कांग्रेस की भी दरियां समेट देगी। आरएलपी मेवाड़ की सभी सीटों से चुनाव लड़ेगी। वल्लभनगर में सहानुभूति की लहर भी थी। पहली बार महिला उम्मीदवार थी। सरकारी मशीनरी का जमकर दुरुपयोग किया। इनके 10-10 मंत्री वहां लगे रहे। बीजेपी को आरएलपी और बीटीपी समर्थक निर्दलीय ​की वजह से एक जगह तीसरे और एक जगह चौथे स्थान पर खिसका दिया।

बेनीवाल ने कहा कि कांग्रेस ने वल्लभनगर में आठ महीने पहले मंजूर विकास के काम आचार संहिता लगने के बाद रातों रात करवाए। आचार संहिता की जमकर धज्जियां उड़ाई। हम विकास के खिलाफ नहीं हैं, इसलिए विरोध नहीं किया। कम से कम उस पिछड़े क्षेत्र में जनता के लिए चुनाव के बहाने ही सही विकास के काम हो रहे थे, इसलिए हमने आचार संहिता में काम करवाने के बावजूद उस इलाके के पिछड़ेपन को देखते हुए विरोध नहीं किया।

मेवाड़ में कांग्रेस-बीजेपी के नेता कंपनियों के मुनीम
बेनीवाल ने कहा कि उस इलाके जितनी गरीबी, बेकारी कहीं नहीं देखी। कांग्रेस-बीजेपी के सारे नेता कंपनियों और उद्योगों के मुनीम बने हुए हैं। स्थानीय लोगों को रोजगार के लिए गुजरात और बाहर जाना पड़ रहा है। मेवाड़ की जनता की आवाज हम उठाएंगे। हम मेवाड़ की जनता के दुख दर्द में लगातार उनके साथ रहेंगे। 2023 में हम मेवाड़ की सभी सीटों पर मजबूती से चुनाव लड़ेंगे। यह हमारे संघर्ष का ही परिणाम है कि इतने निर्दलीय और अन्य पार्टियों के नेता जीतकर आए।

गहलोत सरकार गिराने के लिए सहयोग में कमी नहीं रखी
बीजेपी को नुकसान पहुंचाने के लिए कांग्रेस और सीएम गहलोत से मिलीभगत के सवाल पर बेनीवाल ने कहा कि मेरी लड़ाई मुद्दों की लड़ाई है। इस लड़ाई में कहीं बीजेपी को तो कहीं कांग्रेस को नुकसान होता है, इसकी मुझे परवाह नहीं है। मैंने तो जब गहलोत की सरकार गिरने वाली थी, उस समय भी गहलोत का विरोध करने में कसर नहीं रखी, लेकिन उस वक्त पूर्व सीएम ने मदद की।

खबरें और भी हैं...