• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara Violence Ground Report | Bhilwara's Target After Rajasthan's Karauli And Jodhpur Violence

भीलवाड़ा में दंगाइयों की थी खतरनाक साजिश, जानें:पुलिस 4 कदम नहीं उठाती तो जोधपुर-करौली की तरह सुलग सकता था

जयपुर3 महीने पहले

राजस्थान एक महीने से दंगों की आग में झुलस रहा है। करौली और जाेधपुर के बाद अब भीलवाड़ा दंगाइयों का टारगेट है। भीलवाड़ा में पिछले 8 दिन में तीन हिंसा की घटनाएं हो चुकी हैं। दो बार पुलिस को इंटरनेट बंद कराना पड़ा। दैनिक भास्कर ने करौली और जाेधपुर की तरह ही ग्राउंड जीरो पर जाकर भीलवाड़ा में हुई हिंसा की 3 घटनाओं का एनालिसिस किया।

करौली, जोधपुर की तरह ही भीलवाड़ा में भी दंगे भड़काने के लिए पूरी प्लानिंग की गई थी। ये संयोग नहीं था कि 8 दिन में 3 बार हिंसा भड़की। तीनों मामलों में दंगे भड़काने की साजिश थी, लेकिन करौली और जोधपुर से उलट इस बार पुलिस ज्यादा सतर्क थी।

पुलिस ने करौली और जोधपुर से सबक लेते हुए सख्त इंतजाम किए। हिंसा भड़कते ही पुलिस एक्शन में आ गई और संदिग्ध इलाकों को सील कर दिया। जगह-जगह जाब्ता तैनात कर दिया। यही वजह रही कि 8 दिन में 3 दिन बार हिंसा भड़कने के बावजूद हालात करौली और जोधपुर की तरह नहीं बिगड़े।

पढ़िए भीलवाड़ा हिंसा को पूरा एनालिसिस…

पहली घटना : युवकों से मारपीट कर दंगे भड़काने की कोशिश

भीलवाड़ा के सांगानेर में 4 मई की रात को करबला के पास बैठे समुदाय विशेष के दो युवकों पर नौ जनों ने हमला कर दिया। दोनों से जमकर मारपीट की और उनकी बाइक जला दी। लहुलुहान में हालत में दोनों युवकों को अस्पताल में एडमिट कराया गया था।

पुलिस का एक्शन : मामले की जांच कर 1 युवक को पकड़ा। उससे पूछताछ में पता चला कि वह सोशल मीडिया में मैसेज देखकर समुदाय विशेष के युवकों को मारपीट कर दंगा भड़काना चाहते थे। युवक शायद इसमें कामयाब भी हो जाते, लेकिन पुलिस ने समय रहते मामला संभाल लिया।

दूसरी वारदात : मामूली बात कर युवक की हत्या

शास्त्रीनगर में 10 मई को हनी तापड़िया नाम का युवक मां के लिए ज्यूस लेकर जा रहा था। इसी दौरान कुछ युवकों ने उसे धमका दिया। बात हनी ने बड़े भाई आदर्श को बताई। आदर्श गली में गया और उन युवकों से समझा दिया। मामला शांत हो गया। रात को 11 बजे आदर्श जा रहा था। तभी कुछ युवकों ने उसे घेर लिया। आदर्श ने अपने दूसरे भाई मयंक को बुलाया। मयंक के सामने ही युवकों ने आदर्श के सीने में चाकू मार दिया, जिससे उसकी मौत हो गई।

पुलिस का एक्शन : हत्या करने वाले सभी नाबालिग थे, पुलिस ने चारों को पकड़ लिया। संठनों ने मुआवजे व आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर बंद कर दिया। पुलिस ने अफवाहें रोकने के लिए इंटरनेट बद करा दिया।

तीसरी घटना : परीक्षा देकर लौट रहे चार छात्रों पर चाकू से हमला

सुभाष नगर स्कूल के बाहर 11 मई की दोपहर चार छात्र स्कूल से परीक्षा देकर लाैट रहे थे। पवन सिंह, युवराज सिंह, विक्रम सिंह, श्रवण सिंह पर कुछ छात्रों ने ही रोक कर मारपीट की। फिर चाकू से हमला कर दिया। चारों छात्र घायल हो गए। उन्हें अस्पताल में ही भर्ती करवाया गया।

पुूलिस का एक्शन : पहले से इंटरनेट बंद था और पुलिस भी जगह-जगह तैनात थी। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए संदिग्धों पकड़ लिया। पथराव जैसी घटना न हो, इसलिए छतों पर जाब्ता तैनात किया गया। दिन और रात में नाकाबंदी की गई।

भीलवाड़ा कांड में 18 घंटे बाद समझौता:20 लाख मुआवजा और नौकरी पर बनी सहमति, इंटरनेट बंद

करौली-जोधपुर से सबक लेकर ये कदम उठाए

तुरंत एक्शन : करौली और जाेधपुर दोनों ही जगह पुलिस मामले की गंभीरता को नहीं समझ पाई और देरी से एक्शन लिया। इस वजह से दंगों की आग विकराल हो गई। वहीं भीलवाड़ा पुलिस तुरंत एक्टिव हुई, तुरंत मौके पर जाब्ता लगाया।

गली-सड़क पर नजर : जोधपुर में पुलिस एक जगह कंट्रोल करने की कोशिश कर रही थी, इतने में दंगाई भीतरी शहर में पहुंच गए। भीलवाड़ा पुलिस ने ये गलती नहीं की और गलियों में जगह-जगह जाब्ता तैनात कर दिया।

छतों पर नजर : करौली मामले में नवसंवत्सर की रैली से पहले संवेदनशील क्षेत्र होने के बावजूद पुलिस ने छतों का ड्रोन सर्वे नहीं कराया, जबकि दंगाइयों ने वहीं पत्थर जमा कर रखे थे। भीलवाड़ा पुलिस ने छतों पर भी जाब्ता तैनात किया।

रात को नाकाबंदी : जोधपुर में ईद-आखातीज से पहले देर रात को झंडा लगाने को लेकर विवाद शुरू हुआ। जोधपुर पुलिस ने रात को एक्शन नहीं लिया, इस वजह से सुबह होते होते स्थिति पुलिस के कंट्रोल से बाहर हो गई। भीलवाड़ा पुलिस ने जोधपुर से सबक लेते हुए तनाव बढ़ने पर रात को भी नाकाबंदी कराई।

कहां-कितना नुकसान

करौली : 2 अप्रैल 2022 को करौली के फूटाकोट में नवसंवत्सर पर निकाली जा रही बाइक रैली पर पथराव के बाद दंगे भड़के। कई दुकानें जला दी गई, वाहन तोड़ दिए गए। मामले में 45 से ज्यादा लोग घायल, करीब 50 गिरफ्तार।

जाेधपुर : 3 मई 2022 को जोधपुर के जालोरी गेट पर ईद-अक्षय तृतीया के दौरान झंडा लगाने को लेकर विवाद के बाद दंगे। 50 से ज्यादा घरों पर पथराव, वाहन तोड़े। 9 पुलिसवालों सहित 50 घायल। अब तक 211 गिरफ्तार।

भीलवाड़ा : 8 दिन के दौरान तीन हिंसक घटनाएं हुईं। एक युवक की हत्या हो गई। विवाद में 6 युवक घायल हो गए। एक बाइक जला दी गई। मामले में पुलिस अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

ये भी पढ़ें-

भीलवाड़ा के बाद हनुमानगढ़ में सांप्रदायिक तनाव:महिलाओं से छेड़खानी का विरोध करने पर विहिप नेता पर जानलेवा हमला, इंटरनेट बंद

पुलिस से बचकर हाईवे पर दौड़े सांसद किरोड़ी:पकड़ने के लिए पुलिसवाले भी पीछे-पीछे भागे, कुछ दूर जाकर पकड़ा

खबरें और भी हैं...