पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पायलट का 'पॉवर रिगेन' प्लान:जयपुर के कोटखावदा में किसान महापंचायत में पायलट का बड़ा शक्ति प्रदर्शन, गहलोत-डोटासरा को भी भेजा न्योता लेकिन नहीं आए

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह फोटो सचिन पायलट की बयाना की 9 फरवरी की किसान महापंचायत की है। इसमें काफी भीड़ आई थी। इसी तर्ज पर कोटखावदा में बड़ी सभा करने की तैयारी है। - Dainik Bhaskar
यह फोटो सचिन पायलट की बयाना की 9 फरवरी की किसान महापंचायत की है। इसमें काफी भीड़ आई थी। इसी तर्ज पर कोटखावदा में बड़ी सभा करने की तैयारी है।
  • राहुल की रूपनगढ़ रैली में पायलट के अपमान का मुद्दा उठने के बाद समर्थक लामबंद हो गए

सचिन पायलट की आज जयपुर जिले के कोटखावदा में हुई किसान महापंचायत में पायलट समर्थक नेता बड़ी भीड़ जुटने का दावा कर रहे हैं। कोटख्हाावदा पंचायत में पायलट समर्थक 16 विधायक भी पहुंचे। राजेश पायलट की मूर्ति का अनावरण कार्यक्रम भी रखा गया था। महापंचायत में सीएम अशोक गहलोत, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सहित गहलोत खेमे के कई नेताओं को भी निमंत्रण दिया गया है, लेकिन वे नहीं आए।

पायलट के अपमान का मुद्दा उठने के बाद पहली रैली
राहुल गांधी के दौरे में रूपनगढ की ट्रैक्टर रैली में पायलट के अपमान का मुद्दा उठने के बाद से पायलट समर्थक लामबंद हुए। इसका असर इस महापंचायत पर साफ दिखा।। पायलट समर्थक ​चाकसू विधायक वेदप्रकाश सोलंकी के क्षेत्र कोटखावदा में यह किसान महापंचायत रखी गई। इसका घोषित मकसद केंद्रीय कृषि कानूनों का विरोध था। लेकिन अघोषित मकसद शक्ति प्रदर्शन बताया जा रहा है। हाल के दिनों में पायलट की यह तीसरी किसान महापंचायत थी।

पायलट की मैसेज देने की कवायद
पायलट समर्थकों ने किसान महापंचायत में बड़ी भीड़ जुटाने को प्रतिष्ठा का सवाल बना लिया था। राजनीतिक जानकारों के मुता​बिक जबसे कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने राहुल के दौरे में पायलट के अपमान का मुद्दा उठाया है तब से पायलट समर्थक विधायक फिर से लामबंद हो रहे हैं। राहुल के दौरे के बाद पायलट का यह पहला सार्वजनिक कार्यक्रम था। इससे पहले दौसा और बयाना में कृषि कानूनों के खिलाफ पायलट किसान महापंचायत कर चुके हैं। बयाना की महापंचायत में बड़ी संख्या में भीड़ जुटी थी।

महापंचायतों के जरिए पायलट की 'पॉवर रिगेन' की तैयारी
पायलट अपने समर्थक विधायकों के इलाकों में केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसान महापंचायत कर रहे हैं। बताया जाता है कि बगावत और फिर सुलह के बाद पायलट अब जनता के बीच निकलकर पावर रिगेन का प्रयास कर रहे हैं। एक बड़े वर्ग में पायलट अपने प्रति सहानुभूति पैदा कर उसे राजनीतिक फायदे में बदलने का भी प्रयास कर रहे हैं। जिस तरह प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में दौरे कर रही हैं उसी पैटर्न को पायलट ने अपनाया है। किसान आंदोलन से कांग्रेस के नेता उतने सक्रिय रूप से नहीं जुड़े हैं। पायलट इसी का फायदा उठाकर लगातार महापंचायत करके किसान आंदोलन में अपना स्पेस बनाने की रणनीति पर चल रहे हैं। सचिन पायलट आगे भी किसान महापंचायतें जारी रखने वाले हैं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

और पढ़ें