• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • BJP Leaders Went To Register An FIR Against Rahul Gandhi In Jaipur, Protested For Not Registering The Report, Delhi Rape Case Victim

दिल्ली में दुष्कर्म पीड़िता की पहचान उजागर करने का आराेप:जयपुर में राहुल गांधी के खिलाफ FIR दर्ज करवाने पहुंचे भाजपा नेता, रिपोर्ट दर्ज नहीं करने पर थाने में प्रदर्शन कर धरने पर बैठे

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ FIR दर्ज करवाने पहुंचे भाजपा कार्यकर्ताओं ने जयपुर के अशोक नगर थाने में धरना प्रदर्शन किया। - Dainik Bhaskar
कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ FIR दर्ज करवाने पहुंचे भाजपा कार्यकर्ताओं ने जयपुर के अशोक नगर थाने में धरना प्रदर्शन किया।

दिल्ली के कैंट इलाके में पिछले दिनों दुष्कर्म का शिकार हुई 9 वर्षीया बच्ची की पहचान उजागर करने के मामले में राजस्थान में राजनीति गरमा गई है। भाजपा के प्रदेश पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने जयपुर के अशोक नगर थाने में कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ FIR दर्ज करवाने पहुंचे। लेकिन पुलिस ने अन्य जगह की घटना होना बताकर रिपोर्ट दर्ज करने से इंकार कर दिया।

इसके बाद भाजपा के प्रदेश मंत्री जितेंद्र गोठवाल की अगुवाई में भाजपा कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी व प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। थाने के मुख्यगेट के पास ही धरने पर बैठ गए। बाद में, उच्चाधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर समझाइश की। पुलिस ने रिपोर्ट को लेकर अपने पास रख लिया। इसके बाद दोपहर करीब 1 बजे भाजपा कार्यकर्ताओं को FIR दर्ज करवाए बिना ही वापस लौटना पड़ा।

राहुल गांधी के खिलाफ FIR दर्ज नहीं करने पर अशोक नगर थाने में धरने पर बैठे प्रदेश मंत्री जितेंद्र गोठवाल व भाजपा कार्यकर्ता
राहुल गांधी के खिलाफ FIR दर्ज नहीं करने पर अशोक नगर थाने में धरने पर बैठे प्रदेश मंत्री जितेंद्र गोठवाल व भाजपा कार्यकर्ता

राजनीति के चक्कर में पीड़िता की पहचान को छिपाना भूले राहुल गांधी: भाजपा प्रदेश मंत्री

प्रदेश मंत्री जितेंद्र गोठवाल ने बताया कि कैंट इलाके में राहुल गांधी ने दुष्कर्म पीड़िता बच्ची की मां से मुलाकात की थी। इन फोटोज को अपने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। इससे बवाल मच गया। भाजपा का आरोप है कि राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के चक्कर में राहुल गांधी ने सोशल मीडिया फोटो पोस्ट कर दुष्कर्म पीड़िता बच्ची और उसके परिवार की पहचान उजागर कर दी है, जो कि 228ए आईपीसी, पोक्सो एक्ट व जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत अपराध है।

गोठवाल का कहना है कि कांग्रेस पीड़ित दलितों के साथ हमदर्दी का नाटक करने के बजाए उनकी पहचान सार्वजनिक करने का मजाक बंद करें। यह दलितों के साथ अन्याय है। उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जानी चाहिए।

खबरें और भी हैं...