पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुजारी की मौत:सरकार को ढूंढ़ने के लिए भाजपा ने निकाली लालटेन यात्रा, पुलिस से हुई धक्का-मुक्की

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तीसरे दिन भी शव के साथ सिविल लाइंस फाटक पर धरना। - Dainik Bhaskar
तीसरे दिन भी शव के साथ सिविल लाइंस फाटक पर धरना।
  • कुछ कार्यकर्ताओं को आईं चोटें

महवा में पुजारी शंभूदयाल पहले अपनी खुद की जमीन के लिए सिस्टम से न्याय की गुहार लगाते रहे, लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिल पाया। मरने के बाद उनका शव महवा से लेकर जयपुर तक भटक रहा है, लेकिन गूंगा-बहरा सिस्टम पुजारी के शव के दर्द काे महसूस करने के लिए तैयार नहीं है।

भाजपा का तीसरे दिन भी जयपुर में पुजारी काे न्याय दिलाने काे लेकर धरना-प्रदर्शन जारी रहा। इस दौरान लालटेन लिए भाजपा नेता और कार्यकर्ता सरकार को ढूंढ़ते नजर आए। सचिवालय की ओर जाते कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोका तो इस धक्का-मुक्की में कुछ कार्यकर्ताओं के मामूली चोटें भी आईं।

3देर रात पुजारी का शव लकड़ी के बॉक्स से डीप फ्रीजर में शिफ्ट कर दिया गया। धरना स्थल पर सांसद किरोड़ी लाल मीणा के अलावा सांसद रामचरण बोहरा, विधायक अशोक लाहोटी, ज्ञानदेव आहूजा, सुमन शर्मा, निवाई उप प्रधान दयाराम सहित अनेक नेता व ब्राह्मण समाज के लोग जुटे।

लालटेन यात्रा पर किरोड़ी बोले- हम भी गांधीवादी सीएम काे ढूंढ़ रहे हैं

लालटेन यात्रा को लेकर किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि मुख्यमंत्री प्रदेश से गायब हैं, इसलिए दिन के उजाले में लालटेन जलाकर उन्हें ढूंढ़ रहे हैं ताकि पुजारी के शव की वो सुध लें। महान कार्ल मार्क्स का उदाहरण देकर कहा कि वह भी सड़क पर लालटेन लेकर दिन में कुछ ढूंढ रहे थे। किसी ने उनसे पूछा कि किसे खाेज रहे है ताे उन्हाेंने जवाब दिया था कि काेई हाई माेरल वेल्यू वाला व्यक्ति ढूंढ़ रहा हूं। इसी तरह हम भी गांधीवादी मुख्यमंत्री काे ढूंढ़ रहे हैं।

हम सीए काे बताना चाहते हैं कि बहुत दिन से आपके दरवाजे पर एक गूंगा-बहरा पुजारी गुहार लगा रहा है। वहीं इसी प्रकरण से जुड़ा जगदीश सैनी पुलिस लाठीचार्ज में घायल हुआ था, जिसने इलाज के दाैरान जयपुर में दम ताेड़ा है। बगैर परिवार काे सूचना दिए आंखे निकाली गई हैं। बगैर परिजनाें की सहमति के आंखे निकालना बेहद निंदनीय है। राज्य सरकार को अस्पताल प्रशासन के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

सरकार ने दिया वार्ता का न्यौता, नेता बोले- सीएस, डीजीपी से नहीं करेंगे बात
सरकार की ओर से भाजपा नेताओं को वार्ता का न्यौता भेजा गया है। सरकार ने सीएस और डीजीपी को प्रदर्शकारियों के प्रतिनिधिमंडल से बातचीत के लिए अधिकृत किया था, लेकिन नेताओं ने साफ कर दिया कि अब सीएम से ही बात होगी। हालांकि बाद में मंत्री स्तर पर भी बातचीत के लिए सभी नेता राजी हो गए।

सुबह ऑफर मिला, रात तक काेई नहीं आया

  • शनिवार सुबह सरकार के एक प्रतिनिधी ने वार्ता करने की बात रखी थी, लेकिन रात तक काेई नहीं आया। इस बात से साबित हाेता है कि राज्य सरकार इस मामले में कितनी गंभीर है। मृतक पुजारी काे लेकर महवा से लेकर जयपुर में कुल आठ दिन तक लाेग बैठे रहे हैं। - डॉ. अरुण चतुर्वेदी, बीजेपी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष

बंदूक के दम पर शव नहीं ले जा सकती सरकार

  • बंदूक की गाेली के दम पर शव काे नहीं ले जाने दिया जाएगा। कम से कम ब्यूराेक्रेसी के लाेगाें काेे माैके पर हाेना चाहिए था, लेकिन इनका नहीं आना बड़ी संवेदनहीनता जाहिर करता है। - डॉ. किराेड़ीलाल मीणा
खबरें और भी हैं...