पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रपोजल तैयार:काेराेना से जान गंवाने वाले अपने 585 कार्यकर्ताओं की मदद करेगी भाजपा

जयपुर8 दिन पहलेलेखक: हर्ष खटाना
  • कॉपी लिंक
  • राजस्थान बीजेपी का बड़ा कदम, जाे बनेगा नजीर

काेराेनाकाल में बीजेपी के 585 कार्यकर्ताओं ने जान गंवाई है। पार्टी ने इसकी सूचियां तैयार कर ली है। दिवंगत कार्यकर्ताओं काे मदद करने के लिए के लिए प्रदेश संगठन अपने स्तर पर मदद कराने की नीति तैयार कर रहा है। इसमें विधायक, सांसद व जन प्रतिनिधियाें की जिम्मेदारियां तय की जा रही है। बताया जा रहा है कि ये आंकड़ा 2020 से अब तक का है। पार्टी ने जिला कार्यकारिणी व जिलाध्यक्षाें के रिपाेर्ट के आधार पर दिवंगताें की सूची तैयार की है।

सबसे ज्यादा हाड़ाैती में कार्यकर्ताओं ने दम ताेड़ा

पार्टी की ओर से तैयार की गई रिपाेर्ट में सामने आया है कि सबसे ज्यादा हाड़ाैती के जिलाें में माैतें हुई है। इनमें बूंदी, काेटा, बारां, झालावाड़ आदि जिलाें में माैत का आंकड़ा दाे साै के पार है। इसी तरह चित्तोडगढ़ 30, बाडमेर 25, जैसलमेर 28, पाली 21, जालोर 12, सिरोही 11, जोधपुर 08, जयपुर शहर एवं ग्रामीण 05, अलवर 02, दौसा 10, सीकर 09, श्रीगंगानगर 04, हनुमानगढ़ 05, बीकानेर 11, चूरू 03, भरतपुर 02, धौलपुर 11, सवाईमाधोपुर 19, करौली 02, भीलवाड़ा 16, नागौर 35, टोंक 07, अजमेर 20, बांसवाड़ा, 10, राजसमंद 12, डूंगरपुर 15, उदयपुर 08, प्रतापगढ़ में 15 कार्यकर्ताओं का देवलोकगमन हुआ है।

रिपाेर्ट अपडेट हाेने के बाद आलाकमान काे भेजी जाएगी सूची
बताया जा रहा है कि अभी भी कई जगहाें से पूरी तरह अपडेट नहीं आया है। ऐसे में दिवंगत पार्टी के लाेगाें का आंकड़ा बढ़ना शेष है। उधर ये सूची केंद्रीय आलाकमान काे भी भेजी जा रही है।

2.57 लाख शामिल हुए सेवा ही कार्य में, संक्रमण का खतरा था
सेवा ही कार्य के दाैरान अब तक 2 लाख 57 हजार कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। पार्टी ने कुल 40 हजार यूनिट ब्लड एकत्र हाेने का दावा किया गया। वहीं 9.98 लाख भाेजन पैकेट का वितरण, सवा तीन लाख राशन किट वितरण और जागरूकता कैंपेन इसमें शामिल रहा।

बीजेपी कार्यकर्ताओं ने शुरू से लेकर अब तक आमजन की मदद की है। दिवंगत हुए लाेगाें में अधिकांश वाे लाेग शामिल है जिन्होंने सेवा कार्य करते हुए जान गंवाई है। ऐसे में पार्टी ने इनकी मदद के लिए याेजना तैयार की है, जिसमें विधायक, सांसद व अन्य नेताओं की भूमिका तय की जा रही है। इसमें परिवार के लालन-पालन की व्यवस्थाओं पर निगरानी,से लेकर बेटियाें के शादी तक की जिम्मेदारी उठाने जैसे कदम उठाने की वर्किंग पर विचार चल रहा है।-सतीश पूनियां, बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष

खबरें और भी हैं...