कैद बाघों को आजादी देने की मांग हो रही बुलंद:सीएम की अध्यक्षता वाले बोर्ड के सदस्यों ने बुलंद की आवाज, टाइगर को एनक्लोजर में कैद रख कैटल खिलाना अन्याय

जयपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश के तीनों टाइगर रिजर्व में कैद बाघों को आजादी देने की मांग बुलंद हो रही है। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता वाले सबसे बड़े स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड के कई सदस्यों ने भी आवाज उठाई है। एक सुर में कहा है कि इस मामले पर निर्णय में पहले ही देर हो चुकी। अब बाघ संरक्षण को लेकर देश-दुनिया में प्रदेश की साख के लिए जरूरी है कि प्रदेश सरकार तुरंत निर्णय करे। सदस्यों ने कहा है कि बाघ का एक दिन भी बचा हो तो उसे आजादी से जीने का अधिकार है। किसी को यह हक नहीं मिलता कि उसके हक के खिलाफ जाकर फैसला करे।

अपने हित में भूले बाघों का हित; कभी अफसरों के अहम तो कभी अनिर्णय की स्थिति ने बाघों के समक्ष खड़ा किया खतरा

अफसरों के अहम, टकराव और लॉबी विशेष के दबाव में बाघों के हित प्रभावित हैं। एनटीसीए की मंजूरी के बावजूद बाघिन को सरिस्का ले जाने का फैसला अटका हुआ है। फर्म विशेष के फायदे के लिए फिल्म शूटिंग के रास्ते निकाल लिए गए। वनमंत्री के आदेश बौने साबित हुए हैं।

प्राइज एज के टाइगर को रिलीज करना ही पड़ेगा। तीन में से दो तो वैसे भी प्रोडक्टिव एनिमल हैं। तुरंत निर्णय लेने की जरूरत है। मौजूदा हालात बाघ संरक्षण के खिलाफ हैं। -सुनील मेहता, सदस्य, स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड

मैंने सभी संबंधित जगह पर बाघों के हित में फैसला लेने की बात पहुंचाई है। जल्द ही विभाग को इस ओर फैसला करना चाहिए। देर का कोई कारण ही नहीं बनता है। -मिनी संपतराम, बोर्ड सदस्य

राजा का जीवन भले ही एक दिन का बचा हो, लेकिन वह स्वतंत्र मिले। वह इसका अधिकारी है। तीनों टाइगर रिजर्व के एनक्लोजर में बंद बाघों के मामले में पहले ही काफी देर हो चुकी है। वन विभाग को इस मसले पर तुरंत निर्णय लेना चाहिए। हमने चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन को भी कहा है।-धीरेंद्र गोधा, सदस्य, स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड

केंद्र तक पहुंचा मामला
मसला आया है, जिसे एक्जामिन करा रहे हैं। टाइगर के हित में जो भी निर्णय होगा, उसे लागू कराएंगे। कोई भी नहीं चाहेगा कि टाइगर के साथ गलत हो। -डॉ. एसपी यादव, मेंबर सेक्रेट्री, नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी

राज्य से फैसले की बात
बाघ के इलाज का मसला था। सरिस्का तो मैं खुद जाकर आया भी था। डॉक्टर की रिपोर्ट पर फैसला ले सकते हैं। बाकी जगह के लिए भी मैंने बात की है। फैसला लेंगे।-सुखराम विश्नोई, वन मंत्री

खबरें और भी हैं...