पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Brahmapuri Is A Residential Area, Parking Is Needed In Another Area, If You Want To Build It, Then Make It On The Drain Land

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पार्क में नोपार्किंग:ब्रह्मपुरी आवासीय क्षेत्र है, पार्किंग की जरूरत दूसरे एरिया में,बनानी ही है तो नाले की जमीन पर बना लें

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पौंडरिक पार्क में शनिवार को महिलाओं ने पेड़ों के बचाने के लिए रक्षा सूत्र बांधे। इसके बाद 
पार्क में रामधुनी रमाई। इस मौके पर पार्क और पर्यावरण को बचाने का संकल्प भी लिया। - Dainik Bhaskar
पौंडरिक पार्क में शनिवार को महिलाओं ने पेड़ों के बचाने के लिए रक्षा सूत्र बांधे। इसके बाद पार्क में रामधुनी रमाई। इस मौके पर पार्क और पर्यावरण को बचाने का संकल्प भी लिया।
  • चौगान की पार्किंग है तो पौंडरिक पार्क में क्यों?

पौंडरिक पार्क में आंख मूंदकर पार्किंग का प्लान बनाने वाले स्मार्ट सिटी के अफसर भी निशाने पर हैं। पूर्व न्यायाधीश, रिटायर्ड चीफ इंजीनियर आदि ने उनकी भूमिका को कटघरे में रखा है। वहीं यह तर्क भी खारिज किया है कि पार्क में अंडरग्राउंड पार्किंग बनाई जाए। सभी विशेषज्ञों के मुताबिक पार्क के स्वरूप को छेड़ा ही नहीं जा सकता। स्मार्ट सिटी एसई दिनेश गोयल ने जवाब दिया कि ‘अंडरग्राउंड पार्किंग के ऊपर एक मीटर मिट्टी रहेगी। इसमें बड़े पेड़ तो नहीं, लेकिन छोटे पौधे लगाए जा सकते हैं।’

वहीं दूसरा मसला फोकस एरिया बदलने का है। जैसा कि रामनिवास बाग की अंडरग्राउंड पार्किंग के बाद हुआ। जानकारों के मुताबिक यह सीधे तौर पर हमारे फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने वाला मामला है, जिसकी इजाजत न तो कानून देता है और न ही शहर की जनता। अगर पार्किंग बनानी ही है कि पार्क के एरिया से दूर नाले की जमीन को पाटकर बनाएं, ताकि नाले भी कवर हों। जैसा कि पहले एकाध जगह किया गया है।

पूर्व जज बोले- हमारे फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने का हक किसी को नहीं
^ पार्क हमारे फेफड़े हैं। इसे नुकसान पहुंचाने का किसी को भी अधिकार नहीं। पार्क की बजाए और कहीं जगह तलाशें। पार्क की जमीन पर तो बना ही नहीं सकते। पार्क छोड़े ही इसीलिए जाते हैं कि ये सर्वाधिक जरूरत है। वरना तो पार्क को बेचकर फ्लैट बना दो। तमाशा थोड़े ही है। कोर्ट में रिट हो जाए तो रोक लग जाएगी। आर्टिकल 226 के अंतर्गत चुनौती दी जी सकती है। (अंडरग्राउंड बनाने पर?) कोई छोटा हिस्सा भी नहीं छू सकते। पर्यावरण का मामला है। पार्क में बदलाव नहीं हो सकता।

-शिव कुमार शर्मा, पूर्व जज , हाईकोर्ट

ऐसे मामलों में अफसरों से रिकवरी होनी चाहिए
^ ब्रह्मपुरी से ज्यादा शहर में दूसरी ऐसी जगहें हैं, जहां पार्किंग की जरूरत ज्यादा है। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, राजापार्क आदि कई एरिया हैं। हैरत है कि अफसर ऐसा प्लान बना कैसे रहे हैं, क्या उनको नियमों की जानकारी नहीं है कि पार्क में ये गतिविधि नहीं हो सकती। ऐसे मामलों में रिकवरी होनी चाहिए। केवल सिफारिश भर से तो काम नहीं किए जा सकते। लगता है सरकार-अफसरों को कोर्ट का डर नहीं है।
-अरविंद आर्य, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट और पूर्व अतिरिक्त मुख्य अभियंता

अफसरों को सेंस नहीं है, पैसे बर्बाद कर रहे
^ ये तो पूरी तरह गलत है। पौंड्रिक पार्क वाला रेजीडेंशियल एरिया है। भविष्य में भी वहां गाड़ियों की पार्किंग की ऐसी जरूरत नहीं पड़ने वाली कि एक किलोमीटर में दो पार्किंग बनाएं। अरे भाई, ग्रीन एरिया शहर की धरोहर है। अंडरग्राउंड की बात कहने वाले बताएं कि रामनिवास बाग में कितना विकसित कर पाए। कोई नजीर तो हो। अफसरों को सेंस नहीं है। पैसे बर्बाद कर रहे हैं। ये कैसी स्मार्ट सिटी है।
-बीजी शर्मा, पूर्व चीफ इंजीनियर और सेक्रेट्री, पीडब्ल्यूडी

सबने ठाना है पार्क को बचाना है

पार्क में पार्किंग के विरोध पर स्थानीय लोगों और बीजेपी नेताओं ने धरना लगा रामधुनी शुरू की है। पेड़ों को रक्षा सूत्र बांधे गए। पूर्व उप महापौर मनोज भारद्वाज ने कहा-स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में कहीं भी पार्क को नुकसान पहुंचा, पार्किंग की बात शामिल नहीं है। विधायक कालीचरण के मुताबिक-सरकार को जनभावनाएं समझनी चाहिए। हठधर्मिता पर राज्यपाल से गुहार करेंगे। मनोज भंवरलाल शर्मा बोले-उनके पिता ने पार्क में जीर्णोद्धार कराया, अब इसे सरकार मनमानी कर नुकसान पहुंचा रही, जो गलत है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें