• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • BSC And BTECH Pass Youths Learned To Hack Sites On Google, YouTube, Telegram, Opened Fake Accounts Of Illiterate People, Hacked And Transferred From Paytm

गूगल, यूट्यूब और टेलीग्राम से सीखी हैकिंग:जयपुर के 3 युवकों ने पेमेंट गेटवे कंपनी के सर्वर हैक कर 5 लाख उड़ाए, अनपढ़ लोगों के फर्जी खाते खुलवाकर ट्रांसफर करते रहे रकम

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में तीनों युवक। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्त में तीनों युवक।

गेटवे कंपनी के सर्वर को हैक कर 3 युवकों ने 5.28 लाख रुपए ट्रांसफर कर लिए। जयपुर साइबर क्राइम ब्रांच की टीम ने तीनों साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है। एक युवक कम्प्यूटर साइंस में B.Sc और दूसरा B.Tech है। दोनों कम्प्यूटर के मास्टर हैं। खास बात यह है कि इन्होंने गूगल, यूट्यूब व टेलीग्राम ग्रुप से हैक करना सीखा था। ये साइट्स को हैक कर रुपए पेटीएम व सीधे बैंक खातों में ट्रांसफर कर लेते हैं। इन्होंने डायमंड एक्सचेंज, बीएसएफ 777, मैच ऑन को भी हैक करके रुपए निकाले हैं। इनके पास से पुलिस को 5 लैपटॉप, 7 मोबाइल, 6 से अधिक सिम कार्ड़ व क्रेडिट कार्ड बरामद हुए हैं।

सर्वर डाटा से छेड़छाड़
एडीशनल पुलिस कमिश्नर अजयपाल लांबा ने बताया कि 22 वर्षीय सांवरमल गुर्जर, राकेश कुमावत और गौरव कुमार को साइबर ठगी के मामले में गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि करधनी जयपुर की पेमेंट गेटवे कंपनी की ओर से एक रिपोर्ट मिली थी। संचालक ने बताया कि कंपनी के सर्वर को बार-बार हैक किया जा रहा है। सर्वर डाटा से छेड़छाड़ कर कई बैंकों में रुपए ट्रांसफर कर लिए गए। पेमेंट वॉलेट में छोटे-छोटे लेनदेन कर 5 लाख 28 हजार 530 रुपए निकाल लिए गए। रिपोर्ट मिलने के बाद साइबर क्राइम से इंस्पेक्टर सतपाल यादव को जांच में लगाया गया।

इस तरह करते हैं वारदात
जांच में पता लगा कि गौरव कुमार कम्प्यूटर साइंस में B.Sc है और राकेश B.Tech है। इन दोनों को कम्प्यूटर की अच्छी जानकारी है। इन दोनों ने पहले सांवरमल को अपने साथ लिया। इसके बाद गूगल, यूट्यूब व टेलीग्राम से साइट्स को हैक करना सीखा। वे अलग-अलग साइट्स के लूप होल (बग) की जानकारी लेने लगे। साइट्स की कमजोरी का लाभ लेकर इन्होंने उन्हें हैक कर रुपए निकालना शुरू कर दिया। इन्होंने बैटिंग साइट डायमंड एक्सचेंज, बीएसएफ 777 व मैच ऑन को भी हैक कर रुपए निकाले हैं। पुलिस इनके लेनदेन के रिकॉर्ड चेक कर रही है।

पुलिस की क्राइम ब्रांच ने 3 युवकों को गिरफ्तार किया है।
पुलिस की क्राइम ब्रांच ने 3 युवकों को गिरफ्तार किया है।

अनपढ़ लोगों के फर्जी खाते खुलवाए
दोनों ने रुपए ट्रांसफर करने के लिए भी अलग से रास्ता निकाला। इन्होंने कुछ अनपढ़ लोगों को तलाशा। उन्हें कुछ लालच देकर उनके नाम से ही फर्जी खाते खुलवाए। इसके बाद उनके पासबुक, एटीएम कार्ड़ लेकर खुद के पास रख लिए। इन्हीं खातों में ये रुपए ट्रांसफर करवा लेते थे। बाद में रुपए एटीएम से निकाल लेते थे। इन्होंने साइबर ठगों के अलग-अलग टेलीग्राम व वॉटसऐप के ग्रुप बना रखे हैं। वे आपस में इन्हीं ग्रुप से एक-दूसरे से संपर्क कर बातचीत करते हैं। पुलिस अब इनके खातों में लेन-देन को चेक कर रही है। साथ ही, सारे वॉटसऐप व टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े लोगों का डाटा ले रही है।

खबरें और भी हैं...