पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आतिशबाजी पर रोक से रोष:राजस्थान सरकार के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचे पटाखा कारोबारी, बोले- 25 करोड़ से ज्यादा का एडवांस फंसा; सुनवाई 4 को

जयपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर में स्टेच्यू सर्किल पर पटाखा बिक्री के लिए जारी  किए जाने वाले अस्थायी लाइसेंस पर रोक लगाने के विरोध में प्रदर्शन करते व्यापारी। - Dainik Bhaskar
जयपुर में स्टेच्यू सर्किल पर पटाखा बिक्री के लिए जारी किए जाने वाले अस्थायी लाइसेंस पर रोक लगाने के विरोध में प्रदर्शन करते व्यापारी।

दीपावली से 14 दिन पहले राजस्थान में आतिशबाजी पर रोक लगाने के फैसले ने पटाखा व्यापारियों की परेशानी बढ़ा दी। अब इस निर्णय के खिलाफ जयपुर के पटाखा व्यापार से जुड़े संघो ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई है। व्यापारियों का कहना है कि सरकार के इस निर्णय से उनकी रोजी-रोटी पर तो संकट आया ही है, बल्कि शहर के व्यापारियों का 25 करोड़ रुपए से ज्यादा का एडवांस पैमेंट भी फंस गया। ये पेमेंट पटाखा बनाने, दुकानों के किराये की एवज में दिया है। अब समस्या ये आ रही है कि पटाखे बनकर तैयार हो गए, अब उनका करें क्या?

इस सब को देखते हुए राजस्थान फायरवर्क्स डीलर्स एण्ड मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन और अस्थायी पटाखा विक्रेता संघ ने मिलकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की है, जिस पर 4 नवंबर को सुनवाई होगी। मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन के प्रचार मंत्री जाहीर अहमद ने बताया कि देश में किसी भी राज्य में आतिशबाजी करने पर रोक नहीं है। ना ही किसी भी बड़ी एजेंसी या संस्था ने ऐसा कोई रिसर्च कर दावा किया है कि पटाखों से कोरोना का संक्रमण फैलेगा। जबकि सरकार ने ये निर्णय केवल इसलिए किया है कि पटाखों से निकलने वाले धुंए से कोरोना के साथ ही दिल व सांस संबंधि बीमारी से पीड़ित मरीजों को भी तकलीफ का सामना करना पड़ सकता है। उन्होने बताया कि दीपावली पर पटाखों से निकलने वाले धुंए से केवल एक ही दिन वह भी 3 से 4 घंटे ही प्रदूषण रहता है, जो कुल प्रदूषण का 4 फीसदी ही होता है। जबकि सरकार को उन फैक्ट्रियों व कारखानों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए जो पूरे साल बड़ी मात्रा में पॉल्यूशन जनरेट करते है।

एक हजार से ज्यादा लाइसेंस बनकर तैयार
अस्थायी पटाखा विक्रेता संघ अध्यक्ष रामबाबू दूसाज ने बताया कि हर साल की तरह इस बार भी हमने दुकानें किराये पर ले ली, जिसका दुकान मालिक को एडवासं पेमेंट कर दिया। इसी तरह पटाखे बनाने वाली कंपनियों व हॉलसेलरों को भी लाखों रुपए का एडवांस भुगतान कर दिया। ये सब इसलिए किया क्योंकि सरकार ने ही सितम्बर में पटाखों की बिक्री के लिए अस्थायी लाइसेंस जारी करने के आवेदन मांगे थे। जयपुर शहर में 1375 व्यापारियों ने आवेदन किए और इस पर भी हजारों रुपए खर्च कर दिए। अब जब लाईसेंस बनकर तैयार हो गए और देने का समय आया तो सरकार ने रोक लगाकर हमारे लिए परेशानी खड़ी कर दी।

कहां रखेंगे पटाखों का स्टॉक
दूसाज ने बताया कि हमने जो पटाखा बनाने वाली कंपनियों को एडवांस दिया है उसके अनुरूप कंपनियों ने माल भी तैयार कर लिया, लेकिन अब हम उस माल को उठाकर अपने गोदामों में भी नहीं रख सकते। क्योंकि सरकार ने अस्थायी लाईसेंस जारी करने पर ही रोक लगा दी। अगर हम बिना लाइसेंस के पटाखों का स्टॉक करते है तो प्रशासन हमारे खिलाफ कार्यवाही कर सकता है।

विरोध करने सड़कों पर उतरे व्यापारी
सरकार के निर्णय के खिलाफ पटाखा विक्रेताओं ने आज दिन में जयपुर के स्टेच्यू सर्किल पर विरोध प्रदर्शन भी किया। बैनर-तख्तियां हाथ में लेकर व्यापारियों ने नारेबाजी की और सरकार से अपना निर्णय वापस लेने की मांग की।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

और पढ़ें