सीबीआई ने राजस्थान में 25 स्थानों पर मारे छापे:11 करोड़ रुपए के सिक्के गायब करने के केस में 15 बैंककर्मियों के यहां छापेमारी

जयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीबीआई ने एसबीआई से 11 करोड़ के सिक्के गायब होने के मामले में प्रदेश में छापेमारी की है। इस मामले में सीबीआई टीमों ने दिल्ली, जयपुर, दौसा, करौली, सवाई माधोपुर, अलवर, उदयपुर और भीलवाड़ा में 25 स्थानों पर सर्च किया। टीम ने 15 तत्कालीन बैंक कर्मियों के यहां छापे मारे। इनमें ब्रांच मैनेजर, कैशियर सहित कई अधिकारी शामिल हैं। सीबीआई ने छापों में दस्तावेज जब्त किए हैं।

सीबीआई ने राजस्थान हाईकोर्ट जयपुर के आदेश की पालना में 13 अप्रैल 2022 को मामला दर्ज किया था। अगस्त 2021 में भारतीय स्टेट बैंक, मेहंदीपुर बालाजी शाखा जिला करौली में सिक्कों की गिनती के दौरान 11 करोड़ के सिक्कों की धोखाधड़ी के आरोप का मामला सामने आया। इस संबंध में टोडाभीम थाना करौली में मुकदमा दर्ज किया गया। इसकी जांच सीबीआई ने शुरू की है। तलाशी के दौरान बरामद दस्तावेजों की छानबीन की जा रही है। सीबीआई की एसीबी विंग इस की जांच रही हैं।

यह था मामला जिसके बाद दी गई सीबीआई को जांच
मेहंदीपुर बालाजी मंदिर ट्रस्ट में श्रद्धालुओं से सिक्कों के रूप में आने वाले चढावे की राशि को मंदिर ट्रस्ट द्वारा एसबीआई शाखा में जमा करवाया जाता है। बैंक प्रबंधन ने सिक्कों की गिनती के लिए एक निजी फर्म को टेंडर दिया। जिसमें बैंक रिकॉर्ड में 13 करोड़ 62 लाख 11 हजार 275 रुपए के कुल सिक्के जमा थे। जबकि गिनती में एक करोड़ 39 लाख 60 हजार ही मिले। ऐसे में गिनती के दौरान कुछ बदमाशों ने फर्म के मैनेजर को सिक्कों की गिनती नहीं करने की धमकी दी थी। इस संबंध में बैंक मैनेजर हरगोविंद मीणा ने करौली एसपी को शिकायत भेजकर कार्रवाई की मांग की थी। साथ ही टोडाभीम थाने में दर्ज हुई एफआईआर में मैनेजर ने पिछले 5 साल में बैंक में कार्यरत रहे कर्मचारियों की जांच कराने की मांग भी की थी।

खबरें और भी हैं...