राज्य के साेलर उद्याेग पर संकट बढ़ने का अंदेशा:केंद्र के आदेश- अब भारत में बने सोलर पैनल और उपकरण ही करने होंगे इंस्टॉल

जयपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
देशभर के सोलर पैनल इंस्टॉल करने वाली कंपनियों को अब भारत में बने सोलर पैनल व अन्य उपकरण ही काम में लेने हाेंगे।(फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
देशभर के सोलर पैनल इंस्टॉल करने वाली कंपनियों को अब भारत में बने सोलर पैनल व अन्य उपकरण ही काम में लेने हाेंगे।(फाइल फोटो)

देशभर के सोलर पैनल इंस्टॉल करने वाली कंपनियों को अब भारत में बने सोलर पैनल व अन्य उपकरण ही काम में लेने हाेंगे। वे उपकरण भी केवल उन्हीं कंपनियों से लेने हाेंगे, जाे अप्रूवल लिस्ट ऑफ मॉडल एंड मेन्यूफेक्चरर्स (ALMM) में शामिल होंगी। इस फैसले से राज्य की सोलर पैनल बनाने वाली कंपनियों व इंस्टॉल करने वाली यूनिट्स में खासी हलचल मच गई है।

राजस्थान सोलर एनर्जी में टॉप पर है। ऐसे में इस आदेश का सबसे बड़ा असर राज्य पर पड़ने वाला है। मौजूदा समय में राज्य में 1000 सिस्टम इंटीग्रेटर कंपनियां हैं। आमतौर पर ये कंपनियां लिस्टेड या अन्य कंपनियों सहित विदेशी कंपनियों के मॉड्यूल काम में लेती हैं। वर्तमान में 80 प्रतिशत मॉड्यूल विदेशी कंपनियों से इंपोर्ट किए जा रहे हैं। राजस्थान में वर्तमान में केवल दो कंपनियां ALMM में शामिल हैं। करीब 6 अनरजिस्टर्ड हैं। इनसे केवल 20 प्रतिशत उपकरणों की पूर्ति ही होती है।

मेक इन इंडिया को प्रमोट करना अच्छा है। इसका स्वागत है, लेकिन देश में सोलर एनर्जी के कुल टारगेट की पूर्ति कैसे होगी, कहना मुश्किल होगा। इससे इकोनॉमिकल व कंपिटीटिव दरों पर असर पड़ेगा। -सुनील बंसल, अध्यक्ष, राजस्थान सोलर एसोसिएशन

आदेश का यह पड़ेगा असर

  • सोलर इंस्टॉल कराना महंगा हो सकता है
  • राज्य में आने वाले उद्योग बिजली की आपूर्ति के लिए सोलर को बड़ा टूल मानते हैं। सोलर महंगा होने और इंस्टॉलेशन में देरी राज्य में आने वाले उद्योगों की रुचि को भी कम कर सकता है।
  • राज्य में लगने वाले सोलर पैनल की कंपीटिटिव रेट बढ़ जाने से इस उद्योग पर सीधे-सीधे असर पड़ेगा।

रजिस्टर्ड कराना भी कठिन होगा
केंद्र के नोटिफिकेशन के अनुसार ALMM में शामिल कंपनियों से खरीद जरूरी करने से ऐसी अनरजिस्टर्ड सोलर पैनल बनाने वाली कंपनियों को इसमें रजिस्टर्ड कराना होगा। इसमें 5 लाख रुपए न्यूनतम शुल्क के साथ कई ऐसी औपचारिकताएं पूरी करनी होंगी, जिनमें खासा समय लगता है, जितने भी समय में वह रजिस्टर होंगे, तब तक उनसे कोई भी सिस्टम इंटीग्रेटर कंपनियां पैनल व अन्य उपकरण नहीं खरीद सकेंगे।

खबरें और भी हैं...