पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Chief Minister Gehlot's OSD Was Called For Questioning By The Delhi Crime Branch On July 24, The High Court Has Stayed The Action Till August 6.

पेगासस विवाद के बीच फोन टैपिंग की जांच तेज:दिल्ली क्राइम ब्रांच ने मुख्यमंत्री के OSD को 24 जुलाई को पूछताछ के लिए बुलाया, हाईकोर्ट ने 6 अगस्त तक कार्रवाई पर रोक लगा रखी है

जयपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने 25 मार्च को मुख्यमंत्री के ओएसडी लोकेश शर्मा समेत कई अफसरों के खिलाफ फोन टैपिंग मामले में दिल्ली में केस दर्ज कराया था। - Dainik Bhaskar
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने 25 मार्च को मुख्यमंत्री के ओएसडी लोकेश शर्मा समेत कई अफसरों के खिलाफ फोन टैपिंग मामले में दिल्ली में केस दर्ज कराया था।

पेगासस जासूसी मामला गर्म होने के बाद एक बार फिर राजस्थान के फोन टैपिंग केस का मामल गर्मा गया है। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह की एफआईआर वाले केस में दिल्ली क्राइम ब्रांच ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी लोकेश शर्मा को 24 जुलाई को सुबह 11 बजे पूछताछ के लिए तलब किया है। लोकेश शर्मा को पहली बार दिल्ली क्राइम ब्रांच से पूछताछ का नोटिस आया है। इससे पहले सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी को पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन उन्होंने उम्र का हवाला देते हुए पूछताछ के लिए जाने से इनकार कर दिया था।

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के परिवाद पर दिल्ली क्राइम ब्रांच ने 25 मार्च को मुख्यमंत्री के ओएसडी लोकेश शर्मा और पुलिस अफसरों के खिलाफ फोन टैपिंग और ऑडियो वायरल करके छवि खराब करने के मामले में केस दर्ज किया था। लोकेश शर्मा ने इस एफआईआर को दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी थी, जिसके बाद उन्हें 6 अगस्त तक किसी भी तरह की गिरफ्तारी या कार्रवाई से छूट मिली हुई है। दिल्ली हाईकोर्ट में अब मामले की अगली सुनवाई 6 अगस्त को होनी है।

पिछले साल सचिन पायलट खेमे की बगावत के बाद गहलोत खेमे ने बीजेपी पर विधायकों की खरीद फरोख्त के आरोप लगाए थे। पिछले साल जुलाई में गहलोत खेमे ने कुछ ऑडियो टेप वायरल किए थे। जिसमें केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा के साथ गहलोत सरकार को गिराने के लिए सोदेबाजी का आरोप लगाया गया था। पायलट खेमे से सुलह के बाद यह मामला ठंडा पड़ गया था। लेकिन मार्च में यह मामला फिर गर्म हुआ, जब बीजेपी विधायक कालीचरण सराफ के एक सवाल के लिखित जवाब में सरकार ने माना कि विधिक प्रक्रिया अपनाकर सरकार ने कुछ लोगों के फोन टैप किए हैं। इस मुद्दे पर विधानसभा के बजट सत्र में जमकर हंगामा हुआ था।

विधानसभा में ससंदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने माना था कि मुख्यमंत्री के ओएसडी ने ऑडियो वायरल किए थे। बीजेपी शुरू से ही इन वायरल ऑडियो के सोर्स के बारे में पूछते हुए सरकार पर फोन टैपिंग के आरोप लगा रही है। इसके बाद मार्च में गजेंद्र सिंह ने दिल्ली पुलिस को शिकायत दी था, जिस पर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने 25 मार्च को एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

लोकेश शर्मा के 24 को दिल्ली क्राइम ब्रांच के सामने पेश होने की संभावना कम
अब इस मामले में लोकेश शर्मा दिल्ली क्राइम ब्राचं के नोटिस के बाद कानूनी राय ले रहे हैं। लोकेश शर्मा के 24 जुलाई को दिल्ली क्राइम ब्रांच के सामने पेश होने की संभावना कम है, इस पूरे मसले पर विधिक राय ली जा रही है।

फोन टेपिंग राजस्थान में, FIR दिल्ली में:केंद्रीय मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत ने CM गहलोत के OSD समेत पुलिस अफसरों पर केस दर्ज कराया; दिल्ली क्राइम ब्रांच करेगी जांच

फोन टैपिंग मामला, मुख्य सचेतक को समन:महेश जोशी को दिल्ली क्राइम ब्रांच ने 24 जून को बुलाया; राजस्थान के कई नेता और अफसरों से भी हो सकती है पूछताछ

फोन टेपिंग केस पर सियासी भूचाल तय:महेश जोशी आज दिल्ली क्राइम ब्रांच के सामने पेश नहीं हुए, आगे भी नहीं होंगे; बोले- जिस टेप के आधार पर FIR उसमें आवाज गजेंद्र सिंह की

फोन टैपिंग मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट ने गजेंद्र सिंह शेखावत की FIR पर गहलोत के OSD के खिलाफ कार्रवाई पर 6 अगस्त तक रोक, दिल्ली और राजस्थान पुलिस से स्टेटस रिपोर्ट मांगी

खबरें और भी हैं...