पद मिलते ही बेतुकी बयानबाजी!:मुख्यमंत्रीजी! अब जनता जानना चाहती है मंत्री बनने की योग्यता क्या है?

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
​​​​​​​परसादी लाल मीणा, राजकुमार शर्मा और राजेंद्र गुढ़ा। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
​​​​​​​परसादी लाल मीणा, राजकुमार शर्मा और राजेंद्र गुढ़ा। (फाइल फोटो)

माननीय मुख्यमंत्री महोदय, राजस्थान सरकार, जयपुर महोदय, निवेदन है कि मंत्रिमंडल गठन के बाद ऐसा लगता है कि मंत्री बनने के लिए कोई विशेष योग्यता की आवश्यकता होती है। कृपया हमें बताने की कृपा करें कि विशेष काबिलियत क्या है? ताकि उसे हासिल करके भविष्य में मंत्री बनने की कोशिश की जा सके।

( विधायक परमार ने मुख्यमंत्री को चिट्‌ठी लिखकर नए बनाए जा रहे मंत्रियों के लिए योग्यता पूछी थी। )

1. मेरे गांव में सड़कें बननी चाहिए कैटरीना कैफ के गाल जैसी...।

राजेंद्र गुढ़ा, ग्रामीण विकास राज्य मंत्री
शिक्षा :
10वीं पास

चीफ इंजीनियर से कहा- मेरे गांव में हेमा मालिनी के गाल जैसी सड़कें बननी चाहिए।' फिर बोले- हेमा बूढ़ी हो गई है। जनता से पूछा- आजकल कौन सी एक्ट्रेस है। लोगों ने कैटरीना कहा। मंत्री बोले- कैटरीना के गालों जैसी बननी चाहिए। गुढ़ा पहले कह चुके- आरोपी की बहन-बेटियों को उनके घर से उठाकर ले जाएंगे।

2. पीएम ने नाचने वाली कंगना समेत 15 सलाहकार रखे हैं।

राजकुमार शर्मा, मुख्यमंत्री के सलाहकार
शिक्षा :
एमए, पीएचडी

नवलगढ़ विधायक डॉ. राजकुमार शर्मा ने कहा- पीएम ने कंगना रनौत जैसी नाचने वाली समेत 15 सलाहकार रखे हैं। क्या पीएम इतने कमजोर हैं कि 15 सलाहकारों की जरूरत है? बाद में कहा- कंगना ने किसानों को आतंकी बताया। आजादी को भीख में मिली हुई बताया था। इसी संदर्भ में मैंने कहा।

जहरीली शराब से मरने से अच्छा है, सरकारी सिस्टम से शराब पीयाे

परसादी लाल मीणा, चिकित्सा, आबकारी मंत्री
शिक्षा :
12वीं पास

परसादी से बुधवार को पूछा गया कि मंत्री के रूप में वे दवा और दारू में से किसे प्राथमिकता देंगे तो बोले- आपको पता है कि पटना में शराबबंदी है, वहां लोग जहरीली शराब से मर रहे हैं। मरने से ताे अच्छा है सरकारी सिस्टम से शराब लेकर पी लें। पीनी है तो पीयो और नहीं पीनी है तो मत पीओ।

भास्कर व्यू : दुनिया बदल गई, लेकिन दुर्भाग्य यह है कि राजनेताओं की नई पीढ़ी पिछले जमाने के नेताओं की बुराइयां ज्यों कि त्यों आगे बढ़ा रही है। आज की सशक्त महिलाओं के गुण उन्हें नहीं दिखते। महिलाओं को लेकर अपशब्द कहना, मजाक उड़ाना आदि धारा 354 के तहत अपराध की श्रेणी में आता है।

जहरीली शराब की बुराई बताना ठीक है। लेकिन शराब को प्रमोट करना भी हर लिहाज से गलत है। जनता को बयान इसलिए भी अखर रहा है क्योंकि आपके पास स्वास्थ्य विभाग भी है।

खबरें और भी हैं...