• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Confession Of The Shooter During Interrogation Do Not Shake Hands While Firing, So The Shooter Fired On The Dummy On The First Day

NHAI एडवाइजर की हत्या का मामला:पूछताछ के दौरान शूटर का कबूलनामा- गोली चलाते समय हाथ न कांपे, इसलिए शूटर ने पहले दिन डमी पर की फायरिंग

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक राजेंद्र - Dainik Bhaskar
मृतक राजेंद्र

वैशाली नगर में दस दिन पहले एनएचएआई ऑफिस के बाहर कंसलटेंट एजेंसी के एडवाइजर राजेन्द्र चावला की हत्या के मामले में पकड़े गए शूटर धर्मेंद ने पूछताछ में कबूल किया कि बीच चौराहे पर हत्या के समय हाथ नहीं कांपे इसलिए उसने पहले दिन गुड़गांव में डमी पर कई बार फायरिंग की।

वारदात वाले दिन विकास को जैसे ही चावला की मौत होने की सूचना मिली तो गुड़गांव रवाना हो गया। साथी द्वारा हॉस्पिटल बुलाने पर अर्जेंट काम बहाना बनाकर आने से मना कर दिया। यह बात ज्योंही पुलिस को पता चली तब से शक की सूई ई-5 इन्फ्रास्ट्रक्चर पर अटक गई। एक-एक बिंदू पर जांच और सबूत एकत्र करके साबित करने में एक सप्ताह लग गया। गौरतलब है कि पुलिस ने इस हाईप्रोफाइल मर्डर केस खुलासा करके ई-5 इन्फ्रास्ट्रक्चर के एमडी करणदीप श्योरण व शूटर सहित पांच जनों को गिरफ्तार कर लिया।

डीसीपी ऋचा तोमर ने बताया कि फायरिंग के बाद मीटिंग में आए इंजीनियर राम भूषण व जय शर्मा की कार से चालक त्रिलोक चंद यादव व ई-5 का जयपुर लाइजन ऑफिसर संजय सैनी अस्पताल लेकर गए थे। सूचना मिलने के बाद पुलिस टीम हॉस्पिटल पहुंची तो सामने आया कि उनकी कंपनी की तरफ से विकास ने गाड़ी से भिजवाया था। उनके बार-बार फोन भी आ रहे थे, लेकिन मरने की सूचना मिलने के बाद आने से मना कर दिया और कहा कि काेई अर्जेंट काम आ गया।

इसलिए वह गुड़गांव जा रहे है। पुलिस ने उसके नंबर लेकर संपर्क किया तो आने से मना कर दिया और गुड़गांव से रात को चंडीगढ़ पहुंच गया। ऐसे में पुलिस का वहीं शक बढ़ गया। उसके बाद पुलिस ने मीटिंग में शामिल सभी लोगों के बयान दर्ज करने की बात कही तो अगले दिन फ्लाइट से दिल्ली और बाद में कंपनी की कार से जयपुर आ गया। नवीन भी गुड़गांव फ्लैट पर रखे शूटरों के मोबाइल व बैग लेकर गांव चला गया। उसे भी बयान दर्ज करने के बहाने वापस बुलाया।

एडिशनल डीसीपी रामसिंह शेखावत ने बताया गाड़ी के बार-बार चक्कर लगाने के बारे में पूछा तो बताया कि एक बार सिगरेट लेने गए और दूसरी बार नाश्ता करने की बात कहकर पुलिस को गुमराह किया। उसके बाद दोनों कंपनी और वहां काम करने वाले कर्मचारियों के बारे में पूछताछ करके कुंडली खंगाली तो सामने आया कि आंध्रप्रदेश प्रोजेक्ट पर काम करने वाले इंजीनियर प्रदीप गुर्जर की लोकेशन घटना के वक्त जयपुर में आई।

जब पुलिस ने टोल नाकों के फुटेज का एनालिसिस किया तो उनकी गाड़ी भी विकास के पीछे-पीछे आई और घटना के कुछ देर बाद वापस गुड़गांव पहुंच गई। तब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ शुरू कर दी। तब आरोपियों ने हत्या करने की बात कबूली और इस साजिश में करणदीप और अमित नेहरा शामिल होने की बात सामने आई।

शूटर ने अफीम मांगी, व्यवस्था नहीं हुई तो सिगरेट पिलाई
करणदीप हथियार रखने का शौकीन बताया जा रहा है। इसलिए वह बिहार निवासी इंजीनियर शेखर से कई बार हथियार मंगवा चुका। शूटरों को भी उनमें से हथियार दिए थे। अब पुलिस को आशंका है कि करणदीप के पास भारी मात्रा में हथियार है। अब पुलिस हथियार के संबंध में जांच कर रही है। इधर, शूटर जैसे ही जयपुर पहुंचे तो एक शूटर ने नशे के लिए अफीम मांगी, लेकिन नहीं दिलवा सके। बाद में सिगरेट का एक पूरा पैकिट पिलाया।

वारदात में काम लिए गए हथियार फरार शूटर के पास

  • 24 अगस्त की रात को कंपनी के इंजीनियर पीयूष की बर्थ-डे पार्टी के दौरान चावला की हत्या की योजना बनानी शुरू की दी। उसके बाद 25 को विकास ने करणदीप से पैसे की बात होने के बाद शूटर बुलाए गए।
  • पकड़े गए शूटर धर्मेंद्र को पुलिस ने रविवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से 11 तक रिमांड पर भेज दिया। उससे पूछताछ में सामने आया कि वारदात के बाद दोनों बस से गुड़गांव पहुंचे थे, जहां से विकास के कहने पर शेखर कार से गांव छोड़कर आया था। वारदात के लिए काम में लिए गए दोनों हथियार फरार शूटर रामदया के पास है।
खबरें और भी हैं...