पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सियासत:कांग्रेस ने इस साल जयपुर में चार बार बाड़ाबंदी की

जयपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश की राजधानी में बाड़ाबंदी की शुरुआत गत 15 साल से होती अा रही है। भाजपा हा़े या कांग्रेस सभी विधायकों की खरीद फरोख्त रोकने के लिए बाड़ाबंदी काे हथियार के रूप में काम लेते अाए हैं। लेकिन यह पहला माैका है जब राजधानी में एक साल में चार दफा बाड़ा बंदी की गई है। हालांकि यह भी खास है कि अधिकतर बाड़ाबंदी मार्च व जून में हुई है।

मार्च : मप्र में ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में जाने से बदले सियासी समीकरणों के बीच कांग्रेस के विधायकों को जयपुर लाया गया। 
मार्च में ही राज्यसभा चुनावों के दौरान हॉर्स ट्रेडिंग से बचाने के लिए कांग्रेस ने अपने अधिकतर विधायकों को जयपुर भेजा था। सभी विधायक दिल्ली रोड स्थित एक होटल में रुके थे। कोरोना संक्रमण की वजह से चुनाव स्थगित होने की वजह से सभी विधायक वापस लौट गए थे।

जून में राज्यसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने विधायकों को दिल्ली रोड स्थित होटल में ठहराया 10 दिन तक विधायकों का सियासी क्वारंटाइन रहा। 19 जून को विधायक मतदान करने के बाद ही बाड़े से छूटे।

जुलाई 1 महीने बाद फिर राजस्थान में राज्य सरकार पर सियासी संकट आया। सेामवार 13 जुलाई से विधायकों को फिर से बाड़ाबंदी में रखा गया है। अभी विधायक कब तक होटल में ठहरे रहेंगे यह तय नहीं हैं।

2005 से 2016 तक 3 राज्यों का बाड़ा बना राजस्थान

2005 में झारखंड के भाजपा विधायकों को बाड़ाबंदी के लिए राजस्थान लाए। भाजपा, जेडीयू, निर्दलीय सहित 37 विधायक थे। दिल्ली रोड स्थित होटल में रुके।

जून 2016 : गुजरात में राज्यसभा चुनाव के समय हॉर्स ट्रेडिंग से बचने के लिए कांग्रेस के आठ विधायकों को माउंट आबू में ठहराया था।

मार्च 2016: उत्तराखंड की हरीश रावत की सरकार पर संकट के दौर में भाजपा के 27 विधायकों को बाड़ाबंदी कर जयपुर के एक होटल में ठहराया गया था। विधायकों को जयपुर से पुष्कर भी ले जाया गया था और होली भी वहीं खेली थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें