पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Congress MLA Bhakar, Gavadia, Ved Solanki Said Heard Sidhu In 10 Days, No Hearing Here For 10 Months, Listen To The Voice Of The Pilot On The Lines Of Punjab High Command

कांग्रेस में फिर उठे विरोध के सुर:विधायक बोले- सिद्धू की 10 दिन में सुन ली, यहां 10 महीने से सुनवाई नहीं, पंजाब की तर्ज पर पायलट की आवाज सुने हाईकमान

जयपुर3 महीने पहले

सचिन पायलट खेमे के विधायकों ने 10 माह से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी सुलह कमेटी में उठाए मुद्दों का समाधान नहीं होने पर नाराजगी जताई है। सचिन पायलट समर्थक विधायक मुकेश भाकर, रामनिवास गावड़िया और वेद प्रकाश सोलंकी ने मंत्रिमंडल विस्तार, राजनीतिक नियुक्तियों में हो रही देरी पर सवाल उठाए। पायलट के आवास पर मीडिया से बातचीत में तीनों विधायकों ने कहा- कांग्रेस में रहकर संघर्ष करेंगे और पायलट के साथ मजबूती से खड़े रहेंगे। हम सब पार्टी की मजबूती के लिए ही आवाज उठा रहे हैं, पार्टी को लेकर हमारी निष्ठाओं पर सवाल उठाने वाले पार्टी के हितेषी नहीं हैं।

वेद प्रकाश सोलंकी ने कहा- पंजाब की तर्ज पर राजस्थान में भी सचिन पायलट की बात सुनी जाए। पंजाब में 10 दिन में ही सिद्धू की बात सुन ली, लेकिन राजस्थान में 10 महीने बीत जाने के बाद भी सचिन पायलट के उठाए गए मुद्दों का समाधान नहीं हुआ है। जब पंजाब में 10 दिन में सिद्धू की बात सुनी जा सकती है तो पायलट की क्यों नहीं?

हम कांग्रेस में रहकर ही आवाज उठाएंगे
मुकेश भाकर और रामनिवास गावड़िया ने कहा- हम लोग पायलट साहब के साथ मजबूती से खड़े हैं। आलाकमान को कार्यकर्ताओं से जुड़े मसले सुलझाने चाहिए। मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों में हो रही देरी से कार्यकर्ता हताश हो रहे हैं। हम कांग्रेस में हैं और कांग्रेस में रहकर ही अपनी आवाज उठाएंगे, जनता के मुद्दे उठाएंगे।

पायलट ने दुखी आम कार्यकर्ता की आवाज को बुलंद किया है
गावड़िया और भाकर ने कहा- भंवर जितेंद्र सिंह ने भी सोच समझकर ही बात कही है। 5 साल संघर्ष करने वाले नेताओं-कार्यकर्ताओं की आवाज को पायलट ने बुलंद किया। जिन लोगों का पार्टी के लिए योगदान है उन्हें उनका हक मिलना चाहिए। सुलह कमेटी के सामने आलाकमान ने जो वादे किए उन्हें पूरा करना चाहिए, 10 महीने बीत चुके हैं, इतना वक्त बहुत होता है।

सोलंकी बोले- गहलोत चाहे पायलट समर्थकों को न बनाकर अपने लोगों को बना दे लेकिन ​विस्तार और नियुक्तियां तो करें
वेद प्रकाश सोलंकी ने कहा- सत्ता का विकेंद्रीकरण जल्द होना चाहिए। मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों में अब देरी नहीं हो। गहलोत को आपत्ति है तो हमारे कार्यकर्ताओं की नियुक्ति मत करो लेकिन अपने ही कार्यकर्ताओं राजनीतिक नियुक्तियां दे दें, कम से कम फैसला तो करें।

समर्थक विधायकों ने भी वही मुद्दा उठाया जो पायलट ने कहा था
सचिन पायलट कह चुके हैं कि सुलह कमेटी में तय हुए मुद्दों का 10 माह बाद भी समाधान नहीं होना और पार्टी को राज में लाने के लिए खून पसीना बहाने वाले कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं होना दुर्भाग्यूपर्ण है। अब पायलट समर्थक विधायक भी वही बात कर रहे हैं।

यू-टर्न के बाद पहली बार पायलट से मिले विश्वेंद्र सिंह, समर्थक विधायकों के साथ भाजपा विधायक ने भी सचिन से मुलाकात की

खबरें और भी हैं...