पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आक्रामक होगी कांग्रेस:बीजेपी से मुकाबले के लिए कांग्रेस नए सिरे से बनाएगी रिसर्च विंग और आईटी सेल, कांग्रेस को आक्रामक नेताओं की तलाश

जयपुर3 महीने पहलेलेखक: गोवर्धन चौधरी
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत। फाइल फोटो
  • राजस्थान कांग्रेस को हाईकमान ने दिया टास्क, मुद्दों पर रक्षात्मक होने की बजाय आक्रामक होने का आदेश
  • रिसर्च विंग बीजेपी की काट के लिए सुझाएगी मुद्दे, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा ने कहा-जल्द रिसर्च विंग बनेगी

कांग्रेस हाईकमान ने राजस्थान के कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष को प्रदेश से जुड़े मुद्दों पर बीजेपी को आक्रामक शैली में जवाब देने का टास्क दिया है। बीजेपी से मुकाबले के लिए अब कांग्रेस को मजबूत रिसर्च विंग और आईटी सेल की जरूरत महसूस हो रही है। जमीनी स्तर और सोशल मीडिया पर बीजेपी के आक्रामक प्रचार से मुकाबले के लिए कांग्रेस ने नई रिसर्च विंग के गठन का फैसला किया है। आईटी सेल का भी नए सिरे से गठन होना है।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की तरफ से मिले टास्क के बाद कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने रिसर्च विंग के लिए नेताओं के चयन की कवायद शुरू कर दी है।

कांग्रेस रिसर्च विंग और आईटी सेल के लिए आक्रामक नेताओं की खोज
रिसर्च विंग और आईटी सेल के लिए अलग-अलग मुद्दों के जानकार नेताओं की तलाश शुरू की गई है, इसके लिए हाइब्रिड मॉडल अपनाया जा रहा है। रिसर्च विंग में यूथ कांग्रेस और एनएसयूआई में काम कर चुके नेताओं से भी संपर्क साधा जा रहा है। पार्टी के सामने सबसे बड़ी चुनौती मुद्दों के जानकार और समर्पित नेताओं की तलाश है।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि रिसर्च ​विंग और आईटी सेल में आने के इच्छुक तो बहुत से नेता हैं, लेकिन कांग्रेस हाईकमान के मापदंडों पर खरे नहीं उतर रहे हैं। कांग्रेस हाईकमान की तरफ से साफ निर्देश हैं कि रिसर्च विंग और आईटी सेल में एक भी नेता महज दिखावे के लिए नहीं होना चाहिए, हर नेता को राउंड द क्लॉक काम करना होगा। इस शर्त के कारण बहुत से नेता दौड़ में बाहर हो रहे हैं और इसके चलते चयन का काम चुनौतीपूर्ण हो गया है।

बीजेपी से मुद्दों में पिछड़ने के बाद कांग्रेस ने अपनाई उसी की रणनीति
सोशल मीडिया और प्रचार के मोर्चे पर कांग्रेस अब तक राजस्थान में बीजेपी के मुकाबले खुद को आक्रामक नहीं बना पाई है। इसके पीछे बड़ी वजह मजबूत रिसर्च विंग और आईटी सेल की
कमी को बताया जा रहा है। बीजेपी के प्रचार के मोर्चे पर आगे रहने का बड़ा कारण उसकी मजबूत आईटी और रिसर्च सेल को माना जाता है। कांग्रेस में पहले भी आईटी सेल थी जो विपक्ष में रहने के दौरान तो आक्रामक दिखी, लेकिन सत्ता में आते ही उसकी धार कुंद हो गई।। जुलाई में सचिन पायलट खेमे की बगावत के बाद से आईटी सेल भंग हो गई।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने कहा- जल्द रिसर्च विंग और आईटी सेल बनेगी
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि पार्टी की रिसर्च विंग बनाने की कवायद चल रही है, इसे जल्द बनाया जाएगा। आईटी सेल भी बनेगी। इन दोनों सेल में जानकार, आक्रामक और पार्टी के लिए स​मर्पित होकर लगातार मुद्दों पर काम करने वाले नेताओं को जगह दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन मित्रों तथा परिवार के साथ मौज मस्ती में व्यतीत होगा। साथ ही लाभदायक संपर्क भी स्थापित होंगे। घर के नवीनीकरण संबंधी योजनाएं भी बनेंगी। आप पूरे मनोयोग द्वारा घर के सभी सदस्यों की जरूर...

और पढ़ें