• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Controversy Over The Arrival Of Rajendra Gudha Before The Meeting Of The Independents Of Gehlot Camp, Suddenly Changed The Place Of The Meeting, The Independents Passed A Proposal Of Unconditional Support To Gehlot

गहलोत समर्थक विधायकों के G-19 में मतभेद:निर्दलीयों की बैठक से पहले MLA राजेंद्र गुढ़ा के पहुंचने से विवाद, अचानक बदली बैठक की जगह; गहलोत को देंगे बिना शर्त समर्थन

जयपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सर्किट हाउस में बैठक करते गहलोत समथर्क निर्दलीय। - Dainik Bhaskar
सर्किट हाउस में बैठक करते गहलोत समथर्क निर्दलीय।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन में पायलट खेमे के खिलाफ रणनीति के लिए बुलाई गई निर्दलीय विधायकों की बैठक से पहले हाईवोल्टेज ड्रामा देखने को मिला। पहले निर्दलीय विधायकों की बैठक होटल अशोक में रखी गई थी। निर्दलीय विधायक पहुंच भी गए, लेकिन बसपा से कांग्रेस में आए विधायक राजेंद्र गुढ़ा को वहां देख कई निर्दलीय विधायकों ने आपत्ति जताई और वहां से चले गए। बाद में बैठक की जगह होटल अशोक से बदलकर सर्किट हाउस रखनी पड़ी।

निर्दलीय विधायकों की 5 बजे होटल अशोक में बैठक प्रस्तावित थी। होटल अशोक में बैठक शुरू होने से ठीक पहले कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुढ़ा वहां पहुंच गए। निर्दलीय विधायकों ने इस पर आपत्ति जताई तो गुढ़ा ने कहा कि संयम लोढ़ा के कहने पर वे बैठक में शामिल होने आए थे। गुढ़ा को देखते ही ​5 विधायक होटल से चले गए। बाद में राजेंद्र गुढ़ा ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘मेरे से किसी को प्रॉब्लम नहीं है, इनकी आपस में क्या बातचीत हुई। मुझे कोई जानकारी नहीं है। मुझे तो विधायक संयम लोढ़ा ने बातचीत के लिए बुलाया था। हमने बातचीत कर ली है मुझसे किसी भी विधायक को प्रॉब्लम नहीं है।’

आज की घटना से जी-19 के भीतर मतभेद उजागर
गहलोत समर्थक 13 निर्दलीयों और बसपा से आने वाले 6 कांग्रेस विधायकों को मिलाकर जी-19 बनाने की कवायद की गई थी। निर्दलीय संयम लोढ़ा इसकी कवायद में जुटे थे। पहले जी-19 की साझा बैठक रखने पर फैसला हुआ। लेकिन, निर्दलीय विधायक और बसपा से आने वाले विधायक साझा बैठक करने को तैयार नहीं हुए। इस वजह से केवल निर्दलीयों की ही बैठक रखी गई। बैठक से पहले राजेंद्र गुढ़ा के पहुंचने से जिस तरह की प्रतिक्रिया हुई उसने जी-19 में मतभेद उजागर कर दिए हैं।

होटल अशोक में निर्दलीयों की बैठक से पहले बसपा से कांग्रेस में आने वाले विधायक राजेंद्र गुढ़ा।
होटल अशोक में निर्दलीयों की बैठक से पहले बसपा से कांग्रेस में आने वाले विधायक राजेंद्र गुढ़ा।

जी-19 दिखने में भले साथ लेकिन मंत्री बनने में सब कंपीटीटर
बाहर से दिखावे के तौर पर 13 निर्दलीय और बसपा से कांग्रेस में आने वाले विधायक साथ दिखने की कवायद करें। लेकिन, सबसे बड़ा कंपीटीशन मंत्री बनने की दावेदारी का है। जिस तरह के राजनीतिक हालात हैं उनमें सभी 19 विधायक खुलकर यह दावा कर रहे हैं कि उन्होंने सरकार बचाई है तो मंत्री बनने में उन्हीं का नंबर आना चाहिए। मंत्रिमंडल में 9 जगह खाली हैं और 19 तो यही दावेदार हैं। इसी वजह से कड़ी प्रतिस्पर्धा है। निर्दलीयों की बैठक से पहले जो घटनाक्रम हुआ उसके पीछे यही बड़ी वजह है।

निर्दलीयों की बैठक में 13 में से 12 पहुंचे, बलजीत यादव नहीं आए, नागर आखिर में आए
सर्किट हाउस में गहलोत समर्थक निर्दलीयों की बैठक में 13 में से 12 निर्दलीय शामिल हुए। बैठक की शुरूआत में 11 ही थे, बाबूलाल नागर आखिर में पहुंचे। ​निर्दलनीय बलजीत यादव बैठक में नहीं आए

निर्दलीयों की बैठक में गहलोत का बिना शर्त समर्थन का प्रस्ताव पारित
निर्दलीयों की बैठक पायलट खेमे को जवाब देने के लिए रखी गई थी। 13 में से 12 निर्दलीय विधायकों ने सर्किट हाऊस में बैठक कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को बिना शर्त समर्थन देने का प्रस्ताव पारित किया। बैठक का मकसद गहलोत के प्रति समर्थन जताकर पायलट कैंप को जवाब देना था।

खबरें और भी हैं...