• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • CP Joshi Said In Parliamentary Democracy, We Did Not Educate The Public, Today The Village Man Expects That The MLA Will Also Do The Work Of The Drain

विधायकों का दर्द:विधानसभा अध्यक्ष डॉ. जोशी बोले- हमने जनता को शिक्षित नहीं किया, गांव का आदमी अपेक्षा करता है कि नाली का काम भी विधायक करेगा

जयपुरएक महीने पहले
विधानसभा में सेमिनार को संबोधित करते स्पीकर डॉ. सीपी जोशी

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने कहा है कि संसदीय लोकतंत्र में जनता की नेताओं से उम्मीदें बढ़ी हैं। पंचायत और नगरपालिकाओं के नियमित चुनाव के बाद जनता की अपेक्षाएं अलग-अलग हैं। हमने जनता को शिक्षित नहीं किया। आज गांव का आदमी यह अपेक्षा करता है कि नाली का काम भी विधायक करेगा। आप नीति कितनी ही अच्छी बना लें, लेकिन राज्य काम नहीं करेगा तो उसका कोई फायदा नहीं। राज्य कितनी ही नीति बना लें, लेकिन पंचायत काम नहीं करेगी तो कारगर नहीं होगी। जोशी विधानसभा में संसदीय लोकतंत्र और जनता की अपेक्षाएं विषय पर सेमिनार को संबोधित कर रहे थे।

डॉ. सीपी जोशी ने कहा कि 1980 में पहले सरपंच साहब कहलाता था, आज सरपंच कहलाता है। धन के प्रभाव के कारण पंचायत के चुनाव प्रभावित होते हैं, लोकतंत्र कमजोर होगा। पंचायत स्तर पर अपेक्षा हो कि नाली, सड़क के काम पंचायत करें। विधायक का काम नाली और सड़क बनाना नहीं है। जनता की बढ़ती अपेक्षाओं के बीच नीचे के स्तर पर काम होने जरूरी हैं। देश की एकता के लिए संसदीय लोकतंत्र जरूरी है। इनमें प्रश्न खड़े हुए हैं उन्हें पूरा करना होगा। हमें यह सोचना होगा कि क्या कारण थे कि जेपी आंदोलन हुआ, अन्ना आंदोलन हुआ और अब किसान आंदोलन खड़ा हो गया है। हमें इसकी तह तक जाना होगा। यदि इन बातों को नहीं समझा गया तो हम जन अपेक्षाओं को कैसे पूरा करें।

कोविड के कारण सबसे बड़ी चुनौती शिक्षा के क्षेत्र में
डॉ. सीपी जोशी ने कहा कि आज सबसे बड़ी चुनौती शिक्षा के क्षेत्र में है। महामारी के दौर में स्कूल बंद हैं। मोबाइल से बच्चे ऑनलाइन पढ़ नहीं पा रहे हैं। महामारी के बाद जनता की अपेक्षा बढ़ गई हैं। वित्तीय संसाधन उपलब्ध होने पर ही काम होंगे। जीएसटी लागू होने के बाद दिक्कतें बढ़ी हैं, सेस का पैसा राज्य को नहीं मिलता। पैसा नहीं मिलेगा तो राज्य सरकारें जनता के काम उनकी मांग के हिसाब से कैसे पूरा करेंगी, उसमें दिक्कत आएंगी।

कटारिया बोले- पक्ष विपक्ष से उपर उठकर करें काम
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि कॉमनवेल्थ पार्लियामेंटरी एसोसिएशन (सीपीए) को 40 साल में पहली बार विधायकों ने सुना है। स्पीकर सीपी जोशी ने पहली बार इसे जीवंत किया है। संसदीय प्रणाली से बेहतर कुछ नहीं है। हम सबका एक ही लक्ष्य है, देश की भलाई और जनता की भलाई। कभी चुनाव के नाम पर हिंसा नहीं होना बड़ी बात है। सत्तारूढ़ दल अपने कामों से जनता का हित करता है, जबकि विपक्ष जनता से जुड़े मुद्दे लाकर सदन में उठाता है, लेकिन विधानसभा में आकर हम पक्ष और विपक्ष हो जाते हैं। इतने चुनाव हो जाने के बावजूद आज तक सरकार में बदलाव के लिए हिंसा नहीं हुई, हमारा देश सौभाग्यशाली है।

नितिन गडकरी का मंत्रियों-मुख्यमंत्रियों पर तंज:जयपुर में बोले- MLA मंत्री नहीं बनने से दुखी, मंत्री मुख्यमंत्री नहीं बनने से दुखी, CM इसलिए दुखी कि पता नहीं कब तक रहेंगे

गुलाम नबी आजाद ने किए शेखावत-वाजपेयी से जुड़े खुलासे:आजाद बोले- मैं भैरोसिंह शेखावत के खिलाफ प्रचार करने आया था लेकिन उन्होंने मेरे लिए गोश्त भिजवाया,वाजपेयी जब पीएम बने तो पहला फोन मुझे किया था

खबरें और भी हैं...