• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Cut In Villages And Towns For 2 To 4 Hours, Not Getting Even Rs 17 Unit From Open Market, CM Took A Meeting Of Officers, Said Explain To People There Is No Coal; Run Ac Low

प्रदेश में बिजली संकट:गांव-कस्बों में 2 से 4 घंटे तक कटौती, ओपन मार्केट से 17 रुपए/यूनिट में भी नहीं मिल रही, सीएम ने अफसरों की बैठक ली, कहा- लोगों को समझाओ कोयला नहीं है; एसी कम चलाएं

जयपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

थर्मल पावर प्लांट में कोयले की कमी के कारण प्रदेश में बिजली संकट हो गया है। गांव-कस्बों में 2 से 4 घंटे तक कटौती करनी पड़ रही है। इसी को देखते हुए सीएम अशोक गहलोत ने गुरुवार को ऊर्जा विभाग व बिजली कंपनियों के अफसरों की बैठक ली और कहा- लोगों को समझाएं कि कोयला न होने के कारण बिजली संकट है। ऐसे में एसी कम चलाएं। बिजली खपत वाले उपकरणों का उपयोग कम करें। अफसर बिजली बचत को बढ़ावा देने के लिए जागरूकता अभियान चलाएं।’

  • 2500 मेगावाट की कमी है प्रदेश में
  • 12500 मेगावाट औसत डिमांड
  • 8500 मेगावाट उपलब्धता
  • 1500 मेगावाट ओपन मार्केट से खरीद
  • सरकार को 17 रुपए/यूनिट में भी एक्सचेंज से बिजली नहीं मिल रही है।
  • ओपन मार्केट व एक्सचेंज में रात 9 से 12 बजे तक बिजली 20 रुपए यूनिट में भी नहीं मिल रही है। यह अधिकतम बोली होती है।

डिमांड- 24 करोड़ यूनिट
सप्लाई- 20 करोड़ यूनिट
यानी रोज 4 करोड़ यूनिट की कमी।

हमारे समय 24 घंटे बिजली मिलती थी : वसुंधरा

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा- प्रदेशवासियों को बिजली जैसी मूलभूत सुविधा से वंचित रखना राज्य सरकार की विफलता है। जाे घरेलू बिजली हमारे कार्यकाल में 24 घंटे मिलती थी, वह आज गांवों में 24 मिनट भी नहीं मिल रही है। बिजली कटौती से शहरों में भी लोग परेशान हैं। प्रदेश के कई बिजली घर बंद है और कई बंद होने की स्थिति में हैं। प्रदेश में विद्युत संकट गहरा गया है।

कोल इंडिया लि. की एनसीएल व एसईसीएल से पूरा कोयला नहीं मिल रहा है। रोज 11 रैक कोयले की जरूरत है, लेकिन 7.50 रैक ही मिल रहा है। सूरतगढ़ थर्मल पावर प्लांट में 1250 मेगावाट बिजली कम बन रही है। अडानी कंपनी का 660 मेगावाट का कवई प्लांट भी बंद है। -भास्कर ए. सावंत, डिस्कॉम चेयरमैन

खबरें और भी हैं...