3 बार ठगी करते ही नंबर ब्लाॅक:साइबर ठगी करने वाले 999 नंबराें की पहचान, पुलिस ने 105 सिम, 194 फाेन का IMEI ब्लैक लिस्ट कराया

जयपुरएक वर्ष पहलेलेखक: अर्पित शर्मा
  • कॉपी लिंक
6 माह में हेल्पलाइन पर दर्ज मामलाें के अनुसार 11 हजार लाेगाें से 33 कराेड़ की ठगी हुई, पुलिस ने 3 कराेड़ रुपए से ज्यादा रिकवर किए हैं। - Dainik Bhaskar
6 माह में हेल्पलाइन पर दर्ज मामलाें के अनुसार 11 हजार लाेगाें से 33 कराेड़ की ठगी हुई, पुलिस ने 3 कराेड़ रुपए से ज्यादा रिकवर किए हैं।

सायबर ठगाें के खाते से पैसा वापस लाने के साथ अब पुलिस ने ऐसे फाेन नंबर ट्रेस किए हैं जिनसे लगातार साइबर ठगी की जा रही है। पुलिस ने ऐसे 999 नंबराें काे चिन्हित किया है। इस नंबर से बार-बार लाेगाें काे झांसे में लेकर सायबर ठगी की जा रही है। इनमें से पुलिस ने 105 नंबरों की सिम ही ब्लाॅक करा दी है। इसके अलावा 194 फाेन के आईएमआई नंबर को ब्लैकलिस्ट कर दिया गया है। पुलिस जांच में सामने आया है कि सायबर ठगी में सबसे ज्यादा नंबर वेस्ट बंगाल के हैं। संदिग्ध 999 में से 297 नंबर ताे वेस्ट बंगाल रीजन के हैं। अब पुलिस इन पर भी शिकंजा कसने की तैयारी में है।

  • अगर आपके साथ भी साइबर ठगी हो जाए तो तत्काल 155260 पर कॉल करें

आपकी शिकायत दूसरों को भी बचाएगी

पुलिस के अनुसार राेजाना साइबर ठगी करने वाले नंबराें काे ट्रेस किया जा रहा है। जिन नंबराें से 3 बार से ज्यादा ठगी करने की शिकायत मिलती है। उन्हें तुरंत ब्लाॅक कर रहे हैं। 194 फाेन की ताे आईएमईआई नंबर ही ब्लाॅक कर दी गई है, ताकि वे ठगी के लिए उस हैंडसेट का ही यूज ना कर पाएं।

सबसे कम शिकायत प्रतापगढ़ (40) से है

सायबर ठगी की सूचना सबसे ज्यादा जयपुर के लाेगाें ने की है। 28 जून से 18 सितंबर तक जयपुर शहर से 1559 शिकायतें मिलीं। ग्रामीण से 284 शिकायतें आईं। कम सूचनाओंं की बात करें ताे डूंगरपुर से 65, बांसवाड़ा से 49, प्रतापगढ़ से 40 शिकायतें हेल्पलाइन पर दर्ज कराई गई हैं। इस दौरान कुल 7518 शिकायतें आई हैं।