पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परीक्षाओं पर सवाल:नीट में कई मुन्ना भाइयों को बैठाने की डील , ब्रोकर्स ने कहा- ओेएमआर खाली छोड़ देना जवाब हम भर देंगे

जयपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य के जयपुर, कोटा और सीकर शहर नीट व जेईई कोचिंग के प्रमुख हब हैं। लाखों छात्र जेईई व नीट की कोचिंग प्रदेश में लेते हैं। - Dainik Bhaskar
राज्य के जयपुर, कोटा और सीकर शहर नीट व जेईई कोचिंग के प्रमुख हब हैं। लाखों छात्र जेईई व नीट की कोचिंग प्रदेश में लेते हैं।
  • नीट और जेईई पास कराने से लेकर मनचाहा सेंटर और कॉलेज में दाखिले का दावा

नीट-यूजी का पेपर रविवार को हुआ। वहीं जेईई मेन भी पूरा हो चुका है। नीट होने से पहले ही परीक्षा में पास करवाने से लेकर कॉलेज में एडमिशन दिलावाने तक के ऑफर ब्रोकर्स दे रहे हैं। ब्रोकर्स का दावा है कि अगर नीट में सवालों का जवाब छात्रों को नहीं आता है तो वे ओएमआर शीट को खाली छोड़कर आएं। सेंटर्स पर उन सवालों के सही जवाबों को भर दिया जाएगा।

हाल में जेईई मेन के जरिए एनआईटी में एडमिशन दिलाने का मामला भी सामने आया था। अब इस नए मामले को अजमेर पुलिस ने पकड़ा है। अजमेर पुलिस ने ऐसा गिरोह पकड़ा है, जो जेईई व नीट में छात्रों को पास करवाने का दावा कर रहा है। हालांकि अभी तक पुलिस यह साफ नहीं कर पाई है कि इस गिरोह ने पहले कितने छात्रों को फर्जी तरीके से एनआईटी व मेडिकल कॉलेजों में दाखिला दिलवाया है।

सीकर में भी पुलिस ने ऐसे 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया है जो पैसा लेने के बाद नीट पास करवाने का दावा कर रहे थे। वहीं भास्कर के पास ऐसी ऑडियो क्लिप व अभिभावकों के मैसेजेज हैं, जिनसे ब्रोकर्स ने डील की है। दरअसल राज्य के जयपुर, कोटा और सीकर शहर नीट व जेईई कोचिंग के प्रमुख हब हैं। लाखों छात्र जेईई व नीट की कोचिंग प्रदेश में लेते हैं।

इस कारण ऐसे दलालों का गिरोह यहां काफी सक्रिय रहता है। वहीं ऐसे मामले सामने आने के बाद परीक्षा केंद्रों पर भी सवाल खड़े हाेने लगे हैं। हाल में जेईई मेन के ऑनलाइन एग्जाम में छात्र के सिस्टम को रिमोट पर लेकर प्रश्नपत्र हल करने का मामला सामने आया था। सवाल यह है कि एनटीए की ओर से आयोजित इस परीक्षा की टेक्नोलॉजी इतनी कमजोर कैसे रह गई कि कंप्यूटर्स के आईपी एड्रेस और पासवर्ड तक आउट हो गए।

नीट पास करवाने की डील चौंकाने वाली है

अजमेर में सामने आए मामले में ब्रोकर्स ने छात्रों व अभिभावकों से तीन तरीके की डील की थी। पहली मनचाहा सेंटर्स दिलाने, दूसरी एग्जाम पास करवाने व तीसरी डील मेडिकल व इंजीनियरिंग कॉलेजों में एडमिशन दिलाने की थी। हालांकि हर साल ही काउंसलिंग को लेकर ऐसी डील की जाती थी। इसमें छात्रों को नीट क्रैक करना जरूरी होता था, लेकिन इस साल नीट को पास करवाने की डील भी की गई, जो कि चौंकाने वाली है।

नीट यूजी 2018 में पेपर आउट की जांच अब तक भी अधूरी
आरटीआई एक्टिविस्ट विवेक पांडे ने बताया साल 2018 में नीट यूजी में नकल की संभावनाओं को देखते हुए खुद सीबीएसई ने एफआईआर दर्ज करवाई। इस मामले की जांच अब तक पूरी नहीं हो पाई। विवेक द्वारा दायर आरटीआई में सीबीआई ने जबाव दिया है कि मामले की जांच अभी चल रही है।

जेईई को लेकर पहली बार सामने आया कोई विवाद
नीट को लेकर ही अधिक विवाद सामने आते रहे हैं। पहली बार जेईई मेन को पास करवाने का दावा करने का मामला सामने आया है। हालांकि ब्रोकर्स की पहुंच एनटीए तक है या नहीं, इस पर स्पष्टता नहीं है। संभव है कि आईआईटी सिस्टम मजबूत हाेने के कारण वे एडवांस्ड को लेकर किसी प्रकार की डील नहीं कर पाएं।

खबरें और भी हैं...