पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विधानसभा बजट सत्र:भाजपा में चिट्‌ठी विवाद के पहले किरदार कैलाश मेघवाल सदन में नहीं आए, प्रतापसिंह सिंघवी को बहस में बोलने का मिला मौका

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विवादित चिट्‌ठी के प्रमुख किरदार भाजपा विधायक प्रतापसिंह सिंघवी ने सदन में स्थगन प्रस्ताव के जरिए रामगढ बांध का मुद्दा उठाया। - Dainik Bhaskar
विवादित चिट्‌ठी के प्रमुख किरदार भाजपा विधायक प्रतापसिंह सिंघवी ने सदन में स्थगन प्रस्ताव के जरिए रामगढ बांध का मुद्दा उठाया।
  • विधानसभा की कार्यवाही 1 मार्च तक स्थगित
  • बजट बहस के दौरान उठा राहुल की सभा में पायलट की खाट टूटने का मुद्दा
  • भारत माता की जय बोलने से रोकने के दिलावर के आरोपों पर हंगामा, दिलावर की मंत्री बीडी कल्ला से नोकझोंक

भाजपा में चिट्‌ठी विवाद के बड़े किरदार प्रतापसिंह सिंघवी को बजट बहस में बोलने का मौका दिया गया। 20 विधायकों में से सिंघवी पहले और एकमात्र विधायक रहे जिन्हें आज पहले दिन बहस में बोलने का मौका दिया गया। चिट्‌ठी विवाद को लेकर कल भाजपा विधायक दल की बैठक में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया से भिड़ने वाले कैलाश मेघवाल प्रश्नकाल-शून्यकाल के अलावा बजट बहस के दौरान भी सदन से गायब रहे। कल भाजपा विधायक दल की बैठक में मेघवाल को बजट बहस शुरू करने का प्रस्ताव दिया गया था। साथ ही चिट्‌ठी लिखने वाले सभी विधायकों को आज ही बजट पर बोलने का प्रस्ताव दिया था। अब एक मार्च को बजट पर बहस होगी तब देखना होगा चिट्‌ठी लिखने वाले कितने विधायकों को बोलने का मौका मिलता है। आज 6:30 बजे सभापति ने विधानसभा की कार्यवाही को 1 मार्च तक के लिए स्थगित कर दिया।

बजट बहस में प्रतापसिंह सिंघवी ने कहा, सरकार ने गांवों में ग्राम रक्षक के नाम पर कांग्रेस के एजेंटों और गुंडों को लगाया है, उनसे कोई रक्षा की क्या उम्मीद करेगा। सरकार ने आबकारी नीति में गली गली बार खोलने का रास्ता खोल दिया। हममें से कोई नहीं चाहेगा कि उनका बेटा पब में शराब पीए और लड़कियों के साथ नाचे। मुख्यमंत्री इसे बढावा दे रहे हैं। यह पेपरलेस बजट नहीं विजनलेस बजट है। उद्योग धंधों को कोरोना के प्रभाव से उबारने का कोई ठोस उपाय नहीं दिखता है। जब वसुंधरा राजे सीएम बनीं उस समय राजस्थान बीमारू प्रदेश था। राजे ने प्रयास करके राजस्थन को बीमारू से बाहर निकाला। इसा बजट मेंं कोई ठोस कार्ययोजना नजर नहीं आ रही। बजट में घोषणाएं तो खूब कर दीं, लेकिन पिछली घोषणाएं ही पूरी नहीं हुई। हमें कोरोना में पार्टी की तरफ से सरकार से कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग करने किे निर्देश थे।

इससे पहले सवाल लगाकर सदन से गायब हो गए थे कैलाश मेघवाल
कैलाश मेघवाल सवाल लगाकर सदन से गायब हो गए, जबकि प्रतापसिंह सिंघवी ने स्थगन प्रस्ताव के जरिए अतिक्रमण का मुद्दा उठाया। तीन दिन पहले ही भाजपा के 20 विधायकों ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेशाध्यक्ष को चिट्‌ठी लिखी थी। इसमें उन्होंने विधानसभा में वरिष्ठ विधायकों की अनदेखी और भेदभाव की शिकायत की थी। इनमें मेघवाल और सिंघवी का नाम प्रमुख था।सिर्फ इतना ही नहीं, बुधवार को भाजपा विधायक दल की बैठक में इसी चिट्ठी को लेकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और कैलाश मेघवाल में बहस हुई थी। ऐसे में गुरुवार को बजट भाषण में होने वाली बहस को लेकर सबकी निगाह मेघवाल पर टिकी थी। कैलाश मेघवाल आज प्रश्नकाल में सदन में आए और न शून्यकाल में और न बजट बहस में दिखे। मेघवाल के सदन से गायब रहने को कल भाजपा विधायक दल की बैठक में हुए विवाद से जोड़कर देखा जा रहा है।

कैलाश मेघवाल ने आज प्रश्नकाल में सातवें नंबर पर भीलवाड़ा में वन स्टॉप शॉप योजना में उद्यमियों को मिली सहायता से जुड़ा सवाल लगाया था। जब उनकी बारी आई तो मेघवाल सदन में मौजूद ही नहीं थे। मेघवाल ने सवाल पूछने के लिए किसी दूसरे विधायक को भी अधिकृत नहीं किया। इसकी वजह से उस सवाल पर सदन में कोई जवाब नहीं आया।

दूसरी तरफ चिट्ठी पर विधायकों के हस्ताक्षर करवाने वाले वसुंधरा राजे खेमे के विधायक प्रतापसिंह सिंघवी ने सदन में स्थगन प्रस्ताव के जरिए जयपुर के रामगढ बांध के कैचमेंट एरिया में अतिक्रमण का मुद्दा उठाया।

उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने शुरू की बहस
विधानसभा में आज से बजट पर बहस शुरू हो गई है। उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने बजट बहस की शुरुआत की। बहस में भाजपा से बोलने वाले विधायकों पर सबकी निगाह टिकी हुई थी। क्योंकि, कल विधायक दल की बैठक के बाद उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने चिट्ठी लिखने वाले विधायकों को बजट बहस में बोलने और कैलाश मेघवाल से बहस की शुरुआत करवाने की बात कही थी।

4 मार्च को बजट बहस का विधानसभा में जवाब देंगे गहलोत
मुख्य सचेतक महेश जोशी ने विधानसभा में कार्य सलाहकार समिति (बीएसी) का प्रतिवेदन रखा। कल बीएसी की बैठक में 4 मार्च तक का सदन का कामकाज तय हुआ है। 4 मार्च को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बजट बहस का जवाब देंगे। अब तक बीएसी में तय हुए कामकाज के हिसाब से बजट बहस पर 3 दिन का वक्त मिल रहा है। 26 से 28 फरवरी और 2 मार्च को विधानसभा की कार्यवाही नहीं चलेगी। 1 मार्च, 3 मार्च और 4 मार्च को विधानसभा में बजट पर बहस होगी। 4 मार्च को शाम 5 बजे मुख्यमंत्री बजट बहस का जवाब देंगे।

राठौड़ बोले- कृषि क्षेत्र का बजट केवल 40 फीसदी खर्च

उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा, गहलोत सरकार का पूरा बजट हवा हवाई और इंद्रजाल का जादू है, जो केवल दो घंटे टिकता है। सरकार पर मेरा आरोप है कि गहलोत सरकार ने प्लान साइज को 40 फीसदी काटा। कोई ऐसा दिन नहीं जाता जब मुख्यमंत्री तीन केंद्रीय कानूनों भाषण नहीं देते हों। किसानों के लिए बड़ी—बड़ी बातें करने वालों ने कृषि क्षेत्र के बजट का क्या किया है, पिछले बजट मेंं कृषि क्षेत्र के लिए 11490 करोड़ का प्रावधान रखा था, 31 दिसंबर तक केवल 6612 करोड़ का ही बजट खर्च किया, 40 फीसदी खर्च करके किसान की बात कह रहे हैं। राठौड़ ने कहा, 22 सितंबर 2015 में आर्थिक आधार पर आरक्षण की नींव पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने रखी। मौजूदा सीएम ने आर्थिक पिछड़ा वर्ग आयोग बनाने और विप्र कल्याण बोर्ड बनाने की घोषणा की , आज तक उनका गठन नहीं हुआ। सारी घोषणाएं हवा हवाई हैं।

बजट बहस के दौरान उठा राहुल की सभा में पायलट की खाट टूटने का मुद्दा

बजट बहस के दौरान राहुल गांधी की पीलीबंगा सभा के मंच पर सचिन पायलट के बैठने वाली खाट टूटने का एक बार जिक्र हुआ। कांग्रेस विधायक राजकुमार शर्मा ने कहा कि आप लोग खाट टूटने की बात करते हैं, लेकिन हमारे शेखावाटी में कहावत है, छोड़ो ईस बैठो बीस। ईस (खाट को जोड़ने वाला लंबा सिरा) नहीं छोड़ी थी इसलिए खाट टूट गई थी,और कोई बात नहीं थी। राजकुमार शर्मा ने भाजपा विधायक दल की बैठक में कैलाश मेघवाल और गुलाबचंद कटारिया के बीच बहस का जिक्र करते हुए कहा कि गुलाबचंद कटारिया को मैं 15 साल से सुन रहा हूं, वे कई बार इस्तीफा देने की बात कर चुके हैं लेकिन इस्तीफा कभी नहीं देते, अब भी नहीं देंगे। शर्मा ने बिजली कंपनियों में विभिन्न पदों पर हो रही भर्ती में राज्य के बाहर परीक्षा सेंटर बनाने पर सवाल उठाए। कहा, हमारे पास आरपीएससी, कर्मचारी चयन बोर्ड हैं फिर बाहर की एजेंसी से परीक्षा करवाने का क्या तुक है? परीक्षा सेंटर राज्य के बाहर नहीं हों।

भारत माता की जय बोलने से रोकने के दिलावर के आरोपों पर हंगामा, दिलावर की मंत्री बीडी कल्ला से नोकझोंक
बजट बहस के दौरान भाजपा विधायक मदन दिलावर के बीढी कल्ला पर भारत माता की जय बोलने से रोकने का आरोप लगाने पर सदन में जमकर हंगामा हुआ। दिलावर की मंत्री बीडी कल्ला से जनमका नोकझोंक हुई। कल्ला ने कहा कि भारत माता की जय बोलने में किसको दिक्कत है, आप बेवजह गलत मामले को तूल दे रहे हैं। मंत्री शांति धारीवाल ने भी दिलावर को निशाने पर लिया। बाद में सभापति के हस्तक्षेप के बाद हंगामा शांत हुआ।

रामलाल शर्मा ने परिवहन मंत्री पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप, सभापति ने कार्यवाही से निकाला
बजट बहस के दौरान भाजपा विधायक रामलाल शर्मा ने परिवहन मंत्री पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। इस दौरान सत्तापक्ष ने कड़ी आपत्ति की। हंगामा होते देख सयभापति राजेंद्र पारीक ने परिवहन मंत्री पर लगे आरोपों को सदन की कार्यवाही से निकालने के निर्देश दिए।

विधानसभा में रखे गए 5 विधेयक, इसी सत्र में पारित होंगे
विधानसभा में संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने गुरुवार को 5 विधेयक रखे। इन पांचों विधयेकों को बजट सत्र के दौरान ही बहस के बाद पारित करवाया जाएगा। धारीवाल ने राजस्थान विवाह का अनिवार्य रजिस्ट्रीकरण संशोधन विधेयक 2021, राजस्थान पंचायती राज संशोधन विधेयक 2021, रजिस्ट्रीकरण राजस्थान संशोधन विधेयक 2021, राजस्थान नगर पालिका संशोधन विधेयक 2021 और राजस्थान विधियां संशोधन विधेयक 2021 विधानसभा में रखे हैं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

और पढ़ें