सरकार के साथ CHA आंदोलनकारियों की वार्ता विफल:संविदा कैडर में नियुक्ति की है मांग, 44 दिनों से दे रहे धरना

जयपुर4 महीने पहले
शदीद स्मारक पर धरना देते हेल्थवर्कर्स। - Dainik Bhaskar
शदीद स्मारक पर धरना देते हेल्थवर्कर्स।

संविदा कैडर की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे कोविड स्वास्थ्य सहायकों (CHA) की सरकार से बातचीत एक बार फिर विफल हो गई है। शनिवार को CHA आंदोलनकारियों कोसरकार ने बातचीत के लिए बुलाया था। लेकिन CHA आंदोलनकारियों की वित्त विभाग प्रमुख सचिव अखिल अरोड़ा के साथ बातचीत फैल हो गई है। ऐसे में पिछले 44 दिनों से जारी CHA आंदोलनकारियों का धरना आगे भी जारी रहेगा।

सीएचए संघर्ष समिति के पधाधिकारियों ने बताया कि सचिवालय में CHA प्रतिनिधिमंडल को के लिए बुलाया था। जिसके बाद मांगों को लेकर हमारी वित्त प्रमुख सचिव अखिल अरोड़ा के साथ वार्ता हुई, जिसमें उन्होंने कहा कि आपकी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है. अभी आप गर्मी को देखते हुए धरना समाप्त कर दें.

अभी

CHA संघर्ष समिति के प्रदेशाध्यक्ष रवि चावला ने कहा कि बैठक ने अरोड़ा ने बताया कि मुख्यमंत्री चिंतन शिविर में उदयपुर हैं। वह जयपुर आएंगे तो आप की वार्ता उनसे करवाई जाएगी। लेकिन पिछले डेढ़ महीने से प्रदेशभर के नर्सिंगकर्मी भीषण गर्मी में धरना दें रहे है। लेकिन सरकार की और से अब तक हमारी वाजिब मांग पर कोई फैसला नहीं लिया गया है। जबकि अधिकारी और राजनेता हमें अब भी सिर्फ आश्वाशन दें रहे है। ऐसे में जब तक CHA को संविदा कैडर में शामिल कर हमें फिर से रोजगार नहीं दिया जाता हमारा धरना जारी रहेगा। चावला ने कहा कि

दरअसल, राजस्थान सरकार ने कोरोना काल के दौरान प्रदेशभर में 28 हजार CHA वर्कर्स की नियुक्ति की थी। जिन्हें कोरोना मरीजों के उपचार के साथ घर-घर जाकर दवाई लेने की जिम्मेदारी दी गई थी। 31 मार्च को CHA वर्कर्स का कॉन्ट्रैक्ट खत्म हो गया। इसके बाद सरकार ने सभी को नौकरी से हटाने का आदेश जारी कर दिया। जिसके खिलाफ प्रदेशभर के CHA वर्कर्स पिछले 44 दिन से जयपुर के शहीद स्मारक पर धरना दे रहे हैं। इस दौरान 2 दर्जन से ज्यादा प्रदर्शनकारियों की तबियत बिगड़ गई है। इसके बाद BJP के साथ कांग्रेस के नेता भी CHA वर्कर्स को फिर से रोजगार देने की मांग करने लगे है।