मौसमी बीमारियों की समीक्षा बैठक:डेंगू हो या कोरोना, यहां आंकड़े छिपाने का रिवाज नहीं, सही डेटा से होगी रोकथाम: सीएम

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • गहलोत ने मिलकर लड़ने को कहा

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मौसमी बीमारियों और डेंगू के खिलाफ हमें पूरी तरह सतर्क रहना है और इनसे बचाव के लिए आमजन को जागरूक करना है। गहलोत बुधवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मौसमी बीमारियों विशेषकर डेंगू की रोकथाम की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की तरह अब एक बार फिर डेंगू सहित अन्य मौसमी बीमारियों के खिलाफ हमें मिलकर काम करना है। गहलोत ने कहा कि अलग-अलग विभाग मिलकर जिला स्तर से लेकर गांव-ढाणी तक डेंगू, मलेरिया, स्क्रब टाइफस, चिकनगुनिया, स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों के उपचार एवं बचाव के पुख्ता इंतजाम सुनिश्चित करें। गहलोत ने कहा कि हमारे यहां आंकड़े छिपाने का रिवाज नहीं है। डेंगू से संबंधित आंकड़े जितने सही होंगे हम उतना ही प्रभावी नियंत्रण कर पाएंगे।

आंकड़ों के आधार पर इन बीमारियों से ज्यादा प्रभावी तरीके से लड़ा जा सकता है। गहलोत ने निजी अस्पतालों से आह्वान किया कि मौसमी बीमारियों के इस दौर में वे आम जनता को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराएं। चिरंजीवी योजना को लेकर भी आम लोगों को जागरूक किया जाए।

कोविड स्वास्थ्य सहायकों की नियोजन अवधि दो माह के लिए बढ़ाई
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में मौसमी बीमारियों की स्थिति तथा कोविड-19 महामारी के प्रभावी नियंत्रण के दृष्टिगत कोविड हैल्थ कंसल्टेंट और कोविड स्वास्थ्य सहायकों के चयन एवं नियोजन की अवधि को आगामी दो माह (नवम्बर एवं दिसम्बर-2021) तक बढ़ाए जाने की मंजूरी दी है।

खबरें और भी हैं...