पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खनन माफिया:अवैध खनन राेकने के लिए बजरी वाहनाें का समय निर्धारित करने की तैयारी में खान विभाग

जयपुर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक का समय निर्धारित करने पर मंथन

अवैध बजरी खनन की राेकथाम के लिए खान विभाग बजरी से भरे ट्रकाें की वजन तुलाई और ई रवन्ना काटने के लिए समय निर्धारित कर सकता है। सुबह छह बजे से रात आठ बजे तक समय निर्धारण पर विभागीय स्तर पर विचार किया जा रहा है। इस संबंध में किसी भी समय निर्णय लिया जा सकता है।

दूसरे विभागाें के सहयाेग से खान विभाग नागाैर में रियांबड़ी क्षेत्र में इस तरह की व्यवस्था पर काम हाे रहा है। इसी काे नजीर मानते हुए विभाग ये निर्णय ले सकता है। रियांबडी क्षेत्र में कांटाें का कॉमर्शियल रूप से लैंडयूज चेंज करने व विभागों से रजिस्ट्रेशन काे लेकर भी नाेटिस दिए गए है।

सरकार की मंशा : रात मेंं रोक से अवैध खनन में आएगी कमी

अधिकांश नदियाें के पास रात के समय बजरी खाेदी जा रही है और ट्रांसपाेर्टेशन हाे रहा है। ऐसे में समय निर्धारण के पीछे माना जा रहा है कि रात के समय अवैध तरीके से बजरी खाेदने के काम में कमी आएगी और अवैध बजरी खनन पर अंकुश लगेगा। गाैरतलब है कि प्रदेश में अवैध बजरी खनन एक बड़ा मुद्दा बना हुआ है। राज्य सरकार अवैध बजरी खनन की बात स्वीकारते हुए अभियान चला चुकी है। वहीं सुप्रीम काेर्ट की एक कमेटी अवैध बजरी खनन काे देखने के लिए प्रदेश में तीन दिन का दाैरा कर चुकी है।

सबकी सहमति व विभागाें के सहयाेग से व्यवस्था परिवर्तन
रियांबड़ी के एसडीएम सुरेश.के.एम का कहना है कि समय निर्धारण से अवैध बजरी खनन काे राेकने की दिशा में काम किया गया है। इसके अलावा वजन नापने वाले कांटाें के लैंडयूज व विभागीय रजिस्ट्रेशन काे लेकर नाेटिस जारी किए गए है। अधिकांश ये सामने आया है कि रात के समय बजरी खनन व ट्रांसपाेर्टेशन हाे रहा था। इसी की राेकथाम के लिए इस तरह की वर्किंग कराई जा रही है। उम्मीद है कि इससे हालाताें में सुधार हाेगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें