विश्व जनसंख्या दिवस पर विशेष:सोच का फर्क; 5 जनगणना में शहर में महिलाएं 1000 पुरुषों पर 900 से कम, गांवों में 900+

जयपुरएक वर्ष पहलेलेखक: शिव प्रकाश शर्मा
  • कॉपी लिंक
प्रदेश में सबसे अधिक 18 से 29 साल के 18 लाख 79 हजार 849 युवा जयपुर जिले में रहते हैं। यह जिले की कुल जनसंख्या का 24.43 फीसदी है। - Dainik Bhaskar
प्रदेश में सबसे अधिक 18 से 29 साल के 18 लाख 79 हजार 849 युवा जयपुर जिले में रहते हैं। यह जिले की कुल जनसंख्या का 24.43 फीसदी है।
  • जयपुर में सबसे अधिक 20-29 आयुवर्ग की 20.32% और सबसे कम 80+ की 0.85% आबादी

प्रदेश में सबसे अधिक 18 से 29 साल के 18 लाख 79 हजार 849 युवा जयपुर जिले में रहते हैं। यह जिले की कुल जनसंख्या का 24.43 फीसदी है। वहीं जिले में 60 साल से अधिक के बुजुर्गों की संख्या 6 लाख 6 हजार 321 है। जनवरी 2021 में निर्वाचन आयोग के जारी आंकड़ों के अनुसार, जयपुर जिले की कुल आबादी 76 लाख 92 हजार 812 है।

पिछले 110 सालों में जिले में जनसंख्या में सबसे अधिक वृद्धि 1981 में (38.42 फीसदी) हुई, वहीं सबसे कम वृद्धि दर 1941 में 13.83 प्रतिशत रही। 2011 में जनसंख्या वृद्धिदर 26.19 प्रतिशत रही है। फिलहाल, काेराेना संक्रमण के कारण 2021 की जनगणना अब तक शुरू नहीं हाे पाई।

युवाओं-बुजुर्गों का आयु के हिसाब से जनसंख्या अनुपात

  • जिले में 18 से अधिक उम्र के 51 लाख 88 हजार 859 लाेग हैं।
  • 0 से 18 वर्ष के 25 लाख 3 हजार 953 नाबालिग हैं। यह जनसंख्या का 32.55% है।
  • 18 से 60 वर्ष के 45 लाख 82 हजार 538 लोग हैं। यह जनसंख्या का 59.52% है।
  • 60 से 80 वर्ष तक के 5 लाख 41 हजार 061 बुजुर्ग हैं। यह आबादी का 7.1% हैं।
  • 80 वर्ष से अधिक की उम्र के 65260 लाेग हैं। जाे कुल आबादी का 0.85% हैं।

10-10 साल के आयुवर्ग के अनुसार जनसंख्या

पहली बार 1931 में अंग्रेजों ने कराई थी जनगणना

सांख्यिकी विभाग के आंकड़ों के अनुसार जयपुर के अंतिम शासक महाराजा मानसिंह ने जयपुर राज्य के अधिकार अंग्रेजों काे सौंप दिए थे। 1931 में अंग्रेजों ने जयपुर राज्य की जनगणना करवाई थी। जनगणना में 10 लाख 45 हजार 190 लाेग थे। इसमें 5 लाख 51 हजार 458 आबादी पुरुषों और 4 लाख 93 हजार 732 महिलाओं की आबादी थी।

जयपुर में 1921 में 1 लाख 20 हजार 207 लाेग थे...2021 में शहरी क्षेत्र में 33 लाख आबादी

जयपुर में 1921 में 1 लाख 20 हजार 207 लाेग थे। 2021 में शहरी क्षेत्र में 33 लाख लाेग हैं। 100 वर्ष पहले भी जयपुर में 1901 से 1921 के बीच में 40 हजार लाेग प्लेग, लाल बुखार, चेचक के शिकार हुए थे। 1901 में माधोसिंह द्वितीय ने जयपुर की जनगणना करवाई थी। तब 1 लाख 60 हजार 167 लाेग थे। 1911 में शहर की जनसंख्या 1.37 लाख रह गई थी। 10 साल में 23 हजार लाेगाें की कमी हाे गई थी।

1951 में महिला-पुरुष में 65000 से कम का अंतर था

1921 में प्रति हजार पुरुष पर सिर्फ 821 महिलाएं थीं

आजादी के बाद शहरी क्षेत्रों में 1961 से 1971 तक पुरूषों व स्त्रियों के अनुपात में भारी अंतर आया था। 1000 पुरूषों पर 860 स्त्रियां रह गई थी। वहीं, ग्रामीण क्षेत्रों में यह अंतर 1921 में 1000 पुरूषों पर 883 स्त्रियां पाया था। जिले में 110 वर्षों का स्त्री व पुरूष का अनुपात इस प्रकार रहा है।

जिले में शिक्षा का स्तर

जिले में शिक्षा का स्तर 1951 के बाद से बढना शुरू हुआ था। इससे पहले 1901 से 1950 तक कुल आबादी का मात्र 2 प्रतिशत महिलाएं और 13 प्रतिशत पुरूष शिक्षित थे। जिले में 1951 के बाद शिक्षा का स्तर इस प्रकार बढ़ता गया ।