पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिला परिषद चुनाव:कांग्रेस में क्राॅस वाेटिंग पर कलह बढ़ी; दिल्ली पहुंचे वेद साेलंकी, गोविंद राम मेघवाल पर लगाए आरोप

जयपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सोलंकी ने चुनाव पर्यवेक्षक गोविंद राम मेघवाल पर क्रॉस वोटिंग करवाने और उन्हें बदनाम करने की साजिश करने का आरोप लगाया है। - Dainik Bhaskar
सोलंकी ने चुनाव पर्यवेक्षक गोविंद राम मेघवाल पर क्रॉस वोटिंग करवाने और उन्हें बदनाम करने की साजिश करने का आरोप लगाया है।
  • सोलंकी ने ऑडियाे, वीडियाे, फाेटो और सीसी टीवी फुटेज आलाकमान काे दिए

जयपुर जिला परिषद चुनाव में क्राॅस वाेटिंग मामले में कांग्रेस विधायक वेद प्रकाश सोलंकी दिल्ली में हैं। उन्हाेंने कांग्रेस के सह प्रभारी तरुण कुमार से मुलाकात करके अपना पक्ष रखा है। अजय माकन से मुलाकात नहीं हुई है। माकन के ऑफिस से फिलहाल उन्हें कोई समय नहीं दिया गया है। तरुण कुमार ने भी इस मामले में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

तरुण कुमार ने सोलंकी ने कहा है कि जब उनके पास इनपुट आएगा तब इस बारे में बात करेंगे। सोलंकी का कहना है कि उन्हें किसी ने नहीं बुलाया, वे खुद ही दिल्ली अपना पक्ष रखने के लिए गए हैं। सोलंकी ने अपनी तरफ से भी एक रिपोर्ट राहुल गांधी, सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी व अजय माकन को भेजी है। इसमें सोलंकी ने चुनाव पर्यवेक्षक गोविंद राम मेघवाल पर क्रॉस वोटिंग करवाने और उन्हें बदनाम करने की साजिश करने का आरोप लगाया है।

सोलंकी पर लगे थे क्रॉस वोटिंग के आरोप
पिछले दिनाें कांग्रेस की ओर से एक रिपाेर्ट तैयार करके आलाकमान काे भेजी गई, जिसमें जयपुर में हुई क्रास वाेटिंग के लिए सीधे ताैर पर पायलट गुट के विधायक वेद प्रकाश साेलंकी काे जिम्मेदार ठहराया गया था। उसी के काउंटर में साेलंकी दिल्ली पहुंचकर आलाकमान के सामने अपना पक्ष रख रहे हैं।

बताया जा रहा है कि साेलंकी की ओर से ऑडियाे, वीडियाे, फोटो और सीसी टीवी फुटेज भी कांग्रेस आलाकमान काे दिए गए हैं। इसमें क्राॅस वाेटिंग कराने वाले कांग्रेस पदाधिकारियों के बारे में बताया गया है। सोलंकी ने कहा कि पुष्कर के जगत रिजॉर्ट में भाजपा के कैंप में कांग्रेस के लोग भी मौजूद थे। इस मामले की जांच पार्टी को करानी चाहिए, जिससे सच सामने आ सके।

जैसलमेर, भरतपुर को लेकर भी उठ रहे हैं सवाल
पायलट समर्थक विधायकाें की ओर से बार-बार जैसलमेर और भरतपुर में हुए क्राॅस वाेटिंग के मामले काे भी उठाया जा रहा है। पूछा जा रहा है कि जैसलमेर में किसने क्रॉस वाेटिंग की, जिससे भाजपा का व्यक्ति जिला प्रमुख बन गया। जबकि भरतपुर में दाे मंत्री हाेने के बावजूद कांग्रेस का व्यक्ति जिला प्रमुख नहीं बन पाया।