पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

30 साल पहले बने सीवरेज मास्टर प्लान की मियाद पूरी:3620 करोड़ के ड्रेनेज प्लान जमींदोज, दोनों अधूरे काम से जमीनी संतुलन गड़बड़ा रहा

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • मेंटिनेंस ना होने से बारिश का पानी या तो सीवर साफ करता है या छोटी लाइनों को चोक

शहर में सीवरेज के मास्टर मास्टर प्लान की मियाद पूरी हो चुकी है। न तो इस ओर कोई प्लान है, न ही मास्टर ड्रेनेज को लेकर प्लानिंग साकार हो रही है। सीवरेज की लाइनें पुरानी हो रही हैं, वहीं पानी, केबल, अधूरा ड्रेनेज सिस्टम इस समस्या को और बढ़ा रहा है। जमीन में कई लाइनें गुंथी हुई है, जिससे अक्सर सीपेज-लीकेज-चोक की परेशानी आ खड़ी होती है। रही-सही समस्या इन लाइनों के मेंटिनेंस को लेकर आ रही है। इस ओर प्रॉपर कोई मैकेनिज्म ही नहीं है। केवल बरसात के भरोसे लाइनें साफ होती हैं या चोक होकर बाद में ब्लास्ट।

65% एरिया सीवरेज से कवर, लीकेज-डेमेज का कोई ढंग विकसित नहीं
शहर में 60 हजार किमी से ज्यादा सीवरेज लाइनें हैं। पीएचईडी, आरयूआईडीपी, नगर निगम और जेडीए समय-समय पर इस ओर काम करता रहा है। सीवरेज लाइनों से 65 फीसदी एरिया कवर है। अभी भी बढ़ते शहर, नई स्कीमों, आउटर एरिया में काम होने हैं। किसी के पास लीकेज-डेमेज-चोक पता करने का सिस्टम नहीं है और न ही फ्लो नापने का तरीका है। निगम के संबंधित एक्सईएन दिनेश गुप्ता का कहना है अभी ऐसी टेक्नोलॉजी नहीं है।

इधर ड्रेनेज के हालात: 3620 करोड़ के प्लान कभी धरातल पर उतरे नहीं
बीजेपी सरकार में जेडीए ने 3620 करोड़ का मास्टर ड्रेनेज का प्लान तैयार किया था। 2534 करोड़ जेडीए और 1086 करोड़ निगम रीजन पर खर्च होना था। 2016 में केंद्र की एजेंसी (एनसीआरपीबी) से लोन की फाइल चलाई गई, लेकिन फिर सरकार ने इसमें गारंटर बनने से इंकार कर दिया।

पहले फेज में कई पॉश एरिया में काम होने थे, 1775 करोड़ के प्लान बेकार
^ पहले फेज में 1775 करोड़ से विद्याधर नगर, मुरलीपुरा, सीकर रोड, झोटवाड़ा, खातीपुरा, वैशाली नगर, श्याम नगर, जगतपुरा, मालवीय नगर व पीआरएन में काम होने थे। ये वे पॉश एरिया हैं, जहां ड्रेनेज का काम नहीं हुआ।
-उमेश धींगड़ा, रिटायर्ड चीफ इंजीनियर, पीएचईडी

एक्सपर्ट कॉल: सीवरेज-ड्रेनेज प्लान जरूरी, फोकस एरिया में केवल मेंटिनेंस
हमारे यहां जमीनी स्लोप अच्छे हैं, जिससे लाइन चलती है। विद्याधर नगर से डेलावास सीवरेज प्लांट तक 44 मीटर तक ढलान है। हमारा फोकस एरिया मेंटिनेंस होना चाहिए। साथ ही अब जरूरत है सीवरेज प्लान को दुबारा तैयार करें। क्योंकि यह 1991 की डिजाइन हुआ था, जो 30 के लिए गया। साथ ही ड्रेनेज प्लान भी बनना जरूरी है। कभी बरसात के दिनों में पानी सीवरेज से निकलता है तो 600-700 एमएम की लाइनों को तो साफ करता जाता है, लेकिन इससे नीचे 200 एमएस से शुरू होने वाली लाइनें चोक भी हो जाती हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें