कोहरा बेअसर होगा:जयपुर में दिल्ली से एक समय में डायवर्ट 9 फ्लाइट्स की हो सकेगी आसान लैंडिंग

जयपुरएक महीने पहलेलेखक: शिवांग चतुर्वेदी
  • कॉपी लिंक

कोहरे से फ्लाइट संचालन प्रभावित नहीं हो, इसे देखते हुए एयरपोर्ट प्रशासन ने तैयारी पूरी कर ली है। न केवल जयपुर में फ्लाइट्स का नियमित संचालन संभव हो सकेगा, बल्कि दिल्ली से डायवर्ट होकर आने वाली फ्लाइट्स को भी आसानी से हैंडल किया जा सकेगा। दरअसल जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से हर दिन 57 फ्लाइट्स का संचालन हो रहा है।

जयपुर एयरपोर्ट पर कोहरे के दौरान फ्लाइट डायवर्जन की नौबत नहीं आएगी क्योंकि यहां बड़े जम्बोजेट विमानों की लैंडिंग के लिए रनवे 11500 फीट लंबा है। रनवे पर कैट थ्री बी लाइटिंग और साइनेज सिस्टम इंस्टॉल किया हुआ है। इससे मात्र 75 मीटर की रनवे दृश्यता में भी विमानों की लैंडिंग कराई जा सकती है। आमतौर पर कोहरे में भी जयपुर एयरपोर्ट पर 100 मीटर से ज्यादा ही होती है, ऐसे में फ्लाइट्स पर असर नहीं होगा।

दिल्ली एयरपोर्ट का बड़ा सहारा है हमारा जयपुर

  • एयरपोर्ट पर 75 मीटर तक की दृश्यता में विमान उतर सकेंगे।
  • दिसंबर अंत तक दिल्ली एयरपोर्ट पर घना रह सकता है।
  • दिल्ली की फ्लाइट 3 एयरपोर्ट पर डायवर्ट होती हैं।
  • जयपुर, लखनऊ और अमृतसर में जयपुर प्राथमिकता में है।
  • जयपुर एयरपोर्ट पर 33 विमानों की पार्किंग क्षमता है।
  • 9 पार्किंग वे कैट थ्री बी लाइटिंग सुविधा से हैं युक्त
  • दिल्ली के 9 फ्लाइट्स का डायवर्जन आसानी से हो सकता है।

19 पार्किंग-वे नए बनाए, पर किसी काम के नहीं
जयपुर एयरपोर्ट पर टैंगो टैक्सी पर 2 साल पहले 19 पार्किंग-वे बनाए गए हैं। यहां आधुनिक लाइटिंग उपकरण नहीं लगाए गए हैं। कैट थ्री बी लाइटिंग सिस्टम के इंस्ट्रूमेंट यहां पर नहीं लगाए जाने से कम दृश्यता में पार्किंग वे पर विमानों को पार्क कर पाना संभव नहीं है। इसके लिए जल्द ही जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन को इन पार्किंग वे को तैयार करवाना होगा। यदि ये पार्किंग वे तैयार हो जाते हैं, तो 28 कैट थ्री बी लाइटिंग सिस्टम युक्त पार्किंग वे उपलब्ध होंगे। इस तरह कम दृश्यता में बड़ी संख्या में विमानों को संचालित कर पाना संभव हो सकेगा।

खबरें और भी हैं...