पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Electrification On 1885 Km In 5491, One And A Half Thousand Out Of The Remaining 3606 Km This Year, In Reality, Electric Trains Are Running Here Only 500 Km

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इलेक्ट्रिक ट्रेन:5491 में 1885 किमी पर विद्युतीकरण, बचे 3606 किमी में से डेढ़ हजार पर इस साल, हकीकत, यहां 500 किमी ही दौड़ रहीं हैं इलेक्ट्रिक ट्रेनें

जयपुरएक महीने पहलेलेखक: शिवांग चतुर्वेदी
  • कॉपी लिंक
  • रेलवे इलेक्ट्रिफिकेशन के अलावा अन्य एजेंसियां आने से आई समस्या, अब नए टेंडरों में एक ही एजेंसी को दिया जा रहा है सारा काम

रेलवे द्वारा उत्तर पश्चिम रेलवे (राजस्थान का 90 फीसदी क्षेत्रफल) में पिछले कुछ समय से रेलवे ट्रैक पर बिजली के तार बिछाने का काम किया तो जा रहा है, लेकिन वास्तविकता में प्रदेश में अभी करीब सिर्फ 500 किमी में ही इलेक्ट्रिक ट्रेन चलाई जा रही है। यानी असलियत में रेलवे अधिकारी इन दिनों काम को पूरा करने और ट्रेन चलाने में कम और रेलमंत्री और सीआरबी की गुड बुक्स में नाम शामिल कराने में ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि राजस्थान के 5491 किमी क्षेत्रफल में फैले रेलवे ट्रैक पर 1885 किमी ट्रैक पर विद्युतीकरण कर तो लिया गया है। लेकिन अभी ट्रेन महज करीब 500 किमी में ही दौड़ रही है। जबकि वर्ष 2019 में ये महज 200 किमी ट्रैक पर ही दौड़ रही थी।

अलग संगठन है फिर भी काम दूसरे को
दरअसल करीब 10 साल पहले देशभर इलेक्ट्रिफिकेशन के काम में तेजी लाने के लिए केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन (कोर) बनाई गई, जिसका मुख्यालय इलाहाबाद रखा गया, लेकिन पिछले कुछ समय से इन कार्यों में कोर के अधिकारियों की मिलीभगत सामने आने से ये काम रेलवे के पीएसयू को भी दिया जाने लगा, जिसमें इरकॉन, आरवीएनएल, रेलवे का कंस्ट्रक्शन विभाग, सहित अन्य पीएसयू शामिल है।

इन एजेंसी के शामिल होने से अलग-अलग रेल ट्रैक पर काम पूरा होने के बाद भी तकनीकी कारणों के चलते ट्रेन नहीं चल सकी। रेलवे बोर्ड के अलावा आर ई भी इन एजेंसियों को देरी होने के बाद भी कुछ नहीं कह सकता। रेलवे बोर्ड के अधिकारियों की मानें कार्य में देरी की एक ये भी वजह है।

इस साल पश्चिमी राजस्थान में इपीसी के जरिए बिछेंगे ट्रैक पर बिजली के तार

रेलवे द्वारा पश्चिमी राजस्थान में अगले तीन साल में रेलवे ट्रैक पर बिजली के तार बिछाने का काम पूरा कर लिया जाएगा। रेलवे ने इसकी रूप रेखा तैयार कर ली है। केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन (कोर) केपी एल मीना ने बताया कि जयपुर प्रोजक्ट द्वारा बिरधवाल-लालगढ़-फलौदी, जैसलमेर-भगत की कोठी और भगत की कोठी-भिलड़ी के बीच ट्रैक पर इलेक्ट्रिफिकेशन किया जाएगा। कोर ने इसे पूरा करने की जिम्मेदारी एलएंडटी को सौंप दी है। कंपनी अगले माह से काम शुरू कर देगी।

तब इस लिपापोती पर एडिशनल जीएम ने अधिकारियों को फटकारा था

वर्ष 2019 सितंबर में उप रेलवे के अपर महाप्रबंधक (एजीएम) एसके अग्रवाल ने विद्युत विभाग के अधिकारियों से इलेक्ट्रिफिकेशन को लेकर कई सवाल-जवाब किए, जिसमें अधिकारियों ने उन्हें इलेक्ट्रिक किए जा चुके रुट की जानकारी दी। इस पर अग्रवाल ने सभी को फटकार लगाते हुए निर्देश दिए कि इलेक्ट्रिफिकेशन से जुडे काम को तय समय सीमा में पूरा करने के साथ किए जा चुके इलेक्ट्रिफाइड रुट पर ट्रेनों का संचालन भी शुरू करें और अगर कोई तकनीकी परेशानी आती है बताएं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें