पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इंजीनियरिंग एंट्रेंस:एनआईटी में एडमिशन की पात्रता अब हुई आईआईटी से भी मुश्किल

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • आईआईटी दाखिले में इस साल भी 75% अंक जरूरी नहीं बोर्ड में
  • इस साल भी आगे बढ़ेगा आईआईटी का सेशन, 3 अटैम्प्ट पर कुछ नहीं बोले केंद्रीय शिक्षा मंत्री

देश के एनआईटीज में दाखिले के लिए छात्र को संबंधित बोर्ड में 75 प्रतिशत अंक हासिल करने होंगे, लेकिन आईआईटी में दाखिले के लिए यह बाध्यता नहीं होगी। मतलब, टियर टू संस्थानों (एनआईटी) के लिए टियर वन (आईआईटी) से भी मुश्किल पात्रता रहेगी।

यह स्थिति बनी है गुरुवार को केंद्रीय शिक्षामंत्री रमेश पोखरियाल के जेईई एडवांस्ड की तारीख व एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया की घोषणा करने के बाद। दरअसल, जेईई मेन के इंफॉर्मेशन ब्रोशर में यह स्पष्ट है कि एनआईटी सिस्टम में दाखिले के लिए छात्र को संबंधित बोर्ड में 75 प्रतिशत अंक हासिल करने होंगे।

दूसरी ओर, गुरुवार शाम को सोशल मीडिया पर लाइव आए केंद्रीय मंत्री ने सिर्फ आईआईटी का जिक्र करते हुए बोर्ड में 75 प्रतिशत अंकों की बाध्यता से छूट दे दी। जेईई एडवांस्ड इस साल तीन जुलाई को होगा। इसके बाद परिणाम आएगा और कम से कम एक माह तक काउंसलिंग चलेगी। ऐसे में अगस्त तक आईआईटीज में दाखिले की प्रक्रिया पूरी होगी। यानि पिछले साल की तरह आईआईटी का सेशन इस साल भी लेट होगा।

केंद्रीय मंत्री ने लाइव आकर मात्र तारीख व एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया का ही एलान किया। हालांकि 75 प्रतिशत अंकों की बाध्यता में छूट मिलने से एडवांस्ड देने वाले छात्रों को राहत मिलेगी, लेकिन एनआईटी एडमिशन को लेकर असमंजस बन गया है। एक्सपर्ट देव शर्मा ने बताया कि अभी तक मेन के ब्रोशर में 75 प्रतिशत का क्राइटेरिया दिया गया है। शिक्षा मंत्रालय को जल्द ही स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।

कोविड की वजह से अधूरी थी तैयारी, इसीलिए कर रहे थे मांग

पिछले साल जेईई मेन का लास्ट अटैम्प्ट देने वाले छात्र इस साल भी एक और अटैम्प्ट की मांग कर रहे थे, लेकिन शिक्षा मंत्री तीसरे अटैम्प्ट के मुद्दे पर कुछ नहीं बोले। छात्रों का कहना था कि पिछले साल कोविड की वजह से उन्होंने अधूरी तैयारियों के साथ पेपर दिया, इस कारण असर रिजल्ट पर आया। इसी वजह से उन्हें एक और मौका देना चाहिए।

फरवरी में जेईई मेन क्रैक करने से एडवांस्ड में मिलेगा फायदा
जेईई मेन का आखिरी स्लॉट मई में होगा। तीन जुलाई को एडवांस्ड प्रस्तावित है। ऐसे में मई मेन देने वालों को एडवांस्ड देने के लिए करीब एक माह का ही समय मिलेगा। जो छात्र फरवरी में ही एडवांस्ड के लिए योग्य हो जाएंगे उन्हें तैयारियों के लिए पांच से छह माह का समय मिल जाएगा।

शेड्यूल के साथ फीस की जानकारी मिलेगी ब्रोशर में
अब जेईई के इंफॉर्मेशन ब्रोशर में ही फीस, शेड्यूल आदि की स्थिति साफ होगी। फरवरी में जेईई मेन शुरू हो जाएगा। इस साल जेईई एडवांस्ड की जिम्मेदारी आईआईटी खड़गपुर को सौंपी गई है। साल 2020 में आईआईटी दिल्ली ने यह एग्जाम करवाया था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें