• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Expert Said – Vaccine Is Like A Helmet, Helmet Does Not Prevent Death From Accident, In The Same Way Vaccine Prevents Death Not From Infection

CM गहलोत का कोरोना वैक्सीनेशन पर संवाद:मंत्री धारीवाल बोले- राजस्थान में नदी में आपको तैरती लाश नहीं मिलेगी, हम तो ऑक्सीजन के लिए कटोरा लेकर दिल्ली में भीख मांग रहे थे, वो भी न मिली

जयपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना वैक्सीनेशन पर सीएम की लाइव वीसी। - Dainik Bhaskar
कोरोना वैक्सीनेशन पर सीएम की लाइव वीसी।

प्रदेश में कोरोना के मामले कम होने के साथ ही अब वैक्सीनेशन पर फोकस किया जा रहा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत वीसी के जरिए आज पंचायत स्तर से लेकर ब्लॉक और जिला लेवल तक वैक्सीनेशन पर संवाद कर रहे हैं। यूडीएच मंत्री शांति लाल धारीवाल ने कहा- दूसरे राज्यों का हाल देखें तो राजस्थान में किसी नदी या बांध में आपको तैरती लाश नहीं मिलेगी। जाने किस किनारे लाश मिल जाए, यह दूसरे राज्यों का हाल है। विदेशों में भी यह पूछा जा रहा है कि राजस्थान में ऐसा क्या मैनेजमेंट किया।

धारीवाल ने कहा, विदेशों में यह पूछा जा रहा है कि अकेला भारत ही कोरोना से इस तरह प्रभावित हुआ। केवल भाषण होते रहे धरातल पर कुछ हुआ नहीं, इसलिए यह सब हुआ। देश के किसी राज्य में मास्क की अनिवार्यता का कानून नहीं है, हमारे यहां मास्क लगाने को कानून बनाकर अनिवार्य किया गया है।

गहलोत बोले- कोरोना बहुरूपिया की तरह रंग बदलता है, तीसरी वेव आएगी या नहीं, कह नहीं सकते

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा- कोरोना के म्यूटेंट बदलते जा रहे हैं। डेल्टा वैरिएंट ने दूसरी लहर में मृत्यु दर बढ़ा दी, यह बहुत घातक था। पहली वेव में तो लग रहा था कि भारत और आसपास के देशों में इम्यूनिटी ज्यादा थी, इस वजह से असर नहीं हुआ। दूसरी लहर ने हिलाकर रख दिया। दिल्ली में जयुपर गोल्डन अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म होने से 26 लोग मर गए, एक बार तो मैं भी जयपुर का नाम सुनकर हिल गया था। कोरोना बहुरूपिया की तरह रूप बदलता है। तीसरी लहर आएगी या नहीं, किसी को नहीं पता। दूसरी लहर भी अचानक आई थी। कह रहे हैं कि तीसरी लहर बच्चों को प्रभावित ​करेगी।

हमें केंद्र के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ा, तब फ्री वैक्सीनेशन का फैसला हुआ
गहलोत ने कहा- पहले राज्यों पर 18 साल से 44 साल वालों के वैक्सीनेशन का भार डाला। राजस्थान सहित तीन चार राज्यों को भारत सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ा। इसके बाद ही केंद्र पर दबाव पड़ा और फिर उसने वैक्सीनेशन का काम हाथ में लिया। भारत सरकार का कोरोना पैकेज डिफेक्टिव हे। अनाथ बच्चों को 18 साल बाद देने की बात कही है, 18 साल बाद किसने देखा तत्काल कुछ देना चाहिए। मैं इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री से बात करूंगा। राजस्थान सरकार ने कोविड से मरने वालों के लिए पैकेज घोषित किया है, जिसमें अनाथ बच्चे विधवा को तत्काल एक लाख रुपए और मासिक राशि देने का प्रावधान किया है।
राजस्थान में एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी रही कोरोना में व्यवस्था
गहलोत ने कहा कि मुझे दो वैक्सीन लगी थी, मुझे भी कोरोना हो गया। लेकिन माइल्ड होने से जान का खतरा नहीं रहा। राजस्थान की व्यवस्था एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी रही। पूरे देश में वैक्सीनेशन में महाराष्ट्र और राजस्थान टॉप पर थे। भारत सरकार ने भी तारीफ की। हमारी रोज की कैपेसिटी 15 से 20 लाख वैक्सीन रोज लगाने की है। केंद्र सरकार जब तक पूरी वैक्सीन डोज नहीं मिलेगी, तब तक इस क्षमता का क्या फायदा। गहलोत ने कहा- एक सर्वे में सामने आया कि राजस्थान में वैक्सीन लगाने से मना करने वाले बहुत कम लोग हैं। सर्वे में केवल 10 फीसदी लोग ही ऐसे थे, जिन्होंने वैक्सीन लगावाने से मना किया।

स्वास्थ्य मंत्री बोले- राजस्थान वैक्सीनेशन में अव्वल

स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि राजस्थान सरकार वैक्सीनेशन में अव्वल है। हमारी बेवजह खूब आलोचना की गई लेकिन हमने वैक्सीनेशन की रफ्तार नहीं रुकने दी। अभी भी हम एक दिन में 15 ​लाख वैक्सीनेशन की क्षमता रखते हैं। केंद्र सरकार हमें कम से कम 60 लाख वैक्सीन की डोज तो एडवांस दे। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर कह रहे हैं कि दिसंबर तक सबको वैक्सीनेट कर देंगे, लेकिन रोडमैप अब तक नहीं बताया।

विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी बोले- हमें 70 फीसदी आबादी को जल्द से जल्द वैक्सीनेट करना होगा

विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने कहा- हमें लक्ष्य बनाकर वैक्सीनेशन करना होगा। हमारा 18 से 45 साल एजग्रुप का सेक्शन बचा हुआ है, उसे लक्ष्य बनाकर वैक्सीनेट करना होगा। प्रिवेंटिव डिपार्टमेंट के पास पूरे डेटा होने चाहिए। राजस्थान पहला प्रदेश होना चाहिए, जहां 70 फीसदी वैक्सीनेशन जल्द से जल्द पूरा करें, तभी हम तीसरी लहर को रोक पाएंगे।

एक्सपर्ट बोले- वैक्सीन हेलमेट की तरह

सीएम के कोरोना कोर कोर ग्रुप से जुड़े एक्सपर्ट डॉ. वीरेंद्र सिंह ने कहा- कोरोना वैक्सीन हेलमेट की तरह है, इंफेक्शन से नहीं बचाता है मौत से बचाता है। तीसरी वेव में दो तीन माह का हमें वक्त मिला है। हमें ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगा देनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...