नहीं पकड़े गए अनिता देवी का एक भी हत्यारे:8 दिन में नहीं पकड़े गए महिला को जिंदा जला देने वाले आरोपी

जयपुरएक महीने पहले

शिक्षित अनिता देवी को जिंदा जलाने वाले बदमाश आज भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। कल जयपुर ग्रामीण पुलिस ने परिवार के सदस्यों को आश्वासन दिया था कि वह जल्द बदमाशों को पकड़ेंगे, लेकिन अब तक जयपुर ग्रामीण पुलिस के हाथ खाली हैं। जिम्मेदारों का कहना है कि पुलिस बदमाशों को पकड़ने के प्रयास कर रही हैं। परिवार ने कल अनीता देवी का पूरे रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार कर दिया।

आज राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष रेहाना रिहाज और जयपुर ग्रामीण सांसद राज्यवर्धनसिंह भी मृतका अनीता देवी के घर पहुंचे। परिजनों से मिले रेहाना रिहाज ने भी परिवार के लोगों को हर सम्भव मदद का आश्वासन दिया। इस दौरान परिवार के सदस्यों ने बताया कि कैसे मृतका ने मरने से पहले थाने के हैड कांस्टेबल विनोद गुर्जर को फोन कर मदद मांगी, लेकिन ना तो पुलिस आई ना ही गांव के किसी व्यक्ति ने उसे बचाया।

घटना के बाद से मृतका का पति ताराचंद पुलिस मुख्यालय भी गया आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर लेकिन वहां पर भी कोई सुनवाई नहीं हुई। हर जगह से पीड़ित परिवार को आश्वासन मिल रहा हैं। अब तक लापरवाही करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया। जयपुर ग्रामीण सांसद राठौड़ ने कहा कि सरकार को तीन दिन का समय दिया गया है आरोपी पकडे जाए साथ ही इस परिवार को आर्थिक सहायता में 50 लाख रुपए दिए जाए। साथ ही बच्चों की परवरिश की पूरी जिम्मेदारी राज्य सरकार उठाए।

नामजद हैं अनीता के हत्यारे
शिक्षिका अनीता को जिंदा जलाने वालों के नाम पुलिस को पूर्व में दिए जा चुके हैं। अनीता ने मरने से पहले भी बताया था कि कैसे उसे जलाया गया। अनीता ने बताया था कि ताऊ ससुर कान्हाराम का वार्ड पंच बेटा बाबूलाल रैगर, रामकरण और उनके परिवार के प्रहलाद, राजेन्द्र, विमला देवी, सरस्वती, सुलोचना और अर्चना ने उसके साथ मारपीट की फिर उसे आग के हवाले कर दिया। नामजद सभी आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर हैं।

खबरें और भी हैं...